इन 5 तरह के दर्द का घर पर ना करें इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 12, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सामान्य से दर्द के प्रति भी ना करे लापरवाही
  • ये दर्द हो सकते है किसी बड़ी बीमारी का संकेत
  • अंदरूनी चोट भी हो सकती है इस दर्द का कारण
  • डाक्टर से मिलने या सलाह लेने मे ना करे देरी

हल्के और कम शारीरिक दर्द का इलाज हम अक्सर खुद ही करने लग जाते है। पर ये सही नहीं है। ये आपकी सेहत को नुकसान पंहुचा सकता है। दर्द जब तक गंभीर ना हो जाए तब तक डॉक्टर के पास नहीं जाते। अगर आपमे भी इस तरह की आदते है तो इन्हें बदल डालिए। सभी तरह के दर्द का इलाज घर पर नहीं किया जा सकता है। कई बार दर्द सही कारण ना पता होने के चलते घरेलू उपायों का असर भी उल्टा पड़ सकता है।


Pain In Hindi

दर्द के साथ बुखार

आगर आपको दर्द के साथ बुखार की समस्या हो तो आप तुंरत ही डाक्टर से मिले।  दर्द में बुखार और थकान का अनुभव, लाल सूजे हुए जोड़ रूमटॉइड आर्थराइटिस का संकेत हो सकता है। ये पुरानी सूजन का नतीजा हो सकता है जो जोड़ो के कार्य को प्रभावित भी कर सकता है।

बायें हाथ मे कसाव

अगर आपके बाएं हाथ में दर्द के साथ कसाव, सीने और पीठ के ऊपरी भाग मे दर्द का अनुभव हो तो ये एंजीना पैक्टोरिस का संकेत होता है। इसमे दिल मे कोने वाले रक्त के संचार में कमी आ जाती है। इसलिए इस तरह के दर्द में भी डाक्टर की सलाह तुंरत लें।

Leg Cramps

पिंडली में खिचाव

पिंडली की मांसपेशियो मे खिचाव औऱ दर्द को भी सामान्य दर्द की तरह नहीं लेना चाहिए। अगर आपकी पिंडलियो की त्वचा का रंग बदल रहा हो या सुन्न हो जाता हो तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसका कारण उस अंग की धमनी में खून की सप्लाई बंद हो जाना हो सकता है।

लंबे समय तक बैकपेन

बैकपेन की समस्या को हम अक्सर ही छोटी समझ कर नजरदांज कर देते है। लेकिन अगर आपको लंबे समय से बैकपेन की समस्या हो तो इस बारे मे डॉक्टर से जरूर सलाह लें। कई बार ऐसे समय मे कमर का सुन्न हो जाना, लिंब्स का टूटना जैसे लक्षण नर्व कम्प्रेशन के होते है।


Fever and pain in Hindi

रात में अचानक से दर्द होना

रात मे सोते समय अगर आपको अचानक से गंभीर और तेज दर्द हो जाता है। एनीमिया, ना पता चलने वाले फ्रैक्चर, इंफैक्शन आदि का समस्या बोन कैंसर के लक्षण होते है। इसे भी हल्के मे नहीं लेना चाहिए। अगर एक से दो बार मे आपको इस तरह के अनुभव हो तो डाक्टर से मिले।  


अगर किसी भी तरह का दर्द तीव्रता औऱ लगातार होता हो तो लापरवाही ना बरतिये। तुंरत ही डाक्टर से सलाह ले।

 

ImageCourtesy@gettyimages

Read More Article on Pain Management in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES21 Votes 8717 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर