मुंह का स्वाद चले जाने के पीछे हो सकते हैं ये 6 कारण, एक्सपर्ट से जानें मुंह का स्वाद कैसे ठीक करें?

सर्दी, जुकाम, बुखार जैसी परेशानियां होने पर हमारे मुंह का स्वाद अक्सर चला जाता है। पर क्या आप जानते हैं कि मुंह का स्वाद कैसे ठीक करें। 

सम्‍पादकीय विभाग
विविधWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jan 28, 2021Updated at: Jan 28, 2021
मुंह का स्वाद चले जाने के पीछे हो सकते हैं ये 6 कारण,  एक्सपर्ट से जानें मुंह का स्वाद कैसे ठीक करें?

बुखार और सर्दी-जुकाम होने पर अक्सर लोगों के मुंह का स्वाद (loss of taste in common cold) चला जाता है।  पर क्या आपने कभी सोचा है कि क्यों बीमारियों में  मुंह का स्वाद खराब हो जाता है (What causes loss of taste)? इस बारे में हमने  स्वामी दयानंद अस्पताल के जनरल फिजिशियन डॉ. ग्लैडविन त्यागी से बात की, जिन्होंने हमें इसके कारणों और उपायों के बारे में बताया। डॉ. ग्लैडविन की मानें, तो अक्सर वायरल डिजीज में मुंह का स्वाद कड़वा या कसैला हो जाता है। हम कुछ भी खाते हैं तो उसका टेस्ट जीभ को नहीं मिलता। यही नहीं कई बार सूंघने की क्षमता (loss of smell) भी चली जाती है। ये सभी टेस्ट बड्स की खराबी या इसके काम न करने (taste buds not working) के कारण होता है। 

dentalissues

क्यों जाता है मुंह का स्वाद- (What causes loss of taste)? 

डॉक्टर ग्लैडविन त्यागी के अनुसार जब हमें वायरल बीमारियां होती हैं तब हमारे मुंह का स्वाद चला जाता है। बैक्टीरियल बीमारियों में मुंह का स्वाद बहुत कम जाता है। वायरल बीमारियों की वजह से जीभ, गाल और नाक के अंदर काम करने वाले टेस्ट बड्स काम करना बंद कर देते हैं। जिससे मुंह में किसी भी तरह का स्वाद नहीं आता। संक्रमण टेस्ट वाली कोशिकाओं पर म्युकस की लेयर बना देता है। जिससे बीमारी में कुछ भी खाने पर स्वाद नहीं आता। ये जाहिर सी बात है जब स्वाद वाली कोशिकाओं पर एक झिल्ली बन जाएगी तो उससे कुछ भी खाने पर स्वाद नहीं आएगा। यह झिल्लियां नाक के भीतर भी काम करती हैं जिससे कुछ भी सूंघने पर उसकी स्मेल नहीं आती।

इन कारणों से भी जाता है मुंह का स्वाद

1. तंबाकू और सुपारी खाने से : लंबे समय तक तंबाकू या सुपारी खाने से मुंह के टेस्ट बर्ड्स मर जाते हैं जिससे कोशिकाएं हार्ड हो जाती हैं और मुंह का स्वाद चला जाता है।

2.  मुंह का कैंसर : डॉक्टर के मुताबिक अगर किसी को मुंह का कैंसर हो गया है तो उसमें भी मुंह का स्वाद चला जाता है। इसमें कीमोथैरेपी के दौरन स्वाद चला जाता है।

3. दवाओं के सेवन से : डॉ त्यागी के अनुसार दवाइयां खाने से भी मुंह का स्वाद बदल जाता है। इसमें टेस्ट जाता नहीं है बल्कि दवा का टेस्ट ज्यादा आता है। जो दवाई हमने खाई है उस दवाई की वजह से जो कैमिकल बनता है उसका टेस्ट पूरी बॉडी में ब्लड के माध्यम से सर्कुलेट होता है जिससे मुंह के अंदर कड़वा या खारा टेस्ट हो जाता है।

4. जीभ पर गंदगी जमा होने पर : अक्सर जब हम जीभ को रोजाना साफ नहीं करते हैं तब जीभ पर गंदगी जमा हो जाती है, जिससे जीभ पर एक मोटी परत बन जाती है। इस वजह से भी मुंह का स्वाद बिगड़ता है।

5. तनाव होने पर : तनाव या एंग्जायटी होने पर भी मुंह सूख जाता है जिससे मुंह का टेस्ट बिगड़ता है। मुंह में लार नहीं बनती जिससे टेस्ट तो बिगड़ता ही है साथ ही मुंह से बदबू भी आने लगती है।

6. मस्तिष्क की नसें डैमेज होने पर : दिमाग की नसें डैमेज होने पर दिमाग को जो नसें स्वाद की पहचान के लिए होती हैं वो यह पहचान नहीं कर पातीं जिससे जीभ स्वाद की पहचान नहीं कर पाती। 

इसे भी पढ़ें : आपके बच्चों की आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं हैंड सैनिटाइजर, शोध में हुआ खुलासा

किन बीमारियों में जाता है मुंह का स्वाद?

1.बुखार : बुखार में शरीर का तापमान बढ़ जाता है। बदन टूटने लगता है। न भूख लगती है और न प्यास। ऐसे में शरीर में कमजोरी तो आती ही है साथ ही शरीर में पानी की कमी भी हो जाती है। बुखार में मुंह का स्वाद कड़वा हो जाता है। जिसमें कुछ भी खाने पर टेस्ट नहीं आता। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बुखार की वजह से मुंह के अंदर के टेस्ट बड्स काम करना बंद कर देते हैं। 

2.एसिडिटी : एसिडीटी होने पर गले में और सीने में जलन होती है। जिससे मुंह का स्वाद कड़वा हो जाता है।

3.जुकाम : जुकाम बहुत ही आम बीमारी है। हम जानते हैं कि जुकाम में नाक तो सबसे ज्यादा प्रभावित होती ही है साथ ही कोई भी गंध नहीं आती। नाक बहने और ठीक तरह से सांस ले पाने के कारण खांसी और बुखार जैसी परेशानियां भी जाती हैं। लेकिन जुकाम अक्सर एक से दो हफ्ते में ठीक हो जाता है। जुकाम में भी मुंह का स्वाद चला जाता है। इसमें नाक के अंदर म्युकस बन जाता है जिससे स्वाद वाली कोशिकाएं बंद हो जाती हैं और टेस्ट नहीं आता।

4.खांसी : खांसी में बार-बार खांसने से गला छिल जाता है। जीभ कसैली हो जाती है। जिससे कुछ भी खाने पर उसका स्वाद मुंह को नहीं मिलता।

इसे भी पढ़ें : सर्दी-ज़ुकाम होने पर अवॉइड करें ये 7 चीज़ें तो जल्दी होगी रिकवरी

मुंह का स्वाद कैसे ठीक करें?- (Home remedies for loss of taste in Hindi)

1. वायरल इन्फेक्शन में घबराएं नहीं 

डॉक्टर के मुताबिक सामान्य सर्दी, जुकाम, बुखार जैसे वायरल इन्फेक्शन हफ्ते भर में ठीक हो जाते हैं, लेकिन बैक्टीरियल संक्रमण में एंटीबायोटिक लेनी पड़ती हैं। इसलिए वायरल संक्रमण में घबराएं नहीं। अगर आपका बुखार या जुकाम हफ्ते भर में ठीक नहीं हो रहा है तो डॉक्टर से सलाह लें।

drinkingwater

2.तरल पदार्थ लें

अक्सर जब हम बीमार पड़ते हैं तब भूख-प्यास के साथ-साथ स्वाद भी चला जाता है। शरीर में पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में जब किसी भी खाद्य पदार्थ का स्वाद न आ रहा हो तब तरल पदार्थों को सेवन करें। जिनमें आप दाल का पानी, जूस, चावल का पानी ले सकते हैं। बहुत बार बुखार ठीक होने के बाद भी मुंह का स्वाद कड़वा रहता है तो इसका मतलब है कि आपके अंदर अभी भी संक्रमण है जो धीरे-धीरे ठीक हो रहा है। वायरल बीमारियों में दिन में पानी खूब पिएं। पानी पीने से शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होती जिससे मुंह का स्वाद भी नहीं बिगड़ता। हां अगर आपको पानी भी कड़वा लग रहा है आपके मन में जिस तरह के टेस्ट की इच्छा हो रही है उस तरह के टेस्ट का तरल पदार्थ पिएं। बस आपको शरीर में तरलता की कमी या पानी की कमी न हो।

3.मुंह की सफाई

मुंह की सफाई कई बीमारियों को पनपने से रोकती है। इसलिए जरूरी है कि सुबह-शाम से दांतों को साफ किया जाए। साथ ही जीभ की निरंतर सफाई की जाए जिससे मुंह का स्वाद न बिगड़े। साथ ही अगर आप नियमित रूप से दांतों के डॉक्टर के पास जाते हैं और जांच करवाते हैं तो आपको मुंह से संबंधित परेशानियां कम होंगी। आपके मसूड़े स्वस्थ रहेंगे। डॉक्टर की बताई सलाह से आपका मुंह स्वस्थ रहेगा। और आपकी सेहत भी बनी रहेगी।

4.नशीले पदार्थों का सेवन करें नियंत्रित

जुकाम, बुखार, खांसी में तो मुंह का स्वाद जाता ही है साथ ही नशीले पदार्थों का अधिक सेवन करने से भी मुंह का स्वाद चला जाता है। इसलिए जरूरी है कि तंबाकू या शराब जैसे पदार्थों को सेवन नियंत्रित रूप से करें।

5.मसालेदार खाना न खाएं 

मसालेदार भोजन खाने से शरीर में एसिड रिफ्लक्स होता है जिससे मुंह का स्वाद बिगड़ जाता है। इसलिए ऐसे खाद्य पदार्थों को नियंत्रित रूप से खाएं, ताकि आपको कोई नुकासन न हो।

ध्यान रहे कि कोरोना और सामान्य बुखार, जुकाम में अंतर है। सामान्य सर्दी, जुकाम, बुखार और कोरोना के लक्षणों में भी मुंह का स्वाद चला जाता है। ऐसे में कन्फ्यज न हों। डॉक्टर के मुताबिक सामान्य तौर पर कोरोना में तेज बुखार, सांस लेने में तकलीफ, छाती में जकड़न आदि लक्षण दिखाई देते हैं। तो, साधारण वायरल में बहुत तेज बुखार नहीं होगा या बदन में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देंगे। लेकिन कोरोना और सामान्य सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार में कन्फ्यूज न हों। अगर आपको सर्दी, जुकाम, बुखार जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। कहीं ऐसा न हो जिसे आप सामान्य बुखार समझ रहे हैं कहीं वह कोरोना का लक्षण हो।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer