Tips for Healthy Heart: आपके दिल को दुरुस्त रखेंगे ये दो फल, सुबह-शाम अपनी डाइट में करें इन्हें शामिल

दिल को स्वस्थ रखने के लिए आपकी डाइट में इन दो फलों का होना बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं कैसे ये आपके दिल को दुरुस्त रखते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jul 22, 2020
Tips for Healthy Heart: आपके दिल को दुरुस्त रखेंगे ये दो फल, सुबह-शाम अपनी डाइट में करें इन्हें शामिल

दिल का दुरुस्त रखना आपको आजीवन स्वस्थ रख सकता है। इसके लिए दो चीजें बेहद जरूरी हैं पहला एक सही डाइट और दूसरा एक्सरसाइज। इन दोनों का प्रभाव आपके शरीर के ब्लड सर्कुलेशन, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर पर पड़ता है, जो कि हृदय स्वास्थ्य से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदु हैं। पर जब बात हृदय को फिट रखने वाले आहार (foods for healthy heart) की आती हैं, तो इसका एक अभिन्न हिस्सा हैं फल। फलों का हृदय स्वास्थ्य पर एक व्यापक प्रभाव पड़ता है। दिल को दुरुस्त रखने के लिए ऐसे ही दो फल हैं आलूबुखारा (Plum) और नाशपाती (Custard Apple)। ये दोनों ऐसे समान गुणों की खान है, जो शरीर में ब्लड सर्कुलेशन, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर तीनों को सही रखने के लिए जाना जाता है। तो आइए विस्तार से जानते हैं कि कैसे ये दोनों फल आपके दिल को दुरुस्त (Fruits for Heart Health in hindi) रख सकते हैं।

insideplum

दिल को कैसे स्वस्थ रखता है आलूबुखारा (Plum)?

आलूबुखारा (Plum) एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं, जो सूजन को कम करने और आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों द्वारा क्षति से बचाने में मददगार होते हैं। वे विशेष रूप से पॉलीफेनोल एंटीऑक्सिडेंट में उच्च हैं, जो हड्डी के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं और हृदय रोग और मधुमेह के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं। वास्तव में, कुछ अध्ययनों से पता चला है कि प्लम में अन्य लोकप्रिय फलों की तुलना में पॉलीफेनोल एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा दोगुना से अधिक होती है। कई अध्ययनों में प्लम ने शक्तिशाली एंटी इंफ्लेमेटरीन प्रभावों को दिखाया है, जो कि कोशिकाओं को नुकसानों को रोकर फेफड़ों और हृदय रोग के जोखिम को कम करता है।

हाई ब्लड प्रेशर को रोकता है प्लम

प्लम में पोटेशियम और मैग्नीशियम होता है। पोटेशियम और मैग्नीशियम दोनों रक्त वाहिकाओं के फैलाव को बढ़ावा देते हैं, जो बदले में निम्न रक्तचाप में मदद करता है। उच्च रक्तचाप से आपके दिल की बीमारी और स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है, इसके विपरित प्लम का ब्लड प्रेशर में कमी लाना हार्ट अटैक से बचा सकता है।

ब्लड शुगर नियंत्रित करता है प्लम

प्लम में ऐसे गुण होते हैं जो ब्लड शुगर नियंत्रण में मदद कर सकते हैं। कार्ब्स में काफी अधिक होने के बावजूद, प्लम खाने के बाद रक्त शर्करा के स्तर में पर्याप्त वृद्धि का कारण नहीं बनते हैं। यह एडिपोनेक्टिन के स्तर को बढ़ाने के लिए उनकी क्षमता में बढ़ोतरी करते हैं। बता दें कि एडिपोनेक्टिन एक हार्मोन है, जो ब्लड शुगर के विनियमन में एक मुख्य भूमिका निभाता है।

insidecustardapple

इसे भी पढ़ें : हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्‍ट में क्‍या अंतर है, इन स्थितियों में पेशेंट को जान बचाने के लिए करना चाहिए?

हार्ट अटैक को रोकता है नाशपाती (Custard Apple)

नाशपाती (Custard Apple) या सीताफल में मैग्नीशियम की मात्रा हृदय को हृदयाघात से बचाने में मदद करती है। साथ ही ये मांसपेशियों को आराम देने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, नाशपाती में विटामिन बी 6 होमोसिस्टीन संग्रह को रोकने में मदद करता है जो हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है। साथ ही ये विटामिन-सी जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं, जो शरीर से फ्री रेडिकल्स से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। यह कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, नियासिन और पोटेशियम में भी समृद्ध है, जो कई तरह से दिल के लिए फायदेमंद है। जैसे कि

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है 

नाशपाती पोटेशियम और मैग्नीशियम के अच्छे स्रोत हैं जो ब्लड प्रेशर के स्तर को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं। ब्लड प्रेशर के स्तर में उतार-चढ़ाव वाले लोगों के लिए, दिन में एक नाशपाती खाना इसे नियंत्रण में रखने में मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें : कार्डिएक अरेस्ट क्‍यों होता है? कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. संतोष डोरा से जानें इसका कारण और बचाव का तरीका

कोलेस्ट्रॉल को कम करता है

नाशपाती  में उच्च स्तर के नियासिन और आहार फाइबर होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रभावी ढंग से कम करने में मदद करते हैं। इसलिए जिन लोगों को बैड कोलेस्ट्रॉल से जुड़ी परेशानियां लंबे समय तक रहती हैं, उन्हें नियमित रूप से नाशपाती खाने को कहा जाता है।

इस तरह नाशपाती और प्लम आपके ब्लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर को संतुलित रख कर आपके दिल की उम्र बढ़ा सकता है। इसलिए अब से बिना भूले अपने सुबह-शाम की डाइट में कम से कम एक नाशपाती और एक प्लम सम्मिलित करने की जरूर कोशिश करें। 

Read more articles on Heart-Health in Hindi

Disclaimer