COVID-19: 4 चरणों में फैलता है कोरोना वायरस, चौथा चरण है सबसे भयावह, जानें भारत किस स्‍टेज में है?

कोरोना वायरस का खतरा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, भारत में अब तक कोरोना संक्रमित व्‍यक्तियों की संख्‍या 500 से ज्‍यादा हो गई है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 25, 2020
COVID-19: 4 चरणों में फैलता है कोरोना वायरस, चौथा चरण है सबसे भयावह, जानें भारत किस स्‍टेज में है?

कोरोना वायरस (COVID-19) से पूरी दुनिया में अशांति फैल गई है। महामारी बन चुका कोविड-19 अब तक लाखों लोगों की जान ले चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (world health organization) के डायरेक्टर जनरल डॉक्‍टर टेड्रोस अधानोम (Dr. Tedros Adhanom) ने सोमवार को दिए उनके वक्‍तव्‍य के अनुसार, COVID-19 मामलों को वैश्विक स्तर पर 100,000 अंक तक पहुंचने में 67 दिन लगे, 200,000 मामले सामने आने में केवल 11 दिन लगे और ये आंकड़ा 300,000 तक पहुंचने में महज 4 दिन लगे। 

जी हां, डब्‍ल्‍यूएचओ के ये आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं कि कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। चीन, इटली और ईरान आदि देश कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित माना जाता है। मगर हम भारतीय इस बात को लेकर अभी गंभीर दिखाई नहीं दे रहे हैं। शायद इसका कारण ये हो सकता है कि भारत में मरने वालों की संख्‍या अभी काफी कम है, जबकि एक्‍सपर्ट मानते हैं कि, कोरोना का खतरा अभी बढ़ सकता है। भारत अब इस घातक वायरस के दूसरे अंतिम चरण में पहुंच सकता है।

Corona-Virus-in-india

तो इसका क्या मतलब है? हालांकि, शोधकर्ताओं के अनुसार नोवेल कोरोनावायरस (Novel Coronavirus) के चार चरण हैं और ऐसा माना जा रहा है कि भारत वर्तमान में दूसरे चरण (Stage) पर है। आइए इसके बारे में विस्‍तार से जानते हैं कि आखिर ये 'स्‍टेज' हैं क्‍या?

इसे भी पढ़ें: आप कोरोना वायरस से संक्रमित हैं या नहीं? डॉ. केके अग्रवाल से जानिए पता लगाने का तरीका

पहला चरण: वायरस का पहला चरण वह होता है जब वायरस प्रभावित लोग वायरस को दूसरे देश में ले जाते हैं जो कि संक्रमण का स्रोत नहीं था।

दूसरा चरण: वायरस का दूसरा चरण तब होता है जब संक्रमित व्यक्ति से स्थानीय संक्रमण के मामले होते हैं। इसका मतलब यह है कि स्थानीय निवासी अपने परिवार के सदस्यों या उन दोस्तों से संक्रमित होते हैं, जिन्‍होंने प्रभावित देशों की यात्रा की होती है। स्थानीय संचरण में, प्रभावित लोगों की संख्या कम होती है, वायरस का स्रोत ज्ञात होता है और इसका पता लगाना भी आसान होता है।

तीसरा चरण: यह तब होता है जब सामुदायिक प्रसार (Community transmission) होता है और बड़े क्षेत्र प्रभावित होते हैं। कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन तब होता है जब कोई रोगी न तो किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है और न ही किसी ऐसे प्रभावित देश की यात्रा करता है जहां संक्रमण फैला हो। इस स्तर पर, यह पहचानना मुश्किल है कि उस व्यक्ति को वायरस कहां से मिला। इटली और स्पेन तीसरे चरण में हैं। 

यह संकेत देते हैं कि कुछ ऐसे वाहक हैं, जो कोरोना वायरस के संक्रमण को बढ़ा रहे हैं, जिनके लक्षण पता भी नहीं चलते, जिसके कारण संक्रमण के चेन को तोड़ना मुश्किल होता है। 

चौथा चरण: यह वह चरण है जो चीन में हुआ था। चौथा चरण तब होता है जब कोई संक्रमण कुछ देशों में स्थानिक हो जाता है और वर्ष भर चक्कर लगाता रहता है, जैसा भारत में मलेरिया और डेंगू।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के प्रकोप में घर पर कुछ इस तरह रखें अपने मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल, WHO की ये सलाह आएगी काम

कुछ मामले हैं, जो इसके भयावह होने का प्रमाण देते हैं:

21 मार्च तक, यह माना जाता था कि भारत कोरोना वायरस के दूसरे चरण में है और अलग-अलग प्रयासों से इसे नियंत्रण में रखने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन, हाल ही में Covid-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण करने वाले व्यक्तियों के कुछ मामलों ने चिंता बढ़ा दी है। 

हाल ही में, यूपी में एक 20 वर्षीय नाई, जिसने ट्रेन से चेन्नई की यात्रा की थी, का सकारात्मक निदान किया गया था लेकिन सरकार संक्रमण के संपर्क की श्रृंखला का पता नहीं लगा सकी। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने आगरा में "कम्‍यूनिटी ट्रांसमिशन" की संभावना जताते हुए एक बयान जारी किया था, हालांकि वैज्ञानिकों ने आकलन से असहमति जताई है। यहां तक कि कोविद-19 के कारण मुंबई में 63 वर्षीय की मौत के मामले में भी, कम्‍यूनिटी ट्रांसमिशन की संभावना की ओर इशारा किया।

हालांकि, यह व्यापक रूप से माना जाता है कि भारत अभी भी महामारी के दूसरे चरण में है। ऐसे में सोशल डिस्‍टेंसिंग महत्‍वपूर्ण है, जिससे कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके।

Read More Articles On Coronavirus in Hindi

Disclaimer