इस रक्षाबंधन खुद को 'भाईजोन' से निकालने के उपाय

कलीग, दोस्त या क्रश लड़के को राखी बांधे तो इस 'भाईजोन' से निकलना हर लड़के के लिए मुश्किल होता है। लेकिन यहां दिये कुछ उपाय आपके लिए मददगार हो सकते हैं।

Pooja Sinha
त्‍यौहार स्‍पेशल Written by: Pooja SinhaPublished at: Aug 24, 2015
इस रक्षाबंधन खुद को 'भाईजोन' से निकालने के उपाय

भाई-बहन के बीच सबसे अनमोल रिश्‍ते का त्‍योहार है रक्षाबंधन। इस दिन बहन भाई की कलाई पर पवित्र राखी बांधती है और भाई बहन को रक्षा का वचन देता है। हालांकि यह केवल भाई-बहन के लिए होता है। लेकिन अगर कोई दूसरी लड़की जैसे कि कलीग, दोस्‍त या फिर क्रश लड़के को राखी बांधे तो वह उसके लिए मुसीबत बन जाता है। ऐसी स्थिति यानी 'भाईजोन' से निकलना मुश्किल होता है। आइए हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं जिससे आप आसानी से इस कशमकश से बाहर निकल सकते हैं।

forced bhaijone in hindi


दोस्‍ती को न बनायें पेचीदा

आप अपने भाई को दोस्‍त बना सकती हैं, लेकिन दोस्‍त को भाई बनाना हमेशा आसान या स्‍वीकार्य नहीं होता है। इसलिए अपनी दोस्‍ती को पेचीदा कभी न बनायें। आप उस लड़की से साफ-साफ बोलिये कि आप बहुत अच्‍छे मित्र हैं और इस रिश्‍ते में भाईचारे से दूर रहकर आप इस संबंध को उलझन से बचा सकते हैं। अगर वह लड़की आपको समझती है तो आपको राखी बांधकर भाई बनाने पर जोर नहीं देगी।


मेरी बहन इससे सहमत नहीं होगी

'उसका राखी भाई बनने की कोई जरूरत नहीं है।' इसके लिए आप उससे कहें कि मेरी बहन किसी और की राखी स्‍वीकार करने की मुझे मंजूरी नहीं देगी। क्‍यों‍कि वह मुझे लेकर बहुत ही पॉजेसिव है और रक्षाबंधन के दिन मैं अपने बहन की भावना को आहत नहीं करना चाहता। आपकी राखी बांधने वाली लड़की इसी विचार में यह ख्‍याल अपने दिमाग से निकाल देगी कि आप कितने स्‍वीट भाई है।

 

उसकी बहन को पसंद करते हैं  

अगर कोई लड़की आपको राखी बांधना चाहती है तो आप उसे सीधे बोल सकते हैं कि आपको उसकी बहन या कज़न पसंद है। जिससे वह आपको राखी बांधने पर दबाव नहीं डालेगी और आप आसानी से 'भाईजोन' से बाहर आ जायेंगे।

रक्षाबंधन भाई-बहन के बीच प्‍यार का बंधन है, ऐसे में जरूरी नहीं कि कोई यह रिश्‍ता आपको ऊपर थोपे। और यह भी जरूरी नहीं कि आप सभी को अपनी बहन बनाते फिरें। ऐसे में ये तरीके आपको 'भाईजोन' से बाहर निकलने में आपकी मदद करेंगे।

Image Source : s3.india.com
Read More Articles on Festival Special in Hindi

Disclaimer