प्रोटीन की कमी से होती हैं ये 5 बीमारियां, जानें इनके लक्षण और बचाव के उपाय

Protein Deficiency in Hindi: शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर कई गंभीर बीमारियों का खतरा रहता है, जानें प्रोटीन की कमी से कौन सी बीमारी होती हैं।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 18, 2022Updated at: Jul 18, 2022
प्रोटीन की कमी से होती हैं ये 5 बीमारियां, जानें इनके लक्षण और बचाव के उपाय

Protein Deficiency in Hindi: शरीर को हेल्दी और ताकतवर बनाए रखने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी होता है। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर आपको कई गंभीर बीमारियों का खतरा रहता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में 1 अरब से ज्यादा लोग शरीर में प्रोटीन की कमी की समस्या से परेशान हैं। शरीर में मांसपेशियों के विकास, स्किन को बेहतर बनाए रखने और हॉर्मोन का संतुलन बनाए रखने के लिए प्रोटीन की संतुलित मात्रा जरूर होनी चाहिए। शरीर में प्रोटीन के कमी होने पर दिखने वाले लक्षणों (Protein Deficiency Symptoms in Hindi) में थकान, शरीर में दर्द, जोड़ों में दर्द और चलने-फिरने में दिक्कत आदि शामिल हैं। प्रोटीन शरीर को ऊर्जा देने और बीमारियों से बचाए रखने के लिए बहुत जरूरी हैं। आइए जानते हैं शरीर में प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियां और इसके लक्षण।

प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियां- Protein Deficiency Disease in Hindi

शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर कई गंभीर बीमारियों का खतरा रहता है। इसकी वजह से शरीर कमजोर हो जाता है और शरीर का विकास भी प्रभावित होता है। बच्चों में प्रोटीन की कमी होने पर भी कई गंभीर बीमारियां होती हैं। हेल्दी डाइट और सप्लीमेंट्स का सेवन कर आप शरीर में प्रोटीन की कमी को दूर कर सकते हैं। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर इस तरह की बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है।

Protein Deficiency Disease in Hindi

इसे भी पढ़ें: शरीर में पौष्टिक तत्‍वों की कमी के संकेत हैं ये 10 लक्षण, ऐसे करें पहचान

1. हड्डियों का कमजोर होना- ज्यादातर लोग शरीर में प्रोटीन की कमी को सिर्फ मांसपेशियों और वजन से जोड़कर देखते हैं। लेकिन प्रोटीन की कमी होने पर हड्डियां भी कमजोर हो सकती हैं। इसकी वजह से आपको फ्रैक्चर होने या हल्की सी चोट लगने पर हड्डियों के टूटने का खतरा भी रहता है। बच्चों में यह समस्या बेहद गंभीर होती है और इसकी वजह से ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा भी बना रहता है।

2. मैरास्मस- शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर बच्चों और शिशुओं में मैरास्मस (Marasmus) डिजीज का खतरा बढ़ जाता है। इसकी वजह से बच्चे का वजन अचानक कम होने लगता है और गंभीर मामलों में मरीज की मौत भी हो सकती है। 

3. फैटी लिवर की समस्या- प्रोटीन की कमी से आपके लिवर पर भी गंभीर असर पड़ता है। इसकी वजह से लिवर की कोशिकाओं में फैट बढ़ने लगता है और आपको फैटी लिवर की समस्या हो सकती है। लंबे समय तक यह स्थिति बनी रहे, तो इसकी वजह से लिवर डैमेज भी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: फैटी लिवर की समस्या में बहुत फायदेमंद है इन 5 जूस का सेवन, जानें बनाने और पीने का सही तरीका

4. क्वाशियोरकर- शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर क्वाशियोरकर (Kwashiorkor) बीमारी होती है। यह बीमारी बच्चों में होती है और इसकी वजह से कई गंभीर परेशानियां हो सकती हैं। कुछ मामलों में इस बीमारी की वजह से बच्चे की मौत भी हो सकती है।

5. कैचेक्सिया- कैचेक्सिया या कैशेक्सिया (Cachexia) शरीर में प्रोटीन की कमी से होने वाली एक गंभीर बीमारी है। इस बीमारी में मरीज का शरीर कंकाल बन सकता है। इसकी वजह से मरीज को किडनी फेलियर, क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज और आर्थराइटिस जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

इन बीमारियों के अलावा शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर वजन कम होना, शरीर का विकास रुकना, कमजोरी और थकान और मांसपेशियों से जुड़ी समस्या हो सकती है। 

शरीर में प्रोटीन की कमी के लक्षण- Protein Deficiency Symptoms in Hindi

शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर ये लक्षण दिखाई देते हैं-

  • तेजी से वजन कम होना
  • बाल झड़ने की समस्या
  • मसल्स में दर्द
  • नाखूनों का टूटना
  • इम्यूनिटी कमजोर होना
  • शरीर में सूजन
  • शरीर का विकास प्रभावित होना
  • थकान और चिड़चिड़ापन
  • स्किन में सूजन और चकत्ते

Protein Deficiency Prevention in Hindi

प्रोटीन की कमी पूरा करने के उपाय- Protein Deficiency Prevention in Hindi

शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर दिखने वाले लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर बीमारियों से बचने के लिए आपको सबसे पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा डाइट में प्रोटीन रिच फूड्स को शामिल करने से आप इस समस्या से बच सकते हैं। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर आपको इन फूड्स का सेवन करना चाहिए- डाइट में दूध, नट्स और पनीर को शामिल करें, अंडे, सोयाबीन, दाल, नट्स और सीड्स को डाइट में शामिल करें।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer