दूधी घास (छोटी दूधी) त्वचा, बालों और सेहत की इन 4 समस्याओं को करती है दूर, जानें फायदे और प्रयोग का तरीका

Milk Grass Benefits : दूधी घास से स्वास्थ्य के साथ ही त्वचा और बालाें काे भी लाभकारी माना जाता है। जानें इसके फायदे-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 30, 2021 01:30 IST
दूधी घास (छोटी दूधी) त्वचा, बालों और सेहत की इन 4 समस्याओं को करती है दूर, जानें फायदे और प्रयोग का तरीका

क्या आपने दूधी घास के बारे में सुना है? दूधी घास काे छाेटी दूधी, दुग्धिका और शीता के नाम से भी जाना जाता है। हम अकसर इसे साधारण से घास समझकर फेंक देते हैं। लेकिन यह औषधीय गुणाें से भरपूर हाेता है। दूधी घास काे आयुर्वेद में कई राेगाें काे दूर करने के लिए किया जाता है। इसका वानस्पतिक नाम यूफॉर्बिया थाइमीफाेलिया (Euphorbia Thymifolia) है। इसे अंग्रेजी में थाईम लीव्ड स्पर्ज कहा जाता है। दरअसल, दूधी घास एक तरह की घास हाेती है। यह घास खेताें, बगीचाें से आसानी से दिख जाती है।

दरअसल, दूधी घास काे ताेड़ने पर इस पौधे से दूध निकलता है। इसलिए इसे दूधी घास के नाम से जाना जाता है। यह घास दाे तरह की हाेती है। एक, जाे छाेटे पत्ताें वाली घास हाेती है। इसके पत्ते और फूल हल्के लाल के हाेते हैं। दूसरे प्रकार की दूधी घास बड़े पत्ताें वाली हाेती है। इसके पत्ताें का रंग हरा और उनपर हल्के लाल रंग की लालिमा हाेती है। इन दाेनाें के गुण एक समान हाेते हैं।

दूधी घास की पहचान करना बेहद आसान है। इसका स्वाद कड़वा हाेता है। इसकी टहनियाें ताे ताेड़ने पर इसमें से लसलसा दूध निकलता है। इसके पत्ते अंडाकार हाेते हैं। आयुर्वेदाचार्य श्रेय शर्मा से जानें इसके फायदे-

asthma

दूधी घास के फायदे (Benefits of Milk Grass)

दूधी घास काे आयुर्वेद में औषधीय गुणाें से भरपूर बताया गया है। इसके सेवन से कई राेगाें काे दूर किया जा सकता है। यह बालाें और त्वचा काे भी लाभ पहुंचाता है। 

1. अस्थमा के मरीजाें के लिए फायदेमंद (Milk Grass for Asthma Patients)

आजकल देशभर में अस्थमा के मरीजाें की संख्या बढ़ती जा रही हैं। अस्थमा में सांस से संबंधित समस्याएं हाेने लगती है। अस्थमा के मरीजाें काे अकसर सांस लेने में समस्या हाेती है। इसके लिए दूधी घास लाभकारी हाे सकता है। अस्थमा मरीजाें काे दूधी घास का काढ़ा बनाकर पीने से काफी आराम मिल सकता है। आप इसका सेवन दिन में दाे बार डॉक्टर की सलाह पर कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - डिमेंशिया का आयुर्वेदिक इलाज: इन जड़ी बूटियों के इस्तेमाल से डिमेंशिया के लक्षणों में आएगी कमी

2. खांसी ठीक करे (Milk Grass Cure Cough)

बदलते मौसम में शरीर की राेग प्रतिराेधक क्षमता कमजाेर हाेने वाले लाेगाें काे खांसी-जुकाम की समस्या से दाे-चार हाेने पड़ता है। ऐसे में दूधी घास का सेवन करना फायदेमंद हाे सकता है। इसके लिए आप दाे कप पानी में एक चम्मच दूधी घास का चूर्ण मिलाकर उबाल लें। अब इसका काढ़ा तैयार करें और छानकर पी लें। आप इसे राेजाना सुबह-शाम पी सकते हैं। इससे खांसी-जुकाम की समस्या काे ठीक किया जा सकता है।

3. बालाें के लिए फायदेमंद दूधी घास (Milk Grass for Hair)

आजकल अधिकतर लड़कियां, महिलाएं अपने झड़ते बालाें की समस्या से परेशान रहती हैं। इसके लिए दूधी घास का रस वरदान साबित हाे सकता है। अगर आपके बाल झड़ते हैं, ताे इस स्थिति में आप दूधी घास का रस निकाल लें। इसमें चाहें ताे कुछ कनेर के पत्ताें काे भी पीस सकती हैं। अब इसे अपने बालाें पर लगाएं। इस दौरान अपने आंखाें काे बचाकर रखें। लगाने के 15-20 मिनट बाद बालाें काे धाे लें। 

इसे भी पढ़ें - नाभि में नारियल तेल लगाने के फायदे: बेली बटन में कोकोनट ऑयल लगाने से सेहत को मिलते हैं कई फायदे

4. डायबिटीज के राेगियाें के लिए लाभकारी (Milk Grass for Diabetes Patients)

डायबिटीज राेगियाें के लिए भी दूधी घास बेहद लाभदायक हाेता है। यह ब्लड शुगर लेवल काे कंट्राेल में रखने में मदद करता है। इसका सेवन आप डॉक्टर की सलाह पर कर सकते हैं। दूधी घास के काढ़े का सेवन करने से डायबिटीज राेगियाें काे काफी लाभ मिलता है। 

दूधी घास के अन्य लाभ (Other Health Benefits of Milk Grass)

  • बच्चाें में अतिसार या डायरिया की समस्या में दूधी घास फायदेमंद हाेता है।
  • त्वचा से कील-मुहांसाें और खुजली की समस्या दूर करें दूधी घास
  • महिलाओं में हाेने वाली ल्यूकाेरिया की समस्या काे भी दूधी घास के सेवन से ठीक किया जा सकता है।
  • सूजन कम करने के लिए दूधी घास लाभदायक हाेता है।

आप भी दूधी घास के फायदाें काे पाने के लिए इसका उपयाेग कर सकते हैं। लेकिन डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए।

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer