Doctor Verified

यूटीआई का आयुर्वेद‍िक इलाज है तंदुलोदक (tandulodaka), जानें इसके बारे में

UTI Treatment: चावल के पानी (tandulodaka) का सेवन करने से पित्त कम होता है और वात व कफ बढ़ता है। जानें यूटीआई के इलाज में इसका सही सही इस्‍तेमाल। 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Oct 19, 2022 12:34 IST
यूटीआई का आयुर्वेद‍िक इलाज है तंदुलोदक (tandulodaka), जानें इसके बारे में

UTI Treatment: मूत्र मार्ग में होने वाले संक्रमण को यूरिन ट्रैक इन्फेक्शन यानी यूटीआई कहते हैं। यूर‍िन ट्रैक्‍ट में होने वाले संक्रमण को ही यूटीआई कहा जाता है। यूटीआई में क‍िडनी, मूत्राशय, गर्भाशय, मूत्रमार्ग आद‍ि ह‍िस्‍से संक्रम‍ित‍ होते हैं। यूटीआई होने पर आयुर्वेद पद्धति की मदद भी ली जाती है। आयुर्वेद में यूटीआई का इलाज करने के ल‍िए 'तंदुलोदक' का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। आयुर्वेद में चावल के पानी को तंदुलोदक (tandulodaka) कहा जाता है। चावल के पानी का सेवन करने से ब्‍लड फ्लो बेहतर होता है। चावल के पानी का सेवन करने से पित्त कम होता है और वात व कफ बढ़ता है। चावल के पानी के इस्‍तेमाल से यूटीआई के दौरान होने वाली जलन से भी छुटकारा म‍िलता है। आगे जानते हैं इसे व‍िस्‍तार से। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

rice water benefits

चावल का पानी कैसे बनाएं? 

  • चावल का पानी यानी तंदुलोदक को तैयार करना बेहद आसान है। इसके ल‍िए करीब 1 कटोरी चावल लेने हैं।
  • इनकी मात्रा करीब 10 ग्राम होगी। चावल को धोकर पानी में भ‍िगोएं।
  • म‍िट्टी के बर्तन या स्‍टेनलेस स्‍टील के बर्तन में चावल को बंद करके रख दें।
  • 2 से 6 घंटे के लि‍ए चावल को भ‍िगोकर रखें।
  • फ‍िर चावल के पानी को छानकर अलग कर लें। चावल का पानी तैयार है।    

इसे भी पढ़ें- Drinks For UTI: यूटीआई होने पर करें इन ड्रिंक्स का सेवन, पेशाब में जलन और दर्द से मिलेगी राहत

चावल के पानी के फायदे

UTI home remedies

  • चावल के पानी का सेवन करने से यूटीआई की समस्‍या दूर होती है। 
  • चावल के पानी में कई खन‍िज और व‍िटाम‍िन्‍स पाए जाते हैं। चावल का पानी प्रकृत‍ि में शीतल होता है।
  • पेशाब में जलन, दस्‍त, हैवी पीरि‍यड्स आद‍ि समस्‍याओं को दूर करने के ल‍िए चावल का पानी फायदेमंद माना जाता है।
  • मह‍िलाओं में सफेद पानी की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए भी चावल का पानी फायदेमंंद माना जाता है।
  • चावल के पानी में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है। इससे मेटाबॉल‍िज्‍म मजबूत होता है।  

चावल के पानी का सेवन  

एक द‍िन में 50 एमएल चावल के पानी का सेवन कर सकते हैं। सुबह के वक्‍त चावल के पानी का सेवन करें। तंदुलोदक बनाने के ल‍िए क‍िसी भी तरह के चावल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। तंदुलोदक बनाने के ल‍िए लाल चावल का इस्‍तेमाल फायदेमंद माना जाता है। सफेद चावल का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। ध्‍यान रखें क‍ि चावल को पकाना नहीं है। चावल को स्‍टीम करने से भी बचें। 

Rice Water Benefits: चावल के पानी में कार्बोहाइड्रेट और स्‍टार्च की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। इसमें कई एंटीऑक्‍सीडेंट्स भी मौजूद होते हैं। यूटीआई की समस्‍या दूर करने का ये एक बेहतरीन उपाय है।    

Disclaimer