भारत में पिछले 24 घंटे में सामने आए कोरोना के 1.85 लाख मामले, महाराष्ट्र में अगले 15 दिनों तक 'मिनी लॉकडाउन'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस का कहना है कि कोरोना वायरस की लड़ाई अभी काफी लंबी है, तो किसी भी लापरवाही को करने से बचें। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Apr 14, 2021 10:20 IST
भारत में पिछले 24 घंटे में सामने आए कोरोना के 1.85 लाख मामले, महाराष्ट्र में अगले 15 दिनों तक 'मिनी लॉकडाउन'

भारत में कोरोना (Corona Cases in India) रोज नए रिकोर्ड बना रहा है। हालिया स्थिति पर गौर करें, तो, पहले जहां एक हफ्ते में 1 लाख कोरोना मामले सामने आ रहे थे, वहीं बीते 1 हफ्ते में हर दिन 1.50 लाख मामले सामने आ रहे हैं। बात अगर मुंबई,  दिल्ली, मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश जैसे राज्यों की करें, तो यहां हर दिन हालात बेकाबू हो रहे हैं। पिछले 24 घंटे में  देशभर में कोरोना के 1,84,372 नए मामले सामने आए हैं, जिसमें 800 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इस तरह कुल मामने 1,36,89,453 हो गए हैं।  मुंबई में बिगड़ते हालात को काबू करने के लिए राज्य सरकार मे अगले 15 दिनों के लिए  धारा 144 लागू (Maharashtra Imposes Section 144) कर दिया है और कई सारे सख्त नियम और कानून लागू किए हैं। इसी बीच कोरोना की इस लहर को देखते हुए डब्ल्यू.एच.ओ चिफ टेड्रोस एडहानॉम का कहना है कि कोरोना वायरस हमारे बीच लंबे समय तक रहने वाला है और इसके खत्म होने की राह अभी बहुत लंबी है, इसलिए सचेत हो कर महामारी से लड़ें। 

Inside1coronachecking

महाराष्ट्र में 'मिनी लॉकडाउन'

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona curfew in Maharashtra) के रोजाना 50 हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, जिसे देखते हुए राज्य सरकार ने बुधवार की रात 8 बजे से पूरे राज्य में धारा 144 लगाने की घोषणा कर दी है जिसे लेकन महाराष्ट्र सरकार का आध‍िकारिक आदेश भी जारी हो चुका है। इसके तरह पूरे राज्य बिना जरूरी इधर-उधर जाने की मंजूरी नहीं होगी। इसके अलावा भी कई नियम लागू किए गए हैं, जैसे कि

  • - गैर जरूरी और गैर-आपातकालीन यात्रा को रोका जाएगा 
  • - सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक आपातकालीन सेवाओं के अलावा सब कुछ बंद रहेगा।
  • - ट्रेनों और बसों का इस्तेमाल केवल इमरजेंसी सेवाओं के लिए ही होगा। 
  • - जरूरी मेडिकल और उससे जुड़ी सेवाएं, पशुओं से जुड़ी सेवाएं, बैंक, सेबी, मीडिया, ई-कॉमर्स, पेट्रोलियम से जुड़ी गतिविध‍ियां चलती रहेंगी। 
  • - बस सुबह 7 बजे लेकर रात 8 बजे तक सभी जरूरी सेवाएं चलती रहेंगी

इसे भी पढ़ें : डॉ. केके अग्रवाल से जानें कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से कितनी अलग है और कैसे प्रभावित कर रही है

यूपी में लॉकडाउन लगाने पर विचार करे सरकार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

बात अगर यूपी की करें, तो उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन का बयान आया है कि राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यहां बीते 24 घंटे में 15 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं और 70 से ज्यादा मरीजों की मौत हो गई है। इस स्थिति देखते हुए  इलाहाबाद हाईकोर्ट ने योगी सरकार से कहा है कि राज्य सरकार को पूर्ण लाकडाउन (Lockdown in up) लगाने पर विचार करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति बेहद खराब हो रही है और राज्य सरकार को दो या तीन हफ्ते के लिए पूर्ण लाकडाउन लगाने पर विचार करना चाहिए। कोर्ट ने कहा है कि सरकार ट्रैकिंग, टेस्टिंग, व ट्रीटमेंट योजना में तेजी लाए और जरूरत पड़े तो खुले मैदानों में अस्थाई अस्पताल बनाकर कोरोना पीड़ितों के इलाज की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। 

अच्छी लाइफस्टाइल वाले लोगों में कम है कोरोना से होने वाली मौत का खतरा: स्टडी

ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन (British Journal of Sports Medicine) की मानें, तो कोरोना वायरस  के चलते होने वाली मौतों का आंकड़ा उन लोगों में काफी कम है, जो कि शारीरिक रूप से एक्टिव हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि कम से कम दो साल पहले तक महामारी के कारण अस्पताल में भर्ती होने की अधिक संभावना थी, गहन देखभाल की आवश्यकता थी पर ये शोध बताता है कि जो लोग शारीरिक रूप से सक्रिय हैं, एक्सरसाइज कर रहे हैं या अच्छी लाइफस्टाइल फॉलो कर रहे हैं, उन्हें कोरोना के बाद जटिलताएं कम हैं। 

इसे भी पढ़ें : कोरोना से खिलाफ जंग में भारत के पास अब 3 वैक्सीन, रूस की Sputnik V वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मिली मंजूरी

इधर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस एडहोम घेब्येयियस ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी के खात्मे की राह अभी बहुत लंबी है।   टेड्रोस का कहना है कि "जनवरी और फरवरी में, दुनिया में घटते मामलों के लगातार छह सप्ताह देखे गए। हमने अब लगातार सात सप्ताह तक बढ़ते मामलों और चार सप्ताह में बढ़ती मौतों को देखा है। पिछले सप्ताह एक सप्ताह में मामलों की चौथी सबसे अधिक संख्या थी। इसलिए कोई गलती मत करो, टीके एक महत्वपूर्ण और शक्तिशाली उपकरण हैं। लेकिन वे एकमात्र उपकरण नहीं हैं। मास्क काम करता है। हाथ स्वच्छता काम करता है। वेंटिलेशन काम करता है। इसलिए  संक्रमण को रोकने और जीवन बचाने के लिए इन चीजों पर खास ध्यान दें। ''

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer