मधुमेह रोगियों का आहार कैसा हो

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 21, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Madhumeh ke iaj ke liye ahar in hindiजैसी बीमारी के इलाज में क्रांतिकारी बदलाव ला सकती है जीवन रक्षक इंसुलिन लेने की भी जरूरत नहीं पड़ती
लंदन। मधुमेह (टाइप 2) से ग्रस्त लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। एक नए अध्ययन के मुताबिक सिर्फ चार माह तक कम कैलोरी के भोजन का इस्तेमाल करके इस बीमारी का इलाज हो सकता है। नीदरलैंड के लीडेन विविद्यालय के एक दल का कहना है कि यह खोज इस लाइलाज बीमारी के इलाज में क्रांतिकारी बदलाव ला सकती है। इस बीमारी में पैंक्रियाज इतनी मात्रा में इंसुलिन पैदा नहीं कर पाता कि ग्लूकोज कोशिकाओं में पहुंच सके। अपने अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि मुधमेह (टाइप 2) से ग्रस्त जिन लोगों ने प्रतिदिन के अपने खाने में कैलोरी की मात्रा को कम किया उनकी स्थिति और स्वास्थ्य में दवाओं का इस्तेमाल करने वालों से काफी सुधार देखा गया। उन्हें जीवन रक्षक इंसुलिन लेने की भी जरूरत नहीं पड़ी। इतना ही नहीं, उनके हृदय के आसपास इकट्ठा होने वाले वसा के खतरनाक स्तर में भी कमी देखी गई और उनकी हदय पण्राली में सुधार हुआ। डेली एक्सप्रेस ने अध्ययन के लेखक सेबस्टीयन हेमर के हवाले से कहा, ‘यह देखना अद्भुत है कि किस तरह कम कैलोरी वाले भोजन लेने मात्र से टाइप 2 डायविटीज का इलाज हो सकता है। मरीजों की जीवनशैली और आहार में बदलाव हृदय के लिए दवाओं की तुलना में कई ज्यादा प्रभावकारी हो सकता है।


अध्ययनकर्ताओं ने टाइप 2 मधुमेह से ग्रस्त सात पुरुषों और आठ महिलाओं को 16 हफ्तों तक प्रतिदिन 500 कैलोरी के आहार पर रखा और इस दौरान उनके वजन, शारीरिक क्रियाकलापों तथा दिल पर नजर रखी। कम कैलोरी पर रखने का शोधकर्ताओं ने मरीजों की हृदय की क्षमता में पर्याप्त सुधार पाया। शोधकर्ता कैलोरी ग्रहण को कम करके वजन पर उसका प्रभाव देखना चाहते थे। इसके उन्हें वांछित परिणाम मिले। स्ट्रोक एसोसिएशन की प्रवक्ता का कहना है कि मधुमेह, मोटापा तथा हृदय का पूरी क्षमता से काम न करना स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा देता है जबकि हर कोई अपना वजन कम कर अपनी पूरी सेहत में सुधार ला सकता है। विशेषज्ञों ने इन अध्ययन का स्वागत किया है।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES55 Votes 16024 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • PRADIP KUMAR GHOSH09 Feb 2012

    THIS IS A VERY GOOD STEP AND LET ME KNOW THE NATURE OF DIETS AND HOW MUCH QUANTITY THE DIABETIC PATIENTS SHOULD TAKE

  • pradeep kumar04 Jan 2012

    y ek sandar kosish hai plz aahar batay ki kya khana hai kitni matra mia.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर