कब्‍ज दूर करने से रक्‍त शुद्ध करने तक सौंफ में छिपे हैं ये 10 चमत्‍कारी गुण, जानें इसके लाभ

सौंफ कॉपर, पोटेशियम, कैल्शियम, जिंक, मैंगनीज, विटामिन सी, आयरन, सेलेनियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों का एक केंद्रित स्रोत है, जो केवल सांसों की बदबू को मात देने से कहीं अधिक है। रक्तचाप को नियंत्रित करने से लेकर वा

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 11, 2019
कब्‍ज दूर करने से रक्‍त शुद्ध करने तक सौंफ में छिपे हैं ये 10 चमत्‍कारी गुण, जानें इसके लाभ

सौंफ का भारत के साथ प्रेम संबंध को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। यह हर भारतीय घरों में जरूर मिलेगा। क्या आप जानते हैं कि भारत सौंफ के बीज का सबसे बड़ा निर्यातक है, जिसे व्यापक रूप से सौंफ के रूप में जाना जाता है। अधिकांश भारतीय घरों में एक आम बात यह है कि हर भोजन के अंत में कुछ सौंफ दिए जाते हैं। यह आपके मुंह को तरोताजा कर सकता है।

सौंफ कॉपर, पोटेशियम, कैल्शियम, जिंक, मैंगनीज, विटामिन सी, आयरन, सेलेनियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों का एक केंद्रित स्रोत है, जो केवल सांसों की बदबू को मात देने से कहीं अधिक है। रक्तचाप को नियंत्रित करने से लेकर वाटर रिटेशन तक ठीक करता है। सौंफ़ के बीज पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। ये ज़ीरा से मिलते जुलते हैं, लेकिन सौंफ़ पूरी तरह से एक अलग मसाला है। आइए जानें सौंफ के बीज लाभों के बारे में।

सौंफ खाने के चमत्‍कारी फायदे 

कब्‍ज दूर करे 

सौंफ खाने से पेट और कब्ज की शिकायत नहीं होती। सौंफ को मिश्री या चीनी के साथ पीसकर चूर्ण बना लीजिए, रात को सोते वक्त लगभग 5 ग्राम चूर्ण को हल्केस गुनगने पानी के साथ सेवन कीजिए। पेट की समस्या नहीं होगी व गैस व कब्ज दूर होगा।

आंखों की रोशनी बढ़ाए 

आंखों की रोशनी सौंफ का सेवन करके बढ़ाया जा सकता है। सौंफ और मिश्री समान भाग लेकर पीस लें। इसकी एक चम्मच मात्रा सुबह-शाम पानी के साथ दो माह तक लीजिए। इससे आंखों की रोशनी बढती है।

डायरिया में है लाभकारी 

डायरिया होने पर सौंफ खाना चाहिए। सौंफ को बेल के गूदे के साथ सुबह-शाम चबाने से अजीर्ण समाप्त होता है और अतिसार में फायदा होता है।

भोजन के बाद खाएं सौंफ 

खाने के बाद सौंफ का सेवन करने से खाना अच्छे से पचता है। सौंफ, जीरा व काला नमक मिलाकर चूर्ण बना लीजिए। खाने के बाद हल्के गुनगुने पानी के साथ इस चूर्ण को लीजिए, यह उत्तम पाचक चूर्ण है। 

खांसी करे ठीक 

खांसी होने पर सौंफ बहुत फायदा करता है। सौंफ के 10 ग्राम अर्क को शहद में मिलाकर लीजिए, इससे खांसी आना बंद हो जाएगा।

पेट दर्द में है लाभकारी 

यदि आपको पेट में दर्द होता है तो भुनी हुई सौंफ चबाइए इससे आपको आराम मिलेगा। सौंफ की ठंडाई बनाकर पीजिए। इससे गर्मी शांत होगी और जी मिचलाना बंद हो जाएगा।

अपच और खट्टी डकार 

यदि आपको खट्टी डकारें आ रही हों तो थोड़ी सी सौंफ पानी में उबालकर मिश्री डालकर पीजिए। दो-तीन बार प्रयोग करने से आराम मिल जाएगा।

जलने पर 

हाथ-पांव में जलन होने की शिकायत होने पर सौंफ के साथ बराबर मात्रा में धनिया कूट-छानकर, मिश्री मिलाकर खाना खाने के पश्चात 5 से 6 ग्राम मात्रा में लेने से कुछ ही दिनों में आराम हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: काली मिर्च का ऐसा प्रयोग बढ़ाएगा आंखों की रोशनी, कब्‍ज और एसिडिटी में भी है फायदेमंद

गले में खराश दूर करे 

अगर गले में खराश हो जाए तो सौंफ चबाना चाहिए। सौंफ चबाने से बैठा हुआ गला भी साफ हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: शहद में एक आंवला डूबोकर खाने से दोगुनी तेजी बढ़ते हैं बाल, दूर होते हैं शरीर के कई रोग

रक्‍त शुद्ध करे 

रोजाना सुबह-शाम खाली सौंफ खाने से खून साफ होता है जो कि त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है, इससे त्वचा में चमक आती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer