अपनी स्किन टाइप के अनुसार कैसे चुनें सही मॉश्चराइजर?

अगर आपको लगता है कि गर्मियों में मॉश्चराइजर का प्रयोग नहीं करना चाहिए तो आप गलत हैं। जानें कैसे चुनें सही मॉइश्चराइजर।

Monika Agarwal
त्‍वचा की देखभालWritten by: Monika AgarwalPublished at: May 19, 2022Updated at: May 19, 2022
अपनी स्किन टाइप के अनुसार कैसे चुनें सही मॉश्चराइजर?

मॉइश्चराइजर हमारी स्किन केयर का एक मुख्य हिस्सा होता है। इसके जरिए हम अपनी स्किन को ड्राई होने से बचा सकते हैं और स्किन को हाइड्रेट कर सकते हैं। यह रूखेपन की वजह से आने वाली फाइन लाइंस और झुर्रियों का रिस्क कम करता है। यदि आपको लगता है कि गर्मियों में मॉश्चराइजर का प्रयोग नहीं करना चाहिए तो ऐसा नहीं है। गर्मियों में भी आपकी त्वचा को किसी अच्छे मॉइश्चराइजर की जरूरत होती है। हेमाली मेहता एकेडमी की फाउंडर और ओनर मिस हेमाली मेहता बताती हैं कि अगर मॉइश्चराइजर चुनने की बात करें तो आपको हमेशा अपनी स्किन टाइप का ध्यान रखते हुए ही मॉइश्चराइजर का चुनाव करना चाहिए। हालांकि आप को मौसम देखकर भी मॉइश्चराइजर का चुनाव करना चाहिए। साथ ही हर व्यक्ति का बजट, उसकी व्यक्तिगत प्राथमिकता भी उसके मॉइश्चराइजर के सेलेक्शन को बदल सकती है। मॉइश्चराइजर चुनने के लिए सबसे मुख्य चीज होती है आपकी स्किन टाइप। स्किन टाइप के मुताबिक मॉइश्चराइजर में क्या-क्या इंग्रेडिएंट्स है वह भी चेक करने चाहिए। जानते हैं विस्तार से।

इंग्रेडिएंट्स की लिस्ट 

मॉइश्चराइजर पर इंग्रेडिएंट्स की लिस्ट भी एक बार जरूर पढ़नी चाहिए। पेट्रोलियम जेली, लेनोलिन जैसे इंग्रेडिएंट्स को ऑयली स्किन वाले लोगों को जितना हो सके उतना कम इस्तेमाल करना चाहिए। इन इंग्रीडिएंट का प्रयोग ड्राई स्किन के लोगों के लिए बेहतर होता है। ह्यालुरोनिक एसिड और काओलिन ऑयली स्किन वाले लोगों के लिए बेस्ट रहते हैं। नियासिनमाइड सिबम कंट्रोल करने में मदद करता है। अगर आपकी सेंसिटिव स्किन है तो बिना खुशबू और आर्टिफिशियल डाई वाले मॉइश्चराइजर का प्रयोग करें। अगर एंटी एजिंग एडिटेव एड होंगे तो यह स्किन के लिए और भी ज्यादा लाभदायक है। एसपीएफ और एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर मॉइश्चराइजर का प्रयोग दिन में, जबकि एंटी एजिंग इंग्रेडिएंट्स का प्रयोग रात में किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें- घर पर बनाएं गर्मियों के लिए खास मॉइश्चराइजर, बिना स्किन को ऑयली किए देंगे त्वचा को नमी

ड्राई स्किन

ड्राई स्किन, हवा में नमी की कमी होना या सर्दियों का मौसम आना, और अगर आप कठोर प्रोडक्ट्स का प्रयोग करते हैं तो आपकी स्किन काफी खराब और डैमेज हो सकती है। अगर ऐसी स्किन है तो आपको दिन में दो से तीन बार मॉइश्चराइजर जरूर अप्लाई करना चाहिए। आपकी स्किन को जब-जब ड्राई महसूस हो तब-तब आप मॉइश्चराइजर का प्रयोग कर सकते हैं। दिन में आप लाइट मॉइश्चराइजर का प्रयोग कर सकते हैं तो रात में हैवी का। आप को नहाने के 5 मिनट के अंदर ही मॉइश्चराइजर का प्रयोग करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से स्किन से वॉटर लॉस होने की स्थिति नहीं उत्पन्न हो पाती है।

skin moisturizer

ऑयली स्किन

बहुत से लोगों को लगता है कि ऑयली स्किन वाले लोगों को मॉइश्चराइजर का प्रयोग करने की जरूरत नहीं होती लेकिन ऐसा नहीं है। हर स्किन टाइप के लोगों को मॉइश्चराइजर की जरूरत होती है। ऑयली स्किन वाले लोगों को लाइट वेट, नॉन कोमोडोजेनिक और जेल बेस्ड मॉइश्चराइजर की जरूरत होती है। इन मॉइश्चराइजर से स्किन हैवी  ग्रीसी बनने की बजाए हाइड्रेट होती है। अगर आप इनमें नियासिनमाइड जैसे इंग्रेडिएंट्स होंगे तो और भी अच्छा होता है। मॉइश्चराइजर स्किन बैरियर को मेंटेन करने में, सिबम सेक्रेशन को नियमित करने में और स्किन को हाइड्रेट करने के लिए बहुत लाभदायक होते हैं खास कर उन लोगों के लिए जो, एक्ने की दवाइयां खा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें- चेहरे के एजिंग के लक्षण मिटा देगा एलोवेरा जेल से बना ये फेस मॉइश्चराइजर

<

नॉर्मल स्किन

नॉर्मल स्किन के लोगों के लिए लोशन और क्रीम फॉर्मुलेशन भी काम करती हैं। ड्राई स्किन को थोड़ी थिक क्रीम की जरूरत होती है। ड्राई स्किन के लोग ऑइंटमेंट ऑयल बेस्ड लोशन खरीद सकते हैं जो उनकी स्किन में मॉइश्चर लॉक कर सके। डाइमेथिकोन जैसे सिलिकॉन नॉर्मल से ड्राई स्किन के लोगों के लिए लाभदाई होते हैं। एलो  केमोमाइल जैसे सूथिंग इंग्रेडिएंट्स सेंसिटिव स्किन के लोगों के लिए बेहतर होते हैं। ऐसी स्किन के लोगों को लोशन, क्रीम या जेल का प्रयोग करना चाहिए।

तो स्किन के हिसाब से मॉइश्चराइजर का प्रयोग करना काफ़ी जरुरी होता है। आपको एक बात का और ध्यान रखना चाहिए कि हर मौसम में आपकी स्किन काफ़ी बदल जाती है,इसलिए ही आपको मौसम के हिसाब से भी अपने मॉइश्चराइजर में बदलाव करते रहना चाहिए। जिससे आपकी स्किन को वह मिल सके जो वह चाहती है और जिन इंग्रेडिएंट्स की उसको जरुरत होती है।

Disclaimer