वजन घटाने में मददगार है गोलो डाइट, डायबिटीज को भी करता है कंट्रोल

2020 के ट्रेंडिंग डाइट में से एक है GOLO डाइट प्लान, जो वजन कम करने और कैलोरी को बैलेंस करने में मददगार है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 14, 2020Updated at: Jan 14, 2020
वजन घटाने में मददगार है गोलो डाइट, डायबिटीज को भी करता है कंट्रोल

गोलो डाइट (GOLO Diet) उस अवधारणा पर आधारित है, जो आपके इंसुलिन को नियंत्रण करने में मदद करती है। ये कैलोरी सेवन को कम करने या पूरे खाद्य समूहों से शुगर की मात्रा को कम करके मेटाबॉलिज्म को ठीक करने में मदद करता है। दरअसल एक बार जब आपका चयापचय बेहतर ढंग से काम कर रहा होता है, तो आप अपना वजन कम कर सकते हैं और इसे आसानी से बंद करके भी रख सकते हैं। बता दें कि वजन कम करने में कुछ खास होर्मोन्स का भी हाथ होता है। गोलो डाइट आपकी भूख, मेटाबॉलिज्म और वेट मैनजमेंट में इंसुलिन और ब्लड सर्कुलेशन को ठीक रख कर मदद करता है।सीधे शब्दों में कहें, जब आपका इंसुलिन आपकी कोशिकाओं को ऊर्जा वितरित करने का अपना काम नहीं कर रहा है, तो चीनी आपके रक्त में रहती है और आपका शरीर अतिरिक्त फैट को संग्रहित करता है। गोलो डाइट के पीछे विचार यह है कि यह आपके इंसुलिन और रक्त शर्करा के स्तर को सही रखता है, जहां वे संबंधित हैं, इस प्रकार आपको कुशलता से ऊर्जा का उपयोग करने में मदद मिलती है।

Inside_benefitsofgolodiet

गोलो डाइट (GOLO Diet) क्या है?

गोलो डाइट खाद्य पदार्थों का मिक्स-एंड-मैच है। इन खाद्य पदार्थों में मीट, सब्जियां और फल जैसे आसानी से उपलब्ध चीजें आती हैं। इसमें सभी प्रकार के डाइट के प्रत्येक श्रेणी से एक से दो सर्विंग्स लेने होते हैं। अपना भोजन बनाने के लिए प्रोटीन, कार्ब्स, सब्जियां और फैट, जैसी कॉम्बो चीजों को इस डाइट में शामिल किया जाता है। आपके ब्लड शगुर को स्थिर रखने और भूख से बचाने के लिए इस डाइट को बनाया गया है। इस डाइट में नाश्ते में दो अंडे (प्रोटीन के दो सर्विंग), टोस्ट का एक टुकड़ा (एक कार्ब) मक्खन (एक फैट) और एक फल (दूसरा कार्ब) हो सकता है उसे शामिल किया जाता है। ये दोपहर के भोजन में 3 औंस चिकन (एक प्रोटीन सर्विंग), थोड़ा फैट और एक रोल (एक कार्ब) के साथ सलाद (वेजी) को मिश्रित करने का डाइट है।

इसे भी पढ़ें : डाइटिंग शुरू कर रहे हैं तो ऐसा होना चाहिए आपका फूड चार्ट, जानें किस वक्त क्या खाना है सही

Golo सप्लीमेंट्स क्या है?

गोलो वजन बढ़ाने से रोकने के लिए तेजी से काम करने और वजन कम करने से रोकने वाले असंतुलन को ठीक करने का काम करता है। इसमें अवयवों और खनिजों का एक अच्छा मिश्रण होता है, जो कंपनी के ग्लूकोज और वसा चयापचय को विनियमित करने के लिए एक साथ काम करता है और इंसुलिन को स्थिर रखता है। साथ ही साथ ये फैट और कार्बोहाइड्रेट के पाचन को धीमा करता है, जो सेटिसफाई हार्मोन को ट्रिगर करता है और भूख को कम करने में मदद करता है। तनाव और चिंता, ज्यादा भूख और भावनात्मक खाने को ट्रिगर करने से रोकता है। वहीं इसमें शामिल सप्लीमेंट्स की बात करें, तो इसमें शामिल है-

  • मैगनीशियम
  • क्रोमियम
  • सलासिया की छाल का अर्क
  • सेब का अर्क
  • सब्जी सेलूलोज़
  • ग्लाइसिन
  • सिलिका
  • साइट्रिक एसिड
Inside_weightloss

Golo डाइट से आपको क्या मिलता है?

गोलो डाइट में मेटाबोलिक योजना और फिर आहार आते हैं। इसमें आहार के सिद्धांत दिए जाते हैं। आप कितना खा सकते हैं, किन खाद्य पदार्थों से आप चुन सकते हैं और योजना पर बने रहने के लिए क्या करना है, उदाहरण के लिए, आपको दोपहर के भोजन के समय क्या खाना चाहिए ये सब गोलो डाइट में दिया रहता है। यह इस बात पर भी सलाह देता है कि अगर आप दिनचर्या में नहीं हैं, तो व्यायाम की शुरुआत कैसे करें। इसे तरह अगर आप इसे अच्छे से पालन करें, तो जल्दी ही आपको वजन कम करने या कम करने में मदद मिलेगी।शोधकर्ताओं और विशेषज्ञों का दावा है कि कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ खाना अच्छे स्वास्थ्य और वजन घटाने की कुंजी है। अगर आप अपने शरीर के आधार पर 30, 60 या 90 दिनों के लिए इस आहार का पालन करें तो ये  शरीर के हार्मोनल और चयापचय घटकों को पुनर्स्थापित और मरम्मत करता है। ये भी क्रेविंग (Cravings)को संतुष्ट करता है। इसके लिए आपको घर पर पका हुआ भोजन और हर दिन उच्च तीव्रता वाले व्यायाम को 15 मिनट तक करना है। मैग्नीशियम, जिंक और क्रोमियम जैसे आवश्यक खनिजों से भरपूर खाद्य पदार्थों का नियमित रूप से सेवन किया जाना चाहिए।  

 इसे भी पढ़ें : सब्जियां हैं शरीर के लिए फायदेमंद, मगर ज्यादा खाने पर हो सकती हैं ये 4 परेशानियां

दैनिक आहार में इसे कैसे शामिल करें?

दैनिक आहार में प्रोटीन, जटिल कार्ब्स, स्वस्थ वसा और सब्जियां आदि को इसमें शामिल किया जा सकता है। जबकि प्रोसेस्ड भोजन, बाहरी खाद्य पदार्थ, और चीनी आदि से आपको बच कर रहना चाहिए।खाने के लिए चिकन, समुद्री भोजन (विशेष रूप से फैटी मछली जैसे सामन, ओमेगा 3 फैटी एसिड में समृद्ध), डेयरी, नट, बीज, अंडे, दाल, फलियां, शीत-दबाव वाले प्राकृतिक तेल, सब्जियों की एक विस्तृत विविधता को शामिल करें। स्टार्च (आलू, रतालू) पत्तेदार साग, और हर दिन फल का एक छोटा सा हिस्सा भी इस डाइट में शामिल है। 

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer