कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए ट्राई करें सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट Rujuta Diwekar के ये खास टिप्स

क्या कोलेस्ट्रॉल फैट से बनता है और इसे कम करने के लिए फैट कम करने की जरूरत है?  तो, Rujuta Diwekar से जानें कोलेस्ट्रॉल से जुड़ी जरूरी बातें। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Aug 27, 2021 16:54 IST
कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए ट्राई करें सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट Rujuta Diwekar के ये खास टिप्स

कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) को लेकर हम में से ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं। हमें लगता है कि कोलेस्ट्रॉल की हमारा मोटापा बढ़ा रहा है और कोलेस्ट्रॉल के कारण ही हमें हार्ट अटैक आ सकता है। पर ऐसा नहीं है। हम में से ज्यादातर लोगों को यही नहीं पता कि कोलेस्ट्रॉल फैट है या प्रोटीन। पर हाल ही सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता दिवेकर (Rujuta Diwekar) ने कोलेस्ट्रॉल को लेकर कुछ जरूर जानकारियों को शेयर किया। उन्होंने पहले तो बताया कोलेस्ट्रॉल होता क्या है, इसके प्रकार क्या हैं और ये किस तरह से आपकी डाइट, नींद और एक्सरसाइज को प्रभावित करती है। साथ ही उन्होंने कुछ ऐसे हेल्दी टिप्स भी शेयर किए जो कि कोलेस्ट्रॉल घटाने में आपकी मदद कर सकते हैं। तो आइए, सबसे पहले जानते हैं कोलेस्ट्रॉल है क्या? 

inside6howtoreducecholesterol

कोलेस्ट्रॉल है क्या (Cholesterol)?

ज्यादातर लोगों को लगता है कि कोलेस्ट्रॉल फैट क्योंकि जब हम इसका कोलेस्ट्रॉल चेकअप करवाते हैं तो रिपोर्ट्स में लिपीड प्रोफाईल (Lipid) जिससे आप शरीर में होने वाले फैट्स का पता लगाते हैं। जबकि ऐसा नहीं है। ये असल में फैट और प्रोटीन से बनता है। इसकी वजह से हम इसे गुड कोलेस्ट्रॉल, बैड कोलेस्ट्रॉल और वेरी बैड कोलेस्ट्रॉल के रूप में बांट देते हैं। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL)

गुड कोलेस्ट्रॉल (High-density lipoprotein) में उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन जो आपके खून से अन्य प्रकार के कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करता है। इसमें प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है। दरअसल,  कोलेस्ट्रॉल का जो मॉलिक्यूल है उसमें प्रोटीन ज्यादा होता है और फैट कम। इसलिए इसका लेयर बहुत सख्त होता है। गुड कोलेस्ट्रॉल, कोलेस्ट्रॉल को अवशोषित करता है और इसे वापस लिवर में ले जाता है। इसके बाद लिवर इसे शरीर से निकाल देता है। इस तरह एचडीएल कोलेस्ट्रॉल का उच्च हृदय रोग और स्ट्रोक के लिए आपके जोखिम को कम कर सकता है। 

बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL)

बैड कोलेस्ट्रॉल (Low-density lipoprotein) में प्रोटीन की मात्रा कम होती है और फैट की मात्रा ज्यादा होती है। एलडीएल को खराब कोलेस्ट्रॉल इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि यह आपकी धमनियों में कोलेस्ट्रॉल ले जाता है, जहां यह धमनी की दीवारों में जमा हो सकता है। आपकी धमनियों में बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल एथेरोस्क्लेरोसिस नामक पट्टिका के निर्माण का कारण बन सकता है। इससे ये ब्लड क्लॉटिंग का कारण बनता है और हृदय या मस्तिष्क में धमनी को अवरुद्ध कर देता है। ऐसे में आपको स्ट्रोक या दिल का दौरा पड़ सकता है। साथ ही प्लाक बिल्डअप प्रमुख अंगों में रक्त के प्रवाह और ऑक्सीजन को भी कम कर सकता है। आपके अंगों या धमनियों में ऑक्सीजन की कमी से दिल का दौरा या स्ट्रोक के अलावा किडनी की बीमारी या पेरिफेरल आर्टरी डिजीज हो सकता है।

वेरी बैड कोलेस्ट्रॉल (VDL)

इसमें फैट बहुत ज्यादा होती है और प्रोटीन की मात्रा कम होती है। ये शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। इसलिए आपको वेरी बैड कोलेस्ट्रॉल को 25 से नीचे रहें। साथ ही ध्यान देने वाली बात ये भी है डायबिटीज के मरीजों में वेरी बैड कोलेस्ट्रॉल के साथ ट्राई ग्लिसराइड (High Triglycerides) का लेवल भी बढ़ता है। इससे इंसुलिन रिजिस्टेंटिविटी बढ़ती है जिससे ब्लड शुगर बढ़ता चला जाता है। 

इसे भी पढ़ें : बहुत दिनों तक घर के अंदर रहने से भी शरीर और सेहत पर पड़ते हैं ये 5 नकारात्मक प्रभाव

कोलेस्ट्रॉल घटाने के उपाय- How to reduce cholesterol naturally

1. नेचुरल फैटी फूड्स खाएं

नेचुरल फैटी फूड्स जैसे कि दूध, अंडा और रेड मीट गुड कोलेस्ट्रॉल (High-density lipoprotein) को बढ़ाते हैं। पर इन्हें कम मात्रा में खाएं। जैसे कि अंडा और रेड मीट हफ्ते में दो बार खाएं। साथ ही ध्यान में रखें कि जो भी अननेचुरल फैट हैं यानी कि जिनसे हमने फैट निकाल दिया जैसे कि लो फैट दूध, लो फैट दही और सिर्फ एग व्हाइट खाना भी आपके शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। क्योंकि फैट निकालने के प्रोसेस में दूध और अंडे अपना पोषक तत्व खो देते हैं जिससे आपको इन्हें लेना का कोई फायदा नहीं मिलता। 

2. शराब ना पिएं

शराब का सेवन कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है क्योंकि शराब उसी अंग के जरिए पचाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। उदाहरण के लिए, ज्यादा शराब पीने से एलडीएल का स्तर बढ़ सकता है, जो कि दिल की बीमारियों के खतरे को बढ़ाता है। इसके अलावा, अल्कोहल ट्राइग्लिसराइड के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसलिए शराब पीने से पूरी तरह से बचें। दरअसल, बहुत से लोग  शराब पीते समय कोकनट, पीनट और नमकीन जैसी चीजों को खाते हैं और उनका मानना होता है कि ये कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है तो, ये गलत है। जबकि आपका कोलेस्ट्रॉल शराब के कारण बढ़ रहा होता है। 

3. फ्राइड फूड कम खाएं

ज्यादातर लोगों को लगता है कि फ्राइड फूड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाते हैं उन्हें ये नहीं पता कि बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) का भी शरीर में कई काम है। ये हार्मोनल फंक्शन में मदद करते हैं, इसलिए कोशिश ये करें कि बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) को बंद ना करें बल्कि इसे कम करें। इसलिए आप रूजुता दिवेकर के इस फॉर्मूला को अपना सकते हैं जैसे कि साल में 365 दिन होते हैं और उनमें से 300 दिन अगर आप नॉर्मल खाना जैसे कि दाल भात खाएं और 65 दिन फ्राइड फूड खाएं तो, इससे आपका बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) इतना नहीं बढ़ेगा कि आपको ये नुकसान पहुंचा दे। 

inside5eggwhite

इसे भी पढ़ें : एलर्जी टेस्ट क्या है और कब करवाना चाहिए? जानें इस टेस्ट की प्रक्रिया और जरूरी बातें

4. एक्टिव लाइफस्टाइल फॉलो करें

एक्टिव लाइफस्टाइल ना फॉलो करने की वजह से भी लोगों में बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL)और  ट्राइग्लिसराइड बढ़ने लगता है। दरअसल, जब आप कोई शारीरिक काम नहीं करते, एक्सरसाइज नहीं करते या फिर वॉक पर नहीं जाते हो इसके कारण आपका  ट्राइग्लिसराइड लेवल बढ़ता चला जाता है। इससे ब्लड वेसेल्स में  ट्राइग्लिसराइड चिपक जाते हैं और ये ब्लड के फ्लो को नुकसान पहुंचाते हैं या फिर ब्लड वेसेल्स को बॉल्क कर देते हैं। इससे हार्ट डिजीज का खतरा बढ़ाता है। इसलिए एक्सरसाइज करें और एक्टिव लाइफस्टाइल फॉलो करें। 

5. डाइटिंग से बचें

कुछ लोग वजन घटाने के लिए फास्टिंग या डाइटिंग की मदद लेते हैं। ऐसे में वो बाहर से तो पतले हो जाते हैं पर अंदर से उनका बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL)बढ़ता जाता है। ऐसे लोगों को डाइटिंग के बाद हार्ट इंफेक्शन या दिल से जुड़ी कोई बीमारी हो सकती है। जबकि अगर आप बाहर से मोटे हैं पर आपका  बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL)सही है और बढ़ नहीं रहा तो, आप पूरी तरह से हेल्दी हैं। इस तरह से डाइटिंग से नुकसान होता है।

ध्यान रहे कि जितना आप पैकेट वाली चीजों को खाएंगे उतना ही आपका  बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) बढ़ेगा। इसलिए पैकट वाली चीजों को खाने से बचें। साथ ही कोशिश करें कि हफ्ते में 3 बार एक्सरसाइज जरूर करें। वॉकिंग, योगा और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग आपकी  बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL)को कम करने में मदद करता है। साथ ही स्ट्रेस ना लें। क्योंकि स्ट्रेस आपकी नींद को प्रभावित करता है, ट्राई ग्लिसराइड बढ़ता है और आपको बीमारियों का शिकार बना सकता है।

All image credit: freepik

Read more articles on Miscellaneous in hindi

Disclaimer