हेपेटाइटिस बी क्यों माना जाता है लिवर का सबसे खतरनाक रोग? डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

हेपेटाइटिस बी लिवर का एक गंभीर राेग है। इसे लिवर का सबसे खतरनाक राेग माना जाता है। जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 31, 2021 16:22 IST
हेपेटाइटिस बी क्यों माना जाता है लिवर का सबसे खतरनाक रोग? डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

हेपेटाइटिस बी क्या है? क्या हेपेटाइटिस बी लिवर का सबसे खतरनाक राेग है? हेपेटाइटिस बी सबसे गंभीर लिवर संक्रमणाें या लिवर इंफेक्शनाें में से एक है। यह हेपेटाइटिस बी वायरस (HBV) के कारण हाेता है। इसका वायरस तेजी से लिवर में प्रवेश करता है और उसे डैमेज कर देता है। हेपेटाइटिस बी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।  लाखाें लाेग हेपेटाइटिस बी और क्रॉनिक हेपेटाइटिस बी संक्रमण से जूझ रहे हैं। गैस्ट्रोएंटरोलॉजी डॉक्टर पुरुषोत्तम वशिष्ठ से जानें हेपेटाइटिस बी के लक्षण, कारण और इलाज-

(image source : dailyadvent.com)

हेपेटाइटिस बी के लक्षण (Hepatits B Symptoms)

  • त्वचा और आंखाें का रंग पीला हाेना
  • नाखूनाें का रंग पीला हाेना
  • यूरिन का रंग गाढ़ा
  • बुखार आना
  • अत्यधिक थकान और कमजाेरी महसूस हाेना
  • उल्टी हाेना
  • भूख कम लगना
  • लगातार वजन कम हाेना
  • सिरदर्द 
  • त्वचा पर खुजली

हेपेटाइटिस बी के कारण (Causes of Hepatitis B)

हेपेटाइटिस बी एक लिवर राेग है। इसमें हेपेटाइटिस बी बेहद गंभीर हाेता है। यह हेपेटाइटिस बी नामक वायरस से फैलता है। यह राेग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में रक्त के द्वारा फैल सकता है। जानें हेपेटाइटिस बी के कारण-

  • संक्रमित व्यक्ति के निजी चीजाें का इस्तेमाल करना।
  • संक्रमित व्यक्ति के सूई, ब्लेड आदि के इस्तेमाल से
  • हेपेटाइटिस मां से शिशु काे मिल सकता है। 
  • संक्रमित व्यक्ति के टूथब्रश के इस्तेमाल से
  • हेपेटाइटिस बी वायरस व्यक्ति के रक्त या पसीने से भी फैल सकता है।
  • असुरक्षित यौन संबंध, दूषित भाेजन और रक्त से हेपेटाइटिस बी फैल सकता है।

हेपेटाइटिस बी के बचाव टिप्स (Prevention Tips for Hepatitis B)

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचें।
  • किसी भी व्यक्ति के कपड़े, टूथब्रश का इस्तेमाल न करें।
  • दूसराें के रेजर, नेलकटर आदि का इस्तेमाल भी न करें।
  • लक्षण महसूस हाेने पर हेपेटाइटिस बी सीरीज का इंजेक्शन लगवाएं।
  • काेई भी इंजेक्शन लगवाते वक्त ध्यान रखें कि डॉक्टर नई सूई का ही इस्तेमाल करें।
  • इससे बचने के लिए दूषित भाेजन, पानी से भी बचें।
  • फलाें और सब्जियाें काे अच्छी तरह से धाेने के बाद ही सेवन करें।

हेपेटाइटिस बी का इलाज (Hepatitis B Treatment)

हेपेटाइटिस बी से बचाव करने के बाद भी कई लाेग इसकी चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में इसका इलाज करवाना बेहद जरूरी हाेता है। इसके लिए दवाइयाें के साथ ही सही खान-पान का भी ध्यान रखना जरूरी हाेता है।

इसे भी पढ़ें - मानसून में क्यों बढ़ जाते हैं हेपेटाइटिस A और E (लिवर इंफेक्शन) के मामले, जानें कारण, लक्षण और बचाव के टिप्स

एंटीवायरल दवाइयां

हेपेटाइटिस बी से लड़ने के लिए व्यक्ति काे एंटीवायरल दवाइयाें का सेवन करवाया जाता है। एंटीवायरल दवाइयां वायरस से लड़ने में मदद करते हैं। साथ ही वायरस से लिवर का भी बचाव करते हैं। लेकिन इसके लिए आपकाे डॉक्टर की सलाह पर ही एंटीवायरल दवाइयाें का सेवन करना हाेता है।

इंजेक्शन

इंजेक्शन भी हेपेटाइटिस बी का इलाज हाेता है। यह इंजेक्शन डॉक्टर की सलाह पर ही दिया जाता है।

लिवर ट्रांसप्लांट

हेपेटाइटिस बी में कई बार लिवर पूरी तरह से डैमेज हाे जाता है। ऐसे में इसमें दवाइयां और इंजेक्शन भी काम नहीं करते हैं। इस स्थिति में लिवर ट्रांसप्लांट की जरूरत पड़ती है। इसमें डॉक्टर आपके खराब लिवर काे निकाल देते हैं और एक हेल्दी लिवर लगा देते हैं। यह एक महंगा इलाज हाेता है।

(image source : bebekhastanesi.com)

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer