काली मिर्च का ऐसा प्रयोग बढ़ाएगा आंखों की रोशनी, कब्‍ज और एसिडिटी में भी है फायदेमंद

हम अक्सर अपने व्यंजनों में नमक का उपयोग करते हैं जबकि काली मिर्च डालना भूल जाते हैं। लेकिन काली मिर्च के फायदे कहीं बेहतर हैं। काली मिर्च नाटकीय रूप से आपके व्यंजनों के स्वाद को बढ़ाती है और उनके स्‍वास्‍

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 06, 2019
काली मिर्च का ऐसा प्रयोग बढ़ाएगा आंखों की रोशनी, कब्‍ज और एसिडिटी में भी है फायदेमंद

हम अक्सर अपने व्यंजनों में नमक का उपयोग करते हैं जबकि काली मिर्च डालना भूल जाते हैं। लेकिन काली मिर्च के फायदे कहीं बेहतर हैं। काली मिर्च नाटकीय रूप से आपके व्यंजनों के स्वाद को बढ़ाती है और उनके स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं। काली मिर्च का वैज्ञानिक नाम Piper nigrum है। सूखे फल को पेपरकॉर्न के रूप में जाना जाता है। पेपरकॉर्न और उनसे तैयार उत्‍पाद को काली मिर्च के रूप में संदर्भित किया जा सकता है। 

 

कितनी मात्रा में करें काली मिर्च का सेवन 

काली मिर्च का सेवन सीमित मात्रा में किया जाना चाहिए। अधिक मात्रा में इसका सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह एक मसाला है। जब हल्दी, मेथी, दालचीनी और जीरा जैसी अन्य सामग्री के साथ उपयोग किया जाता है, तो यह मसालों का एक बड़ा संयोजन बनाता है। एक चम्मच (6 ग्राम) काली मिर्च में 15.9 कैलोरी, 4.1 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 0 ग्राम वसा और कोलेस्ट्रॉल होता है। सोडियम सामग्री लगभग 3 मिलीग्राम है, कार्बोहाइड्रेट 4 ग्राम हैं, और आहार फाइबर 2 ग्राम है। काली मिर्च में डाइट्री वैल्‍यू का लगभग 2% विटामिन सी,  3% कैल्शियम की मात्रा होती है जिसे आप आहार में सेवन कर सकते हैं। आयरन की मात्रा 10% और प्रोटीन 0.7 ग्राम होता है। 

काली मिर्च के फायदे 

1: आंखों के लिए फायदेमंद है कालीमिर्च

काली मिर्च आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए जाना जाता है। एक चुटकी काली मिर्च को शुद्ध देसी घी में मिलाकर रोजाना सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। आंखों से जुड़ी बीमारियां नहीं होती। इसके अलावा चश्‍मे से छुटकारा मिलता है। 

2: पाचन शक्ति को मजबूत करता है

काली मिर्च पाचन रस और एंजाइम को उत्तेजित करती है, जिससे पाचन को बढ़ावा मिलता है। यह सच है जब आप काली मिर्च का सेवन करते हैं, खासकर भोजन के साथ, जो आपके शरीर की क्षमता को बढ़ा सकता है और भोजन को पचा सकता है। शोध से पता चला है कि काली मिर्च का अग्नाशयी एंजाइमों पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिससे पाचन प्रक्रिया पूरी होती है।  

3: कैंसर से बचाए 

अध्ययनों से पता चला है कि काली मिर्च में मौजूद पिपेरिन कैंसर के कई रूपों के खिलाफ सुरक्षात्मक गतिविधि करता है। पिपेरिन आपकी आंतों में सेलेनियम, कर्क्यूमिन, बीटा-कैरोटीन, और बी विटामिन जैसे अन्य पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाता है, जो कि पेट के स्वास्थ्य और कैंसर की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण हैं।

इसे भी पढ़ें: दूध में कच्‍ची हल्‍दी मिलाकर पीने से दूर होता है घुटनों का दर्द, जानें कब और कैसे पीएं

4: सर्दी-जुकाम से दे राहत 

प्राचीन चीनी चिकित्सा में भी इसके लिए काली मिर्च का उपयोग किया जाता था। काली मिर्च परिसंचरण और श्लेष्म प्रवाह को उत्तेजित करने के लिए जाना जाता है। जब आप इसे शहद के साथ मिलाते हैं, तो प्रभाव में वृद्धि होती है, चूंकि शहद एक प्राकृतिक कफ सप्रेसेंट के रूप में काम करता है। बस एक कप में 2 चम्मच शहद के साथ एक चम्मच पिसी हुई काली मिर्च मिलाएं। उबलते पानी के साथ कप भरें, इसे कवर करें और इसे लगभग 15 मिनट तक छोड़ दें। अब इसे छानकर पी जाएं। 

इसे भी पढ़ें: अस्‍थमा और श्‍वसन संबंधी बीमारियों को जड़ से खत्‍म करते है पीपल के पत्‍ते, ऐसे करें प्रयोग

5: संक्रमण से बचाती है कालीमिर्च 

काली मिर्च के जीवाणुरोधी गुण बहुत अच्‍छा रोल प्‍ले करते हैं। एक दक्षिण अफ्रीकी अध्ययन के अनुसार, काली मिर्च में पिपेरिन लार्विसाइडल प्रभाव और संक्रमण और बीमारी को फैलने से रोकने में मदद करता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer