Doctor Verified

महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल बढ़ने पर दिखते हैं ये 9 लक्षण, जानें इसे कैसे करें कम

high estrogen symptoms: बाल झड़ना, नींद न आना और मूड स्विंग महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ने के लक्षण हो सकते हैं। एस्ट्रोजन कम कैसे करें?

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jan 22, 2022Updated at: Jan 22, 2022
महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल बढ़ने पर दिखते हैं ये 9 लक्षण, जानें इसे कैसे करें कम

high estrogen symptoms: स्वस्थ रहने के लिए शरीर में हार्मोन्स का संतुलन में होना जरूरी होता है। जब ये असंतुलित होते हैं, तो कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। एस्ट्रोजन को महिला हार्मोन के रूप में जाना जाता है। वही टेस्टोस्टेरोन को पुरुष हार्मोन (testosterone hormone in male) के रूप में जाना जाता है। लेकिन दोनों हार्मोन महिलाओं और पुरुषों में पाए जाते हैं। महिलाओं में एस्ट्रोजन अधिक और टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है। एस्ट्रोजन हार्मोन (estrogen hormone in female) महिलाओं में यौन विकास शुरू करने में मदद करता है। लेकिन जब महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन अधिक बढ़ जाता है, तो उन्हें बाल झड़ने, मूड स्विंग, तनाव समेत कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। महिलाओं में हाई एस्ट्रोजन हार्मोन कैसे कम करें? इसे बारे में विस्तार से जानने के लिए हमने एचसीएमसीटी मणिपाल हॉस्पिटल, द्वारका के सलाहकार-प्रसूति और स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रितु गर्ग (Dr. Ritu Garg, Consultant - Obstetrics & Gynaecology, HCMCT Manipal Hospital, Dwarka) से बातचीत की-

irreguler periods

एस्ट्रोजन स्तर बढ़ने के लक्षण (high estrogen symptoms)

एस्ट्रोजन हार्मोन महिलाओं और पुरुषों दोनों में प्रजनन प्रणाली के कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन अधिक होता है, लेकिन जब यह काफी (high estrogen in women) बढ़ जाता है तो इस दौरान महिलाओं में कई तरह के लक्षण नजर आते हैं। जानें महिलाओं में एस्ट्रोजन स्तन बढ़ने के लक्षण (high estrogen in women symptoms)

  • 1.वजन बढ़ना
  • 2.यौन इच्छा में कमी
  • 3.अनिद्रा या नींद न आना
  • 4.बालों का झड़ना
  • 5.मूड स्विंग, क्रोध और सिर दर्द
  • 6.निराशा, थकान, तनाव और चिंता
  • 7.स्तनों में सूजन और कोमलता
  • 8.अनियमित मासिक धर्म
  • 9.ठंडे हाथ और पैर

एस्ट्रोजन हार्मोन कम कैसे करें (how to reduce estrogen in women)

प्रसूति और स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रितु गर्ग बताती हैं कि महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन को संतुलन में रखने, बढ़े हुए एस्ट्रोजन के लक्षणों में कमी करने के लिए जीवनशैली और आहार में बदलाव जरूरी है। जानें एस्ट्रोजन हार्मोन कम कैसे करें?

इसे भी पढ़ें - महिलाओं में हार्मोनल बदलावों के कारण हो सकती हैं ये 5 यौन समस्याएं, डॉक्टर से जानें इनके बारे में

fiber rich diet

1. लो फैट डाइट (Low fat diet): एस्ट्रोजन स्तर के अधिक बढ़ने पर लो फैट डाइट लेना शुरू कर दें। इससे महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन संतुलन में आ जाएगा। इसके लिए क्रूसीफेरस  सब्जियां, गाजर, अलसी और सोया उत्पादों का सेवन करना फायदेमंद होता है।

2. फाइबर युक्त आहार (fiber rich diet): फाइबर युक्त आहार एस्ट्रोजन के स्तर को संतुलन में रखने में मदद करता है। इसके लिए आप अपनी डाइट में अधिक मात्रा में फलों, सब्जियों का सेवन करें। इनमें फाइबर के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट्स भी होता है। 

3. वजन कंट्रोल में रखें (weight control): एस्ट्रोजन हार्मोन के अधिक होने पर वजन बढ़ने लगता है। तभी लो फैट और फाइबर युक्त आहार खाने की सलाह दी जाती है। क्योंकि इससे वजन नियंत्रण में रहता है। साथ ही वेट लॉस में भी मदद मिलती है। वजन घटाने के लिए एक्सरसाइज और योग भी अपनी जीवनशैली में शामिल करें।

4. इन चीजों से परहेज करें (Avoid these foods): एस्ट्रोजन के बढ़े स्तर को संतुलन में रखने के लिए आपको पैकेज्ड फूड और मैदा से परहेज करना होगा। साथ ही कैफीन और शराब का भी सेवन करने से बचें। 

5. हमेशा खुश रहें (be happy): तनाव में रहना, खुश रहने का असर हमारे हार्मोन्स पर भी पड़ता है। जब आप बहुत अधिक तनाव में रहते हैं, तो हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं। ऐसे में एस्ट्रोजन के स्तर को सामान्य रखने के लिए तनाव से दूर रहें और हमेशा खुश रहें। इसके लिए उन चीजों को अपनी जीवनशैली में शामिल करें, जो आपको खुशी देती हैं।  

इसे भी पढ़ें - स्तनों के साइज में अंतर: दोनों ब्रेस्ट क्यों होते हैं एक-दूसरे से अलग? जानें इसके 6 कारण

अगर आपको भी एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ने जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं, तो आप इन उपायों का आजमा सकते हैं। साथ ही डॉक्टर की राय भी जरूर लें। क्योंकि बढ़ा हुआ एस्ट्रोजन कई समस्याओं का कारण बन सकता है।

Disclaimer