जीभ की सफाई न करने से हो सकती हैं कई बीमारियां, डेंटिस्ट से जानें क्यों जरूरी है और कैसे करें जीभ को साफ

दांतों की ही तरह जीभ की भी रेगुलर सफाई न करने से कई बीमारियां हो सकती हैं। डॉक्टर से जानें जीभ की सफाई करने का सही तरीका।

 

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jan 01, 2021Updated at: Jan 01, 2021
जीभ की सफाई न करने से हो सकती हैं कई बीमारियां, डेंटिस्ट से जानें क्यों जरूरी है और कैसे करें जीभ को साफ

ओरल हेल्थ हाइजीन के लिए प्रत्येक व्यक्ति रोजाना ब्रश और फ्लॉस करता है लेकिन अपनी जीभ की साफ-सफाई (Tongue Scrapping) की ओर ध्यान नहीं जाता। जबकि जीभ साफ रखना आपके मुंह की सफाई का एक जरूरी व महत्वपूर्ण हिस्सा है। जिसे आपको ब्रश करने, फ्लॉसिंग के साथ-साथ भूलना नहीं चाहिए। ताकि हमारे मुंह में ताजगी बरकरार रहे और हमारे दांत खराब न हो (oral care routine)। यही आदत हम अपने बच्चों को भी सिखाते हैं। डॉ गुनिता सिंह, डायरेक्टर डेंटम का कहना है कि, "यहां सोचने वाली बात ये है कि क्या सिर्फ दांत की सफाई ही काफी है? क्या सिर्फ दांत की सफाई से हमें मुंह में पनप रहे कीटाणुओं से छुटकारा मिल जाता है? हमारे लिए जितना महत्वपूर्ण दांतों की सफाई है, उतनी ही महत्वपूर्ण जीभ की भी सफाई है। यही नहीं मुंह के अंदर हो रहे बहुत से बदलावों से भी आप पहचान सकते हैं कि आपकी जीभ को साफ रखने की कितनी जरूरत है।"

cleaning tongue

हालांकि आजकल बाजार में कई तरह के जीभ को साफ़ रखने के लिए उपकरण या टूल उपलब्ध हैं। आप उनकी मदद ले सकते हैं। बता दें हम जब भी भोजन या कोई ड्रिंक लेते हैं तो हमारा शरीर विषाक्त कणों के सम्पर्क में आ जाता है और उसे ठीक से पचा नहीं पाता। जीभ आपके मानसिक स्वास्थ्य की भी कहानी बयाँ कर सकती हैं। बहुत से लोग मानसिक तनाव में ज्यादा खाते हैं या नेल बाइटिंग करते हैं तब जीभ और दांतों में कीटाणु घर कर लेते हैं। तभी कहा जाता है कि जिस जीभ के इस्तेमाल से आहार हमारे पेट में जाता है, वो जीभ साफ़ सुथरी रहे ताकि उसमें कीटाणु जम ना सकें। अगर आपके शरीर में विषाक्त जमा हो रहे हैं तो आप इन लक्षणों से उन्हें पहचान सकते हैं।

  • आपकी जीभ में सफेद रंग की परत दिखाई देने लगती है।
  • मुंह से बदबू आने लगती है।
  • आपको कमजोरी महसूस हो सकती है।
  • शरीर में दर्द की भी समस्या आ सकती है।
  • आपको कब्ज, डायरिया, सूजन, थकान या सुस्ती भी हो सकती है।
  • भूख कम लगती है
tongue cleaning

समय पर हो जीभ की सफाई (Benefits Of Tongue Scrapping)

आप अपनी जीभ को साफ़ रखने के लिए कई टूल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन टंग क्लीनर का इस्तेमाल बेहद आसान है। समय-समय पर जीभ में गंदगी के साथ, बैक्टीरिया और डेड कोशिकाएं जम जाती है। जिससे सांस में बदबू आने लगती है। जो आपको किसी के सामने भी शर्मसार कर सकती है। अगर टंग क्लीनर की मदद से आप अपनी जीभ को साफ़ करते हैं तो आपको कई समस्याओं से निजात मिल सकती है और इससे जुड़े कई फायदे भी हैं जो आपको मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें: जीभ से खून आने के पीछे हो सकते हैं ये 3 कारण, जानें लक्षण और बचाव के घरेलू उपचार

स्वाद में हो सुधार (Scrapping Is Good For Taste)

जीभ की सफाई रोज करने से आपके स्वाद में सुधर होता है। शोध की मानें तो हर रोज दो बार जीभ को साफ़ करने से जीभ में जमी गंदगी और कीटाणुओं की परत हट जाती है। जिससे जीभ कड़वी, मीठी, नमकीन और खट्टी चीजों के बीच अंतर पहचानने में सक्षम बनती है।

जीभ साफ करने से दांत होते हैं मजबूत (Prevent Tooth Decay)

शोध के अनुसार रोज दिन में दो बार जीभ की सफाई करने से मुंह में म्यूटेंट स्ट्रेप्टोकोकी और लैक्टोबैसिली बैक्टीरिया में कमी आती है। बता दें ये बैक्टीरिया बदबूदार सांसे और दांत खराब करने का कारक बन सकते हैं। रोज जीभ पर विशेष ध्यान देने के साथ उसकी सफाई से बैक्टीरिया दूर रहती है। ये बैक्टीरिया कैविटीज, मसूड़ों की बीमारी और मुंह को प्रभावित करते हैं। अच्छे डॉक्टर्स भी दांतों को ब्रश करने के साथ जीभ की सफाई करने की सलाह देते हैं।

कैसे करें जीभ की सफाई (How to Use Tongue Cleaner)

बात दांतों की सफाई की हो उसके लिए हम ब्रश का इस्तेमाल करते हैं। वहीं बात जब जीभ की सफाई की हो तो इसे ब्रश से साफ़ नहीं कर सकते। क्योंकि ऐसा करने से हमारी जीभ में घाव भी हो सकता है। जीभ की सफाई के तरीके अलग होते हैं, और वो क्या हैं आइये जानते हैं।

healthy tongue

  • सुबह ब्रश करने से पहले खाली पेट Empty Stomach) गर्म पानी पिएं। बाद में ब्रश करने के बाद जीभ को साफ करें।
  • टंग क्लीनर (Tongue Cleaner) को दोनों हाथों से पकड़े जीभ को फैलाएं और टंग क्लीनर को जितना पीछे आराम से ले जा सकें, ले जायें। इसे जीभ की सतह (Tongue Surface) तक पहुंचाने की कोशिश करें।
  • जीभ से सफ़ेद परत हटाने के लिए टंग क्लीनर का कम से कम दस बार इस्तेमाल करें।
  • जीभ की सफाई के बाद कुल्ला (Rinse) करते वक्त ये ध्यान दें कि जीभ की सफाई ठीक से हुई है या नहीं।
  • जीभ को किसी कोमल टूल से साफ़ करने की कोशिश करें।
  • कम से कम दो मिनट के लिए दिन में दो बार ब्रश (Brush Your Teeth) करने के साथ जीभ भी साफ़ रखें।
  • ज्यादा से ज्यादा पानी पियें, इससे न केवल शुष्क मुंह को रोकने में मदद मिलती है बल्कि बदबूदार सांस (Bad Breath) से भी छुटकारा मिलता है।

अगर आप भी जीभ की सफाई पर ध्यान नहीं देते तो, अब सतर्क हो जाएं। दरअसल साफ जीभ के कारण आप आधी बिमारी को शरीर से बाहर रखने में कामयाब हो जाएंगे। यदि आप अपने मुंह में किसी भी तरह के सफेद धब्बे या असामान्य बंप या छालों अथवा घावों को देखते हैं, तो फौरन दांतों के डॉक्टर को दिखायें। ताकि समय रहते उपचार हो सके। यह ओरल थ्रश या किसी अन्य बिमारी का संकेत हो सकता है।

डॉ गुनिता सिंह, डायरेक्टर डेंटम से बातचीत पर आधारित।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer