खाद्य पदार्थ में रंग बनाते हैं बच्चों को अतिक्रियाशील

नर्सरी में पढ़ने वाले बच्‍चों को फलों और सब्जि़यों के माध्‍यम से रंग का फर्क तो शायद आपने बताया होगा । लेकिन शायद आपको नहीं पता कि खाद्य पदार्थ में मौजूद रंग का बच्‍चों के स्‍वास्‍‍थ्‍य पर बुरा असर होता हैं ।

 अन्‍य
परवरिश के तरीकेWritten by: अन्‍य Published at: Feb 04, 2011
खाद्य पदार्थ में रंग बनाते हैं बच्चों को अतिक्रियाशील

खाद्य पदार्थ में रंगखाद्य पदार्थो को दिखने में आकर्षक बनाने और उन्हें लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कृत्रिम रंगों और सोडियम बेंजोएट (प्रिजर्वेटिव) का बच्चों पर बेहद नकारात्मक असर पड़ता है। केमिकल और रंगों का असर आठ से नौ साल की उम्र के बच्चों पर सबसे ज्यादा पाया गया।

 

हाल में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि ये केमिकल न सिर्फ बच्चों में हाइपरएक्टिवनेस (अतिक्रियाशीलता) के लिए जिम्मेदार होते हैं बल्कि उन्हें लापरवाह और जिद्दी भी बना देते हैं।

 

शोध के मुताबिक बच्चों की खुराक पर नियंत्रण रखकर उनकी अतिक्रियाशीलता को नियंत्रित किया जा सकता है।
ब्रिटेन की साउथेम्पटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने तीन साल आयुवर्ग के 153 और 8-9 साल आयुवर्ग के 144 बच्चों को शोध में शामिल किया। उन्हें दो ग्रुपों में बांटा गया। एक ग्रुप के बच्चों को फलों का जूस दिया गया, जबकि दूसरे वर्ग के बच्चों को रंगों वाला कृत्रिम पेय दिया गया। कृत्रिम पेय को भी दो वर्ग 'मिक्स ए' और 'मिक्स बी' में बांटा गया।

 

मिक्स ए में रंगों और प्रिजर्वेटिव की मात्रा मिक्स बी से दोगुनी रखी गई। ट्रायल के दौरान माता-पिता और शिक्षकों से बच्चों के व्यवहार में आ रहे बदलाव पर निगाह रखने को कहा गया। छह हफ्तों के ट्रायल के बाद पाया गया कि मिक्स ए का तीन साल के बच्चों पर प्रभाव बेहद प्रतिकूल था। मिक्स बी का इस आयुवर्ग के बच्चों पर प्रभाव उतना घातक नहीं था। आठ से नौ साल की उम्र के बच्चों पर मिक्स ए और बी का प्रभाव सामन रूप से काफी ज्यादा था। यानी केमिकल और रंगों का असर अधिक आयु के बच्चों पर ज्यादा पड़ा। मनोविज्ञान के प्रोफेसर जिम स्टीवेंसन ने बताया कि स्पष्ट है कि खाद्य पदार्थो में प्रिजर्वेटिव के रूप में इस्तेमाल हो रहे केमिकल और रंगों का बच्चों पर घातक असर पड़ता है।

 

छाया: City plus

Disclaimer