कई रोगों के इलाज में फायदेमंद होता है कैथा फल (कपित्थ) का पेड़, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और नुकसान

कैथा एक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है। कैथा का इस्तेमाल शरीर के कई रोगों को खत्म करने के लिए किया जाता है। इसे देश-विदेश में अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 02, 2021Updated at: Apr 02, 2021
कई रोगों के इलाज में फायदेमंद होता है कैथा फल (कपित्थ) का पेड़, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और नुकसान

आयुर्वेद में कई ऐसी औषधीय हैं, जिनका इस्तेमाल कई रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। इन्हीं में से एक है कैथा (Kaitha)। कैथा को कैथ भी कहते हैं। कैथा के फूल, फल, जड़, गोंद, पत्तियों और छाल का इस्तेमाल कई रोगों के इलाज में किया जाता है। इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल आंखों के रोग, दमा और गले के रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। भूख न लगने पर भी कैथा फायदेमंद होता है। कैथा का वानस्पतिक नाम फिरोनिया लिमोनिआ (Feronia Limonia) है। अंग्रेजी में इसे वुड ऐप्पल (Wood Apple) और मंकी फ्रूट (Money Fruit) के नाम से भी जाना जाता है। हिंदी और उर्दू में इसे कैथा (Kaith) और पंजाबी में इसे  कैत (Kait) के नाम से जाना जाता है। कैथा बवासीर, ल्यूकोरिया, बुखार, खुजली और मासिक धर्म में भी बेहद लाभकारी है। इसके सेवन से कई रोग कटते हैं। आयुर्वेद में इसे औषधीय गुणों से भरपूर बताया गया है। कैथा के सेवन से स्वास्थ्य को क्या फायदे होते हैं? इसका सेवन कैसे किया जा सकता है? क्या इसे खाने से कोई नुकसान तो नहीं होता है? आपके इन सभी सवालों के जवाब दे रहें हैं राम हंस चेरीटेबल हॉस्पिटल, सिरसा के आयुर्वेदाचार्य श्रेय शर्मा- 

कैथा में मौजूद पोषक तत्व (Kaitha Nutrients)

  • विटामिन सी (Vitamin C)
  • प्रोटीन (Protein)
  • मिनरल्स (Minerals)
  • कार्बोहाइड्रेट और फाइबर (Carbohydrate and Fiber)
  • आयरन (Iron)
  • कैल्शियम (Calcium)
  • फास्फोरस (Phosphorus)
  • जिंक (Zink)
  • विटामिन बी1 और बी2 (Vitamin B1 and B2)
  • फाइटोकैमिकल (Phytochemical)

कैथा के फायदे (Health Benefits of Kaitha)

त्वचा रोग करे ठीक (Cure Skin Disease)

kaitha skin

कैथा में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। एंटीआक्सीडेंट शरीर से सारे टॉक्सिन निकालने में मदद करता है। जिससे त्वचा रोग ठीक होते हैं और स्किन एकदम साफ नजर आती है। इसके सेवन के साथ ही कैथा के पत्तों का लेप लगाने से भी त्वचा रोगों में फायदा मिलता है। इसके लिए आप कैथा या उसके पत्तों को पीसकर त्वचा विकार पर लगाएं। इससे कुछ ही दिनों में आपको फायदा मिलेगा। इसके साथ ही बार-बार होने वाले छालों में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऊर्जा प्रदान करता है (Kaitha give Energy)

अगर आप किसी भी काम को करके बहुत जल्दी थक जाते हैं, तो कैथा का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि इसके सेवन से शरीर में पूरे दिन एनर्जी बनी रहती है। कैथा फल के गूदे में भरपूर कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है, जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है। इसके अलावा यह प्रोटीन का भी अच्छा सोर्स है। एनर्जी के लिए प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट लेना जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ें - इन 5 सब्जियों को करें अपनी डाइट में शामिल, हमेशा रहेंगे ऊर्जा से भरपूर

हड्डियों और दांतों को बनाए मजबूत (Strong Bones and Teeth)

दांतों और हड्डियों की मजबूती के लिए कैथा का सेवन करना लाभकारी होता है। इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम और फास्फोरस हड्डियों और दांतों के निर्माण के लिए जरूरी होता है। इसलिए अगर आपके हड्डियां या दांत कमजोर है तो कैथा का सेवन जरूर करें। 

आंखों को रखे स्वस्थ (Healthy Eyes)

आजकल लेपटॉप, टीवी और मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से ज्यादातर लोग आंखों की समस्याओं से परेशान हैं। इनमें कोई आंखों में जलन तो कोई आंखों की कम रोशनी से परेशान है। ऐसे में अगर कैथा का सेवन किया जाए तो आंखों को स्वस्थ रखा जा सकता है। कैथा में विटामिन बी1 और विटामिन बी2 पाया जाता है, जो आंखों को स्वस्थ रखने में मदद करता है। इसके साथ ही यह त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है।

बच्चों के पेट दर्द में लाभकारी (Good for Children Stomach Pain)

बच्चों को अकसर ही पेट दर्द की शिकायत होती है। इसके लिए वे कई दवाईयों का सेवन करते हैं। कैथा के औषधीय गुणों का लाभ बच्चों के पेट दर्द को ठीक करने के लिए लिया जा सकता है। इसके गूदे का शरबत बनाकर बच्चों को पिलाने से पेट दर्द की समस्या ठीक होती है। 

भूख बढाए कैथा (Increase Appetite)

kaitha bhhook

कैथा के औषधीय गुण से भूख की कमी को दूर किया जा सकता है। कैथा के चूर्ण के सेवन से या इसका शरबत पीने से भूख बढ़ती है। जिन लोंगों को भूख नहीं लगती है उन्हें इसका सेवन करना फायदेमंद होता है। 

इम्यूनिटी बढ़ाए (Increase Immunity)

कैथा के फल को कच्चा और पका दोनों तरह से खाया जा सकता है। इसका कच्चा फल विटामिन सी का अच्छा सोर्स है। विटामिन सी हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। मजबूत इम्यूनिटी से हम सभी तरह के इंफेक्शन से अपना बचाव कर सकते हैं। कैथा फल हमें कई स्वास्थ्य समस्याओं से हमारा बचाव करता है और हमें सुरक्षित रखता है।  

बवासीर के इलाज में फायदेमंद (Beneficial in Piles)

kaitha in piles

कैथा बवासीर को भी ठीक करने में मददगार होता है। इसमें कई ऐसे औषधीय गुण होते हैं, जो बवासीर को ठीक करता है। इसका जूस पीने से बवासीर को ठीक किया जा सकता है। आयुर्वेद में इसके सेवन से बवासीर का इलाज किया जाता है। इसमें भरपूर फाइबर पाया जाता है, जो पेट को आसानी से साफ करने में मदद करता है। 

इसे भी पढ़ें - बवासीर ही नहीं बल्कि इन 5 गंभीर बीमारियों में भी शौच करने पर आता है खून, जरूर जानिए

कैथा के नुकसान (Side Effect of Kaitha)

कैथा एक आयुर्वेदिक औषधी है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। लेकिन अगर आपको किसी चीज से एलर्जी है या आप किसी बीमारी से पीड़ित हैं तो इसका सेवन आयुर्वेदाचार्य की सलाह पर ही करें।

कैथा जड़ी-बूटी को आयुर्वेद में बेहद फायदेमंद बताया गया है। इसमें कई ऐसे औषधीय गुण होते हैं, जो शरीर की कई बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। यह एक सुरक्षित जड़ी-बूटी है लेकिन आपको इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। 

Read More Article on Ayurveda in Hindi

 

 

 

Disclaimer