दाद होने पर इस तरह लगाएं नीम का तेल, दूर होगी समस्या

नीम में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं। इससे त्वचा के कई समस्यओं के साथ ही दाद को भी जल्द ठीक किया जा सकता है।

 
Vikas Arya
Written by: Vikas AryaUpdated at: Jan 24, 2023 19:41 IST
दाद होने पर इस तरह लगाएं नीम का तेल, दूर होगी समस्या

नीम का इस्तेमाल चेहरे व त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने के लिए सालों से किया जा रहा है। इसमें कई औषधीय गुण होते हैं। जो आपकी त्वचा को रोगों से मुक्त रखकर उसे चमकदार बनाता है। आयुर्वेद में नीम का उपयोग कई बीमारियों की दवाओं में किया जाता है। नीम की पत्तियां, पेड़ की छाल के साथ ही नीम का तेल भी आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल व एंटी सेप्टिक गुण होते हैं, इसकी वजह से नीम को कई प्रोडक्ट में इस्तेमाल किया जाता है। इससे बालों की डैंड्रफ, जुएं व बालों के झड़ने की समस्या को भी कम किया जा सकता है। लेकिन आज हम आपको इस लेख में नीम के तेल से दाद के इलाज के विषय में विस्तार से बताने जा रहे हैं। आगे जानते हैं नीम के तेल से दाद के इलाज के बारे में।  

दाद क्या होता है? 

दाद एक स्किन इंफेक्शन है। यह एक सामान्य रुप का स्किन इंफेक्शन होता है। यह समस्या किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। दाद की समस्या पसीने की वजह से होती है। खासकर बच्चों को ये समस्या परेशान करती है। दाद की समस्या शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है।  

इसे भी पढ़ें : दूध में गुलाब जल मिलाकर लगाने से स्किन पर आएगी चमक, जानें इसे लगाने का तरीका 

neem oil for ringworm

त्वचा पर फंगस की वजह से दाद की समस्या हो जाती है। इसे ही दाद का मुख्य कारण माना जाता है। इस समसया में एक गोले के आकार का इंफेक्शन हो जाता है। ये एक संक्रामक समस्या होती है, जो एक से दूसरे व्यक्ति को आसानी से हो सकती है।  

नीम के तेल से दाद का इलाज कैसे करें? 

नीम के तेल में एंटी फंगल गुण होते हैं। इस वजह से नीम के तेल से दाद की समस्या को कम किया जा सकता है। इसके नियमित इस्तेमाल से फंगल इंफेक्शन कम होने लगता है।  

नीम के तेल में विटामिन ई, ओमेगा 6 और ओमेगा 9 फैटी एसिड पाया जाता है, जो त्वचा को रोग मुक्त रखते हैं। दाद के अलावा नीम का तेल खुजली, मुंहासों और रैशज को भी ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है। नीम का तेल इस्तेमाल करते समय आप इसमें किसी अन्य चीज को नहीं मिलाएं। नीम में एंटीहिस्टामाइन होता है, जो आपकी त्वचा से दाद की ललिमा और खुजली को शांत करता है। नीम में प्राकृतिक एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं, जो दाद के कारण होने वाली त्वचा को दोबारा ठीक करने का काम करता है।  

इसके अलावा नीम में एंटी ऑक्सीडेंट्स तत्व भी पाए जाते हैं, जो आपकी त्वचा को रिपेयर और उसे स्वस्थ बनाता है। इंफेक्शन के समय नीम का तेल इस्तेमाल करने से त्वचा की इलास्टिसिटी बेहतर होती है।    

इसे भी पढ़ें : आप भी बिना डॉक्टरी सलाह के खाते हैं त्रिफला? जानें इससे होने वाले नुकसान 

नीम का तेल कैसे बनाएं? 

नीम के पेड़ से पत्तियां तोड़ लें। इसके बाद आप इन पत्तियों को एक कटोरे में रख लें और इन सभी का पेस्ट बना लें। इन पत्तियों के साथ नारियल तेल मिलाएं। नारियल तेल भी त्वचा के लिए लाभदायक होता है। इसके बाद आपको जितना तेल बनाना होता उसमें नारियल तेल डाल दें। अब इस तेल को धीमी आंच पर करीब आधा घंटा पकने दें। जब ये तेल उबल जाए तो उसे गैस से उतार कर ठंडा होने दें। इसके बाद इसे एक बोतल में छानते हुए भर लें। आपको जब जरूरत हो इसे इस्तेमाल करें।  

 

Disclaimer