गाइनेकोमेस्टिया से कैसे बचें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 14, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गाइनेकोमेस्टिया के कारण हो सकता है स्‍तन कैंसर।
  • पुरुषों में यह बीमारी हार्मोन बदलाव के कारण होती है।
  • 50 साल के बाद पुरुषों में अधिक होती है यह समस्‍या।
  • अवैध ड्रग्‍स और शराब के अधिक सेवन से बचना चाहिए।

पुरुषों में जब स्‍तन के ऊतकों में सूजन आती है तब उस स्थिति को गाइनेकोमेस्टिया कहते हैं। यह पुरुषों की सामान्‍य बीमारी है जो टेस्‍टोस्‍टेरॉन और एस्ट्रोजेन हार्मोन में गड़बड़ी होने की वजह से होता है।

Prevent Gynecomastiaगाइनेकोमेस्टिया की वजह से ब्रेस्‍ट कैंसर हो सकता है। कई शोधों में यह बात सामने आयी है।  इस बीमारी में भी स्‍तनों में अनियंत्रित रूप से ऊतकों में वृद्धि होती है। गाइनेकोमेस्टिया के लिए काफी हद तक आनुवांशिक कारण जिम्‍मेदार होते हैं। लेकिन यदि यह समस्‍या यदि आनुवांशिक न हो तो कुछ बातों को ध्‍यान में रखकर इससे बचाव किया जा सकता है।

 

क्‍या है गाइनेकोमेस्टिया

पुरुषों में होने वाली यह बीमारी हार्मोन में गड़बड़ी के कारण होती है। गाइनेकोमेस्टिया होने पर पुरुषों के स्‍तनों में बढ़ोतरी हो जाती है। यह एक या दोनों स्‍तनों को प्रभावित कर सकता है। जब‍ बच्‍चे बड़े होते हैं यानी युवावस्‍था में आते हैं तब भी यह समस्‍या हो सकती है और उम्र के ढलान के समय भी पुरुष इसकी गिरफ्त में आ सकते हैं, क्‍योंकि इस दौरान हार्मोन में बदलाव होता है। हालांकि यह कोई गंभीर समस्‍या नहीं है लेकिन इस स्थिति से उबरना मुश्किल होता है। गाइनेकोमेस्टिया के कारण पुरुषों के स्‍तनों में दर्द हो सकता है। सर्जरी और दवाओं के द्वारा इसका उपचार किया जा सकता है।

 

गाइनेकोमेस्टिया से बचाव

 

उम्र का पड़ाव

गाइनेकोमेस्टिया की समस्‍या 50 साल की उम्र के बाद के लोगों में अधिक दिखाई देती है। इसके अलावा जब बच्‍चा युवावस्‍था में प्रवेश करता है तब यह समस्‍या हो सकती है। क्‍योंकि इस दौरान हार्मोन में बदलाव होता है और यह बीमारी हार्मोन में बदलाव के कारण होती है। इसलिए 50 की उम्र के बाद गाइनेकोमेस्टिया के प्रति सजग रहें, यदि आपके स्‍तनों में कोई परिवर्तन दिखे तो उसका इलाज करायें।


ड्रग्‍स का सेवन न करें

अफीम, चरस, हेरोइन आदि के शौकीनों को यह बीमारी हो सकती है। पिछले दिनों इस पर हुए एक शोध में भी यह बात सामने आयी। इंफॉर्मेशन नाइजीरिया की खबर के अनुसार, गांजा, भांग और चरस का इस्तेमाल करने वाले मर्दों में महिलाओं जैसे स्तन आ जाते हैं। डेट्रॉयट के एक प्लास्टिक सर्जन के अनुसार इन ड्रग्‍स का सेवन करने वाले मर्दों में स्तन आने की पूरी आशंका होती है। इसलिए इनका सेवन करने से बचें।

 

शराब न पियें

एल्‍कोहल के शौकीनों के लिए यह बुरी खबर हो सकती है। अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने से गाइनेकोमेस्टिया की समस्‍या हो सकती है। इसलिए शराब का सेवन अधिक न करें, यदि शराब छोड़ नहीं सकते, तो इसकी मात्रा को नियंत्रित कर दीजिए, यानी शराब का सेवन कम कर दीजिए।

 

दवाओं का सेवन

एंटी‍बॉयटिक दवाओं का अधिक सेवन करने से भी गाइनेकोमेस्टिया होने की संभावना बढ़ जाती है, क्‍योंकि ये आपके हार्मोन को प्रभावित करते हैं। इसलिए सामान्‍य बीमारियों के लिए एंटीबॉयटिक का सेवन बिलकुल न करें। इसके अलावा यदि आपको कोई बीमारी है और उसका इलाज चल रहा है, और इसकी वजह से आपके स्‍तनों में बदलाव हो रहा है तो चिकित्‍सक से इस बारे में सलाह कर लीजिए।

 

पारिवारिक इतिहास

गाइनेकोमेस्टिया आनुवांशिक बीमारी भी है, यदि आपके परिवार में यह समस्‍या किसी को हुई है तो यह आपको भी हो सकता है। इसके अलावा बच्‍चे को यह बीमारी मां के जरिये भी मिलती है। गर्भावस्‍था के दौरान हार्मोन में बदलाव होता है और इस बदलाव के कारण बच्‍चे को गाइनेकोमेस्टिया भी हो सकता है।

 

वजन कम करें

यदि आपका वजन अधिक है तो इसके कारण गाइनेकोमेस्टिया हो सकता है, इसलिए अनचाहे फैट को शरीर से कम कीजिए। क्‍योंकि मोटापे के कारण भी पुरुषों के स्‍तनों के आसपास अतिरिकत चर्बी जमा हो सकती है और यह इस बीमारी का कारण बन सकता है।



गाइनेकोमेस्टिया के उपचार सर्जरी के जरिये हो सकता है। इसके लक्षणों को पहचानने के लिए आप अपने आप ही अपने स्‍तनों का परीक्षण कीजिए और यदि कोई बदलाव दिखे तो चिकित्‍सक से संपर्क कीजिए।

 

 

Read More Articles on Mens Health in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES26 Votes 6119 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • mohit singh14 Jan 2014

    ye bahut hi achchi jankari hai, aur ye bhi breast cancer ka karan ban sakta hai. but aajki lifstyle jis tarah se hai uske hisab se to to ye beemari sabko ho sakti hai, lekin aapne jo baatein batayi hai usase isake khatare ko kam kiya ja sakata hai.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर