Doctor Verified

श‍िशु में दांत न‍िकलने की प्रक्र‍िया को आसान कैसे बनाएं? डॉक्‍टर से जानें ट‍िप्‍स

श‍िशु में दांत न‍िकलने की प्रक्रि‍या को आसान बनाने के ल‍िए आप भी ये आसान ट‍िप्‍स जान लें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 16, 2022Updated at: May 16, 2022
श‍िशु में दांत न‍िकलने की प्रक्र‍िया को आसान कैसे बनाएं? डॉक्‍टर से जानें ट‍िप्‍स

श‍िशुओं में 4 से 7 महीने के दौरान दांत न‍िकलना शुरू होते हैं। तीन साल तक बच्‍चे के करीब 20 दांत न‍िकल आते हैं और चार साल की उम्र तक सभी दांतों के ल‍िए जबड़े और चेहरे की हड्ड‍ियां बढ़ने लगती हैं। इस दौरान श‍िशु को दर्द या खुजली की समस्‍या होती है, व्‍यवहार च‍िड़च‍िड़ा हो जाता है और बुखार भी आ सकता है, इस दौरान आपको बच्‍चे की ओरल हाईजीन का ख्‍याल रखना है। आपको बच्‍चे के मसूड़े को उंगली से सहलाना है, इससे उसे आराम म‍िलेगा। ऐसे ही कई तरीके हैं ज‍िन्‍हें अपनाकर आप श‍िशु को दांत न‍िकलने के दौरान होने वाली समस्‍या से बचा सकते हैं, इन तरीकों पर हम आगे व‍िस्‍तार से चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

baby teeth

श‍िशुओं में दांत न‍िकलने पर क्‍या परेशानी हो सकती है? (Problems during teething process in babies)

  • दांत न‍िकलने के समय श‍िशु के मुंह से लार टपकने लगती है ज‍िससे ये पता लग जाता है क‍ि श‍िशु के मुंह मं दांत न‍िकलने वाला है।
  • श‍िशु में दांत न‍िकलने पर मसूड़े सूजने की समस्‍या हो सकती है, मसूड़ों में सूजन के कारण बच्‍चे के गाल पर भी सूजन आ सकती है।  
  • अगर श‍िशु में च‍िड़च‍िड़ेपन के लक्षण नजर आ रहे हैं तो भी ऐसा हो सकता है क‍ि श‍िशु में दांत न‍िकल रहा हो।  
  • जब बच्‍चों के सारे दांत न‍िकल जाते हैं तब उसे बुखार हो सकता है, अगर इस दौरान बच्‍चे की इम्‍यून‍िटी का ख्‍याल न रखा जाए तो उसे बुखार या दस्‍त की समस्‍या भी हो सकती है। दांत आने पर भी श‍िशु को बुखार आता है इसल‍िए आपको डॉक्‍टर से चेकअप करवाना चाह‍िए।
  • अगर आपको बच्‍चे में हल्‍की खांसी के लक्षण नजर आ रहे हैं तो भी ऐसा हो सकता है क‍ि बच्‍चा दांत न‍िकलने की प्रक्र‍िया में हो। 
  • अगर बच्‍चा रो रहा है या उसे सोने में परेशानी हो रही है तो भी ये लक्षण हो सकते हैं क‍ि बच्‍चे के दांत न‍िकलने वाले हों, इस दौरान आपको बच्चे का साथ देना चाह‍िए और सुलाने का प्रयास करना चाह‍िए।  

इसे भी पढ़ें- माथे की त्वचा काली पड़ने के पीछे हो सकते हैं ये 5 कारण, जानें कालेपन को कम करने के उपाय

श‍िशु के दांतों की देखभाल कैसे करें? (How to soothe teething process in babies)

babies teeth 

श‍िशु के दांतों की देखभाल करने के ल‍िए आप कुछ आसान ट‍िप्‍स फॉलो कर सकते हैं- 

  • श‍िशु के मसूड़े को द‍िन में दो बार जरूर साफ करें, आपको दूध प‍िलाने से पहले और बाद में श‍िशु का मुंह क्‍लीन करना चाह‍िए।
  • मुंह और दांत को साफ करने के ल‍िए आप गीला कपड़ा या कॉटन की मदद ले सकते हैं।
  • पहला दांत न‍िकलने के बाद आप हैंडल वाला जेंटल ब्रश खरीदें, इसके अलावा जब बच्‍चा 4 साल का हो जाए तो उसे फ्लोराइड टूथपेस्‍ट दें। 
  • श‍िशु के दांत न‍िकलने के दौरान उसे दांत में खुजली होती है और वो हर चीज को चबाना चाहते हैं ऐसे में आप बच्‍चे को अच्‍छी टीथ टॉयज दे सकते हैं ज‍िनकी मदद से बच्‍चे को मसूड़ों में खुजली से राहत म‍िलेगी।   
  • श‍िशु के दांत न‍िकलने के दौरान आपको उसे स्‍तनपान करवाना जारी रखना है और बच्‍चे को मसूड़े के दर्द से बचाने के ल‍िए उसे ठोस चीजों से दूर रखना है नहीं तो बच्‍चे के दांत में दर्द हो सकता है।   
  • अगर बच्‍चे को बहुत तेज दर्द हो रहा है तो आप उसे पेनक‍िलर दे सकते हैं पर उसके ल‍िए आपको पहले डॉक्‍टर की सलाह की जरूरत होगी।   
  • अगर श‍िशु दांत में हाथ लगाकर रो रहा है और उसके गाल में सूजन नजर आ रही है तो आप आइस पैक का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, इससे श‍िशु को आराम म‍िलेगा।

इसे भी पढ़ें- महिलाओं में बवासीर होने पर दिखते हैं ये 7 लक्षण, जानें कैसे करें बचाव

श‍िशु के दांत देरी से न‍िकलने पर क्‍या करें?

कई बच्‍चों के दांत देरी से न‍िकलते हैं, अगर एक साल तक भी श‍िशु के दांत न न‍िकलें तो इसके पीछे का कारण खराब पोषण, या अनुवांश‍िक कारण हो सकते हैं। ज‍िन बच्‍चों में हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण होते हैं उनके दांत भी न‍िकलने में समय लगाते हैं। अगर आपके बच्‍चे के साथ भी यही समस्‍या है तो आप भी डॉक्‍टर से संपर्क कर सकते हैं। अगर बच्‍चा एक साल का हो गया है तो आपको उसे डेंट‍िस्‍ट के पास ले जाकर चेकअप जरूर करवाना चाह‍िए। इस दौरान भी बच्‍चे के दांतों में समस्‍या हो सकती है ज‍िसका इलाज समय पर करने से दर्द और तकलीफ बढ़ेगी नहीं।

दांत न‍िकलने की प्रक्र‍िया बच्‍चे के ल‍िए समस्‍याओं से भरी हो सकती है इसल‍िए आपको धैर्य बनाए रखना है और बच्‍चे की मदद करनी है, जरूरत पड़ने पर आप डॉक्‍टर की मदद भी ले सकते हैं।   

Disclaimer