Sakshi Malik Fitness Secret: भारतीय महिला पहलवान और ओलंपियन, साक्षी मलिक इन दिनों 2020 ओलंपि‍क की तैयारियों में जुटीं हैं। इस लेख मेंं जानें वह खुद को कैसे फिट रखती हैं।

"/>

Sakshi Malik Fitness Secret: पहलवान साक्षी मलिक खुद को कैसे रखती हैं फिट? जानें उनका वर्कआउट और डाइट रूटीन

Sakshi Malik Fitness Secret: भारतीय महिला पहलवान और ओलंपियन, साक्षी मलिक इन दिनों 2020 ओलंपि‍क की तैयारियों में जुटीं हैं। इस लेख मेंं जानें वह खुद को कैसे फिट रखती हैं।

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Sep 04, 2019 11:11 IST
Sakshi Malik Fitness Secret: पहलवान साक्षी मलिक खुद को कैसे रखती हैं फिट? जानें उनका वर्कआउट और डाइट रूटीन

Sakshi Malik Fitness Secret: कुश्‍ती में कुल 28 मेडल अपने नाम कर चुकीं ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक का जन्‍म 3 सितंबर 1992 में हुआ था। 2016 के रियो ओलंपिक में, साक्षी कुश्‍ती में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। उन्‍होंने कांस्य पदक जीता था, अब वह 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए उस पदक के रंग को सोने में बदलने के लिए तैयारी कर रही हैं। 

एक पहलवान होने के नाते वह साक्षी मानती हैं कि फिटनेस बहुत जरूरी है, लेकिन साथ ही यह भी कहती हैं कि अच्‍छी फिटनेस हर व्‍यक्ति के लिए जरूरी है, वह चाहे महिला हो या पुरुष। सही खानपान और व्‍यायाम व्‍यक्ति स्‍वस्‍थपूर्ण जीवन जीने में महत्‍वपूर्ण योगदान करता है। साक्षी ने GQ को दिए एक इंटरव्‍यू में उन्‍होंने अपनी फिटनेस और डेली रूटीन को लेकर कई बातों का खुलासा किया है, जिसके बारे में हम आपको विस्‍तार से यहां बता रहे हैं। 

"एक पहलवान के लिए फिट होना कितना महत्वपूर्ण है" के सवाल पर साक्षी कहती हैं कि, फिटनेस सबसे महत्वपूर्ण चीज है- यदि आप फिट नहीं हैं तो प्रदर्शन करना असंभव है। यह खेल इतना कठिन है कि आपको अपने शरीर के प्रत्येक हिस्से को मजबूत बनाने की आवश्यकता होती है। जबकि इस पर लगातार काम करने की आवश्यकता है, मुझे अपनी टेक्निक्स पर काम करना काफी पसंद है। इसके अलावा, अपनी मानसिक शक्ति और अनुशासन पर काम करना भी महत्वपूर्ण है। कुश्ती जैसे खेल में, आपको आक्रमण या बचाव में जाने के लिए अलग-अलग निर्णय लेने की आवश्यकता होती है, और सही फोकस के बिना, आप इसे नहीं कर सकते। 

साक्षी मलिक का वर्कआउट रूटीन- Sakshi Malik Workout Routine 

साक्षी मलिक कहती हैं कि "हमारे पास हर सप्ताह 12 प्रकार के ट्रेनिंग सेशन हैं, जो सुबह के साथ-साथ रात में भी होते हैं।" हर दिन अलग-अलग है- एक दिन वह जिम में बिताती हैं। दूसरे दिन पैरों का काम या पॉवर ट्रेनिंग करती हैं। वह कहती हैं कि "हमारे पास मैच खेलने के लिए अलग से ट्रेनिंग सेशन भी है। रविवार, आराम करने का दिन है।

साक्षी के मुताबिक, उन्‍हें थेरैबड्स के साथ व्यायाम करना पसंद है- आप उनके साथ कहीं भी अपनी कुश्ती का अभ्यास कर सकते हैं। साक्षी को साइकिल चलाना और चिन अप करना भी पसंद है।

 
 
 
View this post on Instagram

Last training session of the week ��‍♀️���� #gym #strong

A post shared by Sakshimalik Kadian (@sakshimalik_official) onFeb 23, 2019 at 6:50am PST

वजन कम करने के लिए कार्डियो एक्‍सरसाइज करती हैं साक्षी

साक्षी कहती हैं कि, "अगर मुझे जल्दी से वजन कम करने की आवश्यकता है, तो मैं लंबी अवधि के कार्डियो एक्‍सरसाइज करना पसंद करता हूं, जैसे कि लगभग 30 मिनट तक एक ही गति से चलना या एक लंबे समय के लिए एक ही गति से साइकिल चलाना

साक्षी मलिक का डाइट रूटीन- Sakshi Malik Diet Plan  

साक्षी मलिक के मुताबिक, "मैं सख्‍ती से किसी डाइट को फॉलो नहीं करती हूं, अगर कोई कंप्‍टीशन में हिस्‍सा लेना है, तो मैं अपनी डाइट से चीनी और घी जैसी चीजों को हटा देती हूं। इससे मुझे 3 या 4 किलो वजन कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा, मैं किसी डाइट को फॉलो नहीं करती हूं।" 

 
 
 
View this post on Instagram

#throwback One of my favourite ����

A post shared by Sakshimalik Kadian (@sakshimalik_official) onNov 23, 2017 at 10:55pm PST

साक्षी मलिक के बारे में- Know about Sakshi Malik  

साक्षी मलिक का जन्म और हरियाणा के रोहतक जिले के मोखरा गांव में हुआ था, एक ऐसा क्षेत्र था जहां लड़कियों के लिए कुश्ती को खेल नहीं माना जाता था। इस क्षेत्र की लड़कियों से केवल एक ही चीज़ की उम्मीद की जाती है कि "थोड़ी पढ़ाई करो और घर का काम करो।" और शादी करने के बाद, "अपने पति और बच्चों की देखभाल करना।"

लेकिन साक्षी ने माता-पिता अपनी बेटी के पहलवान बनने की आकांक्षाओं के समर्थक थे। 12 साल की उम्र में, उन्होंने अपने कोच के साथ प्रशिक्षण शुरू किया। ये बात उन्‍होंने खुद एक इंटरव्‍यू में बताई है। साक्षी ने 2010 की जूनियर विश्व चैंपियनशिप में था जिसने पहली बार अंतर्राष्ट्रीय सफलता का स्वाद चखा, 58 किलोग्राम फ्रीस्टाइल स्पर्धा में कांस्य जीता।

बाद में, उसने ग्लासगो में 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में रजत जीता। इसके बाद 2016 रियो ओलंपिक में कांस्‍य जीतकर उन्‍होंने दुनियाभर में ख्‍याति प्राप्‍त की। वह ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनीं, जिन्होंने कांस्य पदक हासिल किया। उन्हें भारत सरकार द्वारा राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया है।

Read More Articles On Exercise & Fitness In Hindi

Disclaimer