बिलनी (गुहेरी) के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

आंखों में बिलनी की समस्या एक सामान्य समस्या है। लेकिन अगर यह समस्या लगातार बढ़ रही है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है। 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Aug 19, 2021 03:46 IST
बिलनी (गुहेरी) के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

आंखों में एक लाल रंग की फुंसी या गांठ को ही गुहेरी या बिलनी कहते हैं। यह समस्या अधिकतर लोगों को आंखों की पलकों के नीचे या फिर ऊपरी हिस्से पर होता है। यह समस्या पलकों की तेल ग्रंथि या फिर बालों के रोम में बैक्टीरिया इंफेक्शन की वजह से होता है। शुरुआत में यह आंखों की पलकों पर हल्की फुंसी के आकार का होता है। धीरे-धीरे यह समस्या एक दर्दनाक गांठ में बदल जाती है। अधिकतर लोगों को बिलनी की समस्या पलकों के बाहर की ओर होती है। लेकिन कुछ लोगों को यह समस्या पलकों के अंदर की ओर भी हो सकती है। कुछ लोगों में बिलनी की समस्या खुद-ब-खुद ठीक हो (Treatment of Stye Eye) जाती है। लेकिन कुछ स्थितियों में डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता पड़ सकती है। चलिए इस लेख में जानते हैं गुहेरी की समस्या के कारण, लक्षण और बचाव के (Stye Prevention) तरीके -

किन कारणों से होती है गुहेरी की समस्या? (Causes of Stye)

पलकों पर मौजूद तेल ग्रंथि (Oil Gland) या बालों की रोम में बैक्टीरिया फैलने की वजह से गुहेरी या बिलनी की समस्या हो सकीत है। जब आंखों की तेल ग्रंथि डेड स्किन या फिर धूल-कण के कारण बंद हो जाती है, तो इसमें धीरे-धीरे बैक्टीरिया पनपने लगता है। इस स्थिति में संक्रमण की वजह से व्यक्ति को गुहेरी की समस्या हो सकती है। जिसके कारण आपको पलकों के आसापस सूजन, दर्द, गांठ हो सकती है। इसके अलावा आई मेकअप के कारण भी आपको यह परेशानी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - मस्तिष्क (ब्रेन) में सूजन के लक्षण, कारण और इलाज

आंखों में गुहेरी होने के जोखिम (Risk Factor of Stye)

  • फीवर या एलर्जी के कारण आंखों में खुलजी होना।
  • आंखों में दूषित काजल या लाइनर लगाना।
  • सोने से पहले मेकअप न हटाना।
  • पर्याप्त नींद न लेना।
  • कॉन्टैक्ट लेंस लगाना।
  • बिना हाथ धोए आंखों को छूना।
  • गंदे कपड़ों और तौलिए से आंखों को पोछना।

गुहेरी होने के लक्षण (Symptoms of Stye)

  • पलकों पर सूजन
  • आंखों में दर्द।
  • पलकों पर गांठ जैसा दिखना।
  • आंखों का पाल होनाष
  • धुंधली दृष्टि होना।
  • रोशनी के प्रति संवेदनशील होना।
  • आंखों में बार-बार खुजली होना।
  • आंखों में कुछ घुसने जैसा महसूस होना।

बिलनी (गुहेरी) होने पर कब जाएं डॉक्टर के पास? (When to see a doctor for Stye)

गुहेरी की समस्या आमतौर पर खुद-ब-खुद ठीक हो जाती है। लेकिन कुछ परिस्थितियों में आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता पड़ सकती है। जैसे-

  • अगर आंखों में बिलनी की समस्या 1 सप्ताह से ज्यादा है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। ताकि आंखों में बढ़ रही समस्या को रोका जा सके। 
  • अगर गुहेरी का आकार तेजी से बढ़ रहा है, तो डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता है। 
  • आंखों में धुंधलापन या फिर दृष्टि कमजोर होने पर डॉक्टर को तुरंत दिखाएं। 
  • अगर गुहेरी के लक्षण लगातार बढ़ रहे हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है। 

बिलनी (गुहेरी) होने पर क्या बरतें सावधानी

  • हाथों को गंदा न रखें। बार-बार हाथ धोएं। 
  • आंखों में काजल, आई लाइनर और मस्कारा (आई मेकअप) लगाने से बचें। 
  • कॉन्टैक्स लेंस का इस्तेमाल न करें। 
  • गुहेरी को बार-बार छूने से बचें। 
  • आंखों को मले नहीं। 

गुहेरी (बिलनी) से बचने के उपाय (Stye Prevention)

  • अपनी आंखों को बार-बार छूने और रगड़ने से हमेशा बचें। इससे आंखों में गुहेरी होने का खतरा ज्यादा रहता है। 
  • खुजली या फिर एलर्जी की शिकायत बढ़ने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करेँ। 
  • साफ-सुथरा कॉन्टैक्स लेंस का इस्तेमाल करें। 
  • बार-बार कॉन्टैक्स लेंस को छूने से बचें। 
  • अपने हाथों को साफ करें। हाथ को साफ करने के लिए सैनिटाइजर और गर्म पानी का इस्तेमाल करें। 

आंखों में गुहेरी या बिलनी की समस्या एक आम समस्या है। इस तरह की समस्या होने पर आपको घबराने की जरूरत नहीं है। हालांकि, अगर समस्या लगातार बढ़ रही है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।   

Read More Articles on Other diseases in Hindi

 

Disclaimer