बच्चे के नामकरण को लेकर हैं परेशान तो, जानें हिंदू रीति से कैसे रखें अपने बच्चे का नाम

हिंदू धर्म में शिशु का नामकरण संस्कार एक जरूरी प्रक्रिया है। जिस नक्षत्र और राशि में शिशु का जन्म हुआ है उसका नाम भी उसी के अनुसार रखा जाता है। 

सम्‍पादकीय विभाग
बच्चों के नामWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Mar 12, 2014
बच्चे के नामकरण को लेकर हैं परेशान तो, जानें हिंदू रीति से कैसे रखें अपने बच्चे का नाम

जन्म के बाद बच्चे के नाम पर सबकी नजर होती है कि बच्चे का नाम क्या रखा जाएगा। अगर आप नामकरण के अर्थ को समझें तो यह दो शब्दों से मिलकर बना है नाम और करण। आप सभी नाम का अर्थ तो जानते ही है पर संस्कृत में करण का अर्थ होता है बनाना या सृजन करना। हिंदु रीति में नामकरण का एक विशेष महत्व होता है। यहां हर नामकरण में नवजात के नाम रखने की प्रक्रिया को काफी संस्कार से किया जाता है। नाम रखने की इस प्रक्रिया को पूरी विधि के साथ पूरा किया जाता है। इस मौके पर परिवार सभी मुख्य सदस्य एकत्र होते हैं। 

Inside4babynamesinhindi

नामकरण संस्कार 

हिंदू धर्म में शिशु के जन्म के ग्यारहवें या बारहवें दिन के बाद उसका नामकरण संस्कार किया जाता है। जिसमें शिशु का नाम रखा जाता है। आपने अक्सर अपने घर पर बच्चे के नामकरण का अवसर देखा होगा। परिवार के सभी सदस्य बच्चे की जन्म राशि के प्रथम अक्षर के अनुसार या अपनी पसंद से नाम रखने की सलाह देते हैं और इनमें से ही सबसे अच्छा नाम तय कर लिया जाता है। नामकरण संस्कार किसी शुभ दिन और मुहूर्त में किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: अपने पैरेंट्स से हम सीखते हैं रिलेशनशिप के ये पाठ

कैसे करें नामकरण ? 

नामकरण संस्कार में एक तरह की छोटी पूजा होती है, जिसमें बच्चे के माता-पिता बच्चे को गोद में लेकर बैठते हैं। इसके अलावा घर के बाकी रिश्तेदार भी इसमें शामिल होते हैं। पूजा करने के लिए पंडित बच्चे की राशि के अनुसार एक अक्षर बताते है। जिससे बच्चे के माता-पिता या अन्य सदस्यों को एक नाम रखना होता है। वैसे तो कई लोग बच्चे का घर का नाम और बाहर का नाम अलग-अलग रखते हैं। उसके बाद बच्चे के माता-पिता चुने गए नाम को बच्चे के कान में धीरे से बोलते हैं। इसी तरह नामकरण संस्कार की प्रक्रिया पूरी हो जाती है। उस दिन बच्चे का वही नाम हो जाता है और उस नाम से ही उस बच्चे की पहचान बनती है। 

baby name

कैसे करें नाम का चुनाव 

नाम रखना वैसे तो काफी आसान होता है लेकिन ये कई बार काफी मुश्किल भी हो जाता है। आपको अपने बच्चे के लिए ये सोचना पड़ता है कि बच्चे के लिए कौन सा नाम सही रहेगा या उस नाम का मतलब क्या रहेगा। इसके अलावा आप पर यह भी दबाव होता है कि बच्चे के बड़ा होने पर उसे अपना नाम पंसद आए कहीं ऐसा ना हो कि उसे अपना नाम बताने पर शर्म आए। आजकल लोग बच्चे के नाम के लिए इंटरनेट का सहारा लेते हैं। इसमें उन्हें जिस अक्षर से नाम चाहिए वो आसानी से अर्थ के साथ मिल जाता है। 

इसे भी पढ़ें: घर में आपस में लड़ते हैं बच्चे, तो इन 5 तरीकों से समझाएं उन्हें

ऐसे तलाशें बच्चों का नाम 

  • बच्चे का नाम चुनते वक्त यह ध्यान रखें कि नाम बुलाने में आसान हो जिससे लोग आसानी से बुला सकें।
  • बच्चे का नाम सुनने में काफी अच्छा होना चाहिए और नाम रखने से पहले उसका अर्थ जरूर जान लें।  
  • बच्चों का नाम चुनते समय आप कोशिश करें नाम अलग सा हो, जिससे बच्चे के स्कूल में जाने पर उसके नाम के कई बच्चे ना हो। बच्चे का अलग सा नाम उसे भीड़ में अन्य बच्चों से अलग रखता है।

Read More Articles on Baby Name in Hindi

Disclaimer