खाद्य पदार्थ में रंग बनाते हैं बच्चों को अतिक्रियाशील

By  ,  दैनिक जागरण
Feb 04, 2011
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

खाद्य पदार्थ में रंगखाद्य पदार्थो को दिखने में आकर्षक बनाने और उन्हें लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कृत्रिम रंगों और सोडियम बेंजोएट (प्रिजर्वेटिव) का बच्चों पर बेहद नकारात्मक असर पड़ता है। केमिकल और रंगों का असर आठ से नौ साल की उम्र के बच्चों पर सबसे ज्यादा पाया गया।

 

हाल में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि ये केमिकल न सिर्फ बच्चों में हाइपरएक्टिवनेस (अतिक्रियाशीलता) के लिए जिम्मेदार होते हैं बल्कि उन्हें लापरवाह और जिद्दी भी बना देते हैं।

 

शोध के मुताबिक बच्चों की खुराक पर नियंत्रण रखकर उनकी अतिक्रियाशीलता को नियंत्रित किया जा सकता है।
ब्रिटेन की साउथेम्पटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने तीन साल आयुवर्ग के 153 और 8-9 साल आयुवर्ग के 144 बच्चों को शोध में शामिल किया। उन्हें दो ग्रुपों में बांटा गया। एक ग्रुप के बच्चों को फलों का जूस दिया गया, जबकि दूसरे वर्ग के बच्चों को रंगों वाला कृत्रिम पेय दिया गया। कृत्रिम पेय को भी दो वर्ग 'मिक्स ए' और 'मिक्स बी' में बांटा गया।

 

मिक्स ए में रंगों और प्रिजर्वेटिव की मात्रा मिक्स बी से दोगुनी रखी गई। ट्रायल के दौरान माता-पिता और शिक्षकों से बच्चों के व्यवहार में आ रहे बदलाव पर निगाह रखने को कहा गया। छह हफ्तों के ट्रायल के बाद पाया गया कि मिक्स ए का तीन साल के बच्चों पर प्रभाव बेहद प्रतिकूल था। मिक्स बी का इस आयुवर्ग के बच्चों पर प्रभाव उतना घातक नहीं था। आठ से नौ साल की उम्र के बच्चों पर मिक्स ए और बी का प्रभाव सामन रूप से काफी ज्यादा था। यानी केमिकल और रंगों का असर अधिक आयु के बच्चों पर ज्यादा पड़ा। मनोविज्ञान के प्रोफेसर जिम स्टीवेंसन ने बताया कि स्पष्ट है कि खाद्य पदार्थो में प्रिजर्वेटिव के रूप में इस्तेमाल हो रहे केमिकल और रंगों का बच्चों पर घातक असर पड़ता है।

 

छाया: City plus

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12652 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर