हार्ट अटैक के बाद डॉक्टर देते हैं बाईपास सर्जरी या एंजियोप्लास्टी करवाने की सलाह, जानें दोनों में अंतर

हार्ट अटैक के बाद डॉक्‍टर मरीजों को बाईपास सर्जरी करवाने की सलाह देते हैं तो कुछ को एंज‍ियोप्‍लास्‍टी के ल‍िए कहते हैं, जान‍िए‍ दोनों के बीच का फर्क

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 24, 2021
हार्ट अटैक के बाद डॉक्टर देते हैं बाईपास सर्जरी या एंजियोप्लास्टी करवाने की सलाह, जानें दोनों में अंतर

हमारे द‍िल का स्‍वास्‍थ्‍य नाजुक होता है, अगर हम शुरू से इसका ध्‍यान रखें तो हार्ट लंबे समय तक हार्ट हेल्‍दी रह सकता है पर खानपान और खराब जीवनशैली के चलते आजकल कम उम्र में भी हार्ट की बीमार‍ियां हो रही है ज‍िनमें से एक जानलेवा समस्‍या है हार्ट अटैक। ये गंभीर समस्‍या इन द‍िनों युवा वर्ग में भी देखने को म‍िल रही है। हार्ट अटैक आने पर डॉक्‍टर कई तरीकों से इलाज की प्रक्र‍िया पूरी करते हैं ज‍िनमें से दो मुख्‍य तरीके हैं एंज‍ियोप्‍लास्‍टी और बाईपास सर्जरी। दोनों में से मरीज को क‍िस तरीके की जरूरत है ये जानने के ल‍िए ईसीजी टेस्‍ट और एंज‍ियोग्राफी की जाती है। इस लेख में हम एंजियोप्‍लास्‍टी और बाईपास सर्जरी में फर्क समझेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

angioplasty

(image source:onewelbeck)

एंजियोप्लास्टी क्‍या होता है? (What is Angioplasty)

एंज‍ियोप्‍लास्‍टी एक सर्जि‍कल प्रक्र‍िया है जो हार्ट की धमन‍ियों को खोलने का काम करता है। जब हार्ट में ब्‍लॉकेज के कारण ब्‍लड अच्‍छी तरीके से फ्लो नहीं करता है तो सर्जरी की जरूरत पड़ती है। इस प्रक्र‍िया में स्‍टेंट या पतली ट्यूब को धमनी में डाला जाता है ज‍िससे ब्‍लॉकेज खुल जाए। इस प्रक्र‍िया में 30 से 40 म‍िनट का समय लगता है।

एंज‍ियोप्‍लास्‍टी कैसे होती है? (Procedure of Angioplasty)

एंज‍ियोप्‍लास्‍टी के ल‍िए मरीज को दवा दी जाती है, बीपी चेक क‍िया जाता है, एनेस्‍थ‍िस‍िया की जांच की जाती है। एंज‍ियोप्‍लास्‍टी करने से पहले डाई युक्‍त इंजेक्‍शन मरीज को द‍िया जाता है ज‍िससे धमन‍ियां कैमरे में नजर आ सकें। इसके बाद बलून कथेरेटर की मदद से स्‍टेंट को फ‍िट कर द‍िया जाता है।

इसे भी पढ़ें- World Heart Day: युवाओं में द‍िल की बीमारी की ओर संकेत करते हैं ये 5 लक्षण, जानें कैसे रखें हार्ट को हेल्‍दी

बाईपास सर्जरी क्‍या होती है? (What is Bypass Surgery)

bypass surgery

(image source:knowtreatment.com)

बाईपास सर्जरी हार्ट अटैक आने या स्‍ट्रोक के बाद की जाती है। बाईपास सर्जरी होने से द‍िल की मांसपेश‍ियां सही तरह से काम करती है। सर्जरी में ब्‍लड वैसल्‍स को हार्ट से जोड़ा जाता है ताक‍ि धमनी का खराब हुआ भाग बाईपास हो सके। जब द‍िल की मांसपेश‍ियों में खून पहुंचाने वाली धमन‍ियों को नुकसान पहुंचता है तो उन्‍हें ठीक करने के ल‍िए बाईपास सर्जरी जरूरी हो जाती है क्‍योंक‍ि इन धमन‍ियों के माध्‍यम से ही हार्ट में ब्‍लड पहुंचता है और हार्ट में ब‍िना ब्‍लड पहुंचे शरीर के बाक‍ि ह‍िस्‍सों में भी खून के माध्‍यम से ऑक्‍सीजन नहीं पहुंच पाएगी। 

बाईपास सर्जरी कैसे होती है? (Procedure of Bypass Surgery)

बाईपास सर्जरी के ल‍िए छाती के बीच में चीरा लगाया जाता है। जब तक सर्जरी चलती है तब तक कार्ड‍ियोपल्‍मोनरी बाईपास मशीन के जर‍िए शरीर में ऑक्‍सीजन दी जाती है। इस दौरान सर्जन खराब हुई धमनी को ठीक करते हैं। इस सर्जरी में तीन से छह घंटे का समय लगता है। बाईपास सर्जरी एक जट‍िल प्रक्र‍िया है ज‍िसमें धमन‍ियों को ग्राफ्ट‍िंग के ल‍िए समय अध‍िक लगता है, ज‍ितनी ज्‍यादा धमनियों को नुकसान पहुंचेगा उतना ज्‍यादा समय सर्जरी में लगेगा। 

क‍िस स्‍थ‍ित‍ि में की जाती है एंजियोप्लास्टी और बाईपास सर्जरी? (Angioplasty or Bypass Surgery)

heart disease

(image source:shopify)

  • सीने में दर्द या बेचैनी महसूस होने पर आप डॉक्‍टर के पास जाएं, अगर स्‍ट्रेस या अन्‍य क‍िसी कारण के चलते ईसीजी र‍िपोर्ट में बदलाव नजर आ रहा है तो डॉक्‍टर एंज‍ियोग्राफी टेस्‍ट की सलाह देते हैं।
  • डॉ अभ‍िषेक के मुताब‍िक अगर धमनी में एक या दो जगहों पर ब्‍लॉकेज नजर आ रहा है और वो 65 से 70 प्रत‍िशत या उससे अध‍िक है तो डॉक्‍टर आपको दवा और डाइट में बदलाव बताएंगे वहीं कुछ एक्‍सरसाइज करने की सलाह भी दे सकते हैं। जो लोग हाई ब्‍लड प्रेशर, डायब‍िटीज, स्‍मोक‍िंग आद‍ि समस्‍याओं के श‍िकार हैं उन्‍हें खासतौर पर ध्‍यान रखने के ल‍िए कहा जाता है।
  • वहीं अगर हार्ट में मौजूद तीन मुख्‍य धमन‍ियों में कई ब्‍लॉकेज हैं और उनकी संख्‍या 65 से 70 प्रत‍िशत से ज्‍यादा है तो इस केस में डॉक्‍टर बाईपास सर्जरी करवाने के ल‍िए कहते हैं। 
  • अगर मरीज को द‍िल का दौरा या सीने में दर्द उठ रहा है और ब्‍लॉकेज नजर आ रहा है तो डॉक्‍टर एंजियोप्लास्टी करके मरीज का इलाज करते हैं। 

इसे भी पढ़ें- घर में हार्ट के मरीज हैं तो जानें बढ़ती उम्र में कैसे रखें उनके दिल की सेहत का खयाल, ये 6 टिप्स आएंगे काम

द‍िल के बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए कौनसा व‍िकल्‍प चुनें? (How to choose right treatment procedure for heart) 

heart health for healthy person

(image source:sinclairstoryline)

  • मरीज की स्‍थ‍ित‍ि के मुताब‍िक ये तय करते हैं कि एंज‍ियोप्‍लास्‍टी करनी है या बाईपास सर्जरी। 
  • इसका फैसला करने के ल‍िए डॉक्‍टर धमनी की गंभीरता, उसके बढ़ने की स्‍थ‍ित‍ि और लक्षणों पर गौर करते हैं। 
  • डॉक्‍टर मरीज की मेड‍िकल ह‍िस्‍ट्री, अन्‍य बीमार‍ियां जैसे डायब‍िटीज, स्‍ट्रोक या द‍िल का दौरा आद‍ि की जानकारी लेते हैं। 
  • मरीज और पर‍िजनों से भी उनकी राय पूछी जाती है, अगर मरीज की उम्र ज्‍यादा है तो डॉक्‍टर बाईपास सर्जरी की सलाह नहीं देते क्‍योंक‍ि इससे उनके शरीर में ज्‍यादा दबाव पड़ता है। 
  • ज‍िन मरीजों की धमनी में ज्‍यादा ब्‍लॉकेज नहीं होता उन्‍हें एंज‍ियोप्‍लास्‍टी करने की सलाह दी जाती है और ज‍िन मरीजों की धम‍न‍ियों में कई जगह ब्लॉकेज होता हे उन्‍हें बाईपास सर्जरी करवाने की सलाह दी जाती है।
  • ऐसा नहीं कहा जा सकता क‍ि एंज‍ियोप्‍लास्‍टी या बाईपास सर्जरी से व्‍यक्‍त‍ि की उम्र बढ़ जाती है या दोबारा हार्ट अटैक नहीं आएगा, इससे केवल अटैक आने की आशंका कम होती है पर आपको दोनों ही तरीकों को अपनाने के बाद खानपान, व्‍यायाम और दवाओं के न‍ियम का पालन करना चाह‍िए। 

हार्ट अटैक से बचने के लिए क्‍या करें? (How to prevent Heart Attack)

हार्ट अटैक जैसी समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको छोटे-छोटे कदम उठाने चाह‍िए जैसे- 

  • अपने ब्‍लड प्रेशर, शुगर लेवल और कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल रखें। 
  • रोजाना कसरत करें, आपको कम से कम रोजाना एक घंटा वॉक करना चाह‍िए। 
  • व्‍यायाम के अलावा आपको ब्रीद‍िंग तकनीक और मेड‍िटेशन को भी रूटीन में शाम‍िल करना चाह‍िए।
  • हार्ट अटैक से बचने के ल‍िए आपको धूम्रपान और शराब का सेवन नहीं करना है। 
  • हार्ट अटैक से बचने के लि‍ए आपको स्‍वस्‍थ आहार लेना चाह‍िए जैसे फाइबर की मात्रा बढ़ाएं और फैट की मात्रा कम करें। 
  • आपको अपनी डाइट में हरी सब्‍ज‍ियां, फल, नट्स का सेवन करें। 

एंज‍ियोप्‍लास्‍टी या बाईपास सर्जरी में से एक व‍िकल्‍प चुनने से पहले आप दो से तीन अच्‍छे हार्ट स्‍पेशल‍िस्‍ट से जरूर म‍िलें, डॉक्‍टर भी सर्जरी से पहले अन्‍य व‍िशेषज्ञों से राय लेने की सलाह देते हैं। 

(main image source:international.blogs)

Read more on Heart Health in Hindi 

Disclaimer