बच्चों में नींद के दौरान सांस की समस्या बन सकती है दिल की बीमारी की कारण, डॉक्टर से जानें बचाव के उपाय

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या से जूझ रहे बच्चों में दिल की बीमारी की संभावना अधिक हो जाती है, एक्सपर्ट डॉक्टर से जानें इसके कारण और उपाय।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Aug 20, 2021 13:52 IST
बच्चों में नींद के दौरान सांस की समस्या बन सकती है दिल की बीमारी की कारण, डॉक्टर से जानें बचाव के उपाय

अच्छी नींद सेहत के लिए बहुत जरूरी होती है। लेकिन कुछ लोगों को तमाम कारणों से नींद से जुड़ी समस्याएं हो जाती हैं जिनकी वजह से पर्याप्त नींद लेने में दिक्कत होती है। नींद से जुड़ी सबसे कॉमन समस्या ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया है जिसका शिकार बच्चे भी हो सकते हैं। हाल ही में हुए एक शोध के मुताबिक बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या के कारण कई अन्य गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या में बच्चों को नींद के दौरान सांस लेने में तकलीफ होती है। कई वैज्ञानिकों और डॉक्टर्स का मानना है कि ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या बच्चों में दिल से जुड़ी गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के एक वैज्ञानिक ने हाल ही में बयान जारी कर जानकारी दी है कि ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की वजह से बच्चों में हार्ट से जुड़ी बीमारी जैसे हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक और हृदय की संरचना में बदलाव जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इस विषय पर हैदराबाद स्थित अपोलो हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ श्रीधर रेड्डी से जानते हैं कि ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की वजह से बच्चों को दिल की बीमारी होने का कितना खतरा है और इस स्थिति में बचाव कैसे करें?

क्या ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या? (What is Obstructive Sleep Apnea?)

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया नींद से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है जिसमें नींद के दौरान सांस लेने में तकलीफ होती है। इस समस्या की वजह से आप सोते समय बार-बार सांस लेने में तकलीफ महसूस कर सकते है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया गले की मांसपेशियों द्वारा सांस की नली को ब्लाक करने की वजह से होता है। इस समस्या से बच्चे और वयस्क सभी प्रभावित हो सकते हैं। बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या होने पर उन्हें सोते समय खर्राटे मारने और सांस लेने में तकलीफ के लक्षण दिखाई देते हैं। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया कुछ सेकंड से लेकर मिनटों तक हो सकता है और यह नींद के दौरान बार-बार होता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक यह समस्या बच्चों में हार्ट डिजीज के खतरे को बढ़ा देती है। समय से इस बीमारी का इलाज न होने पर बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक और दिल की संरचना में बदलाव जैसी समस्याएं देखने को मिल सकती हैं।

Obstructive-sleep-apnea-on-kids-heart-health

(Image Source - Freepik.com)

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण बच्चों में दिल की बीमारी का खतरा (Effects of Obstructive Sleep Apnea on Kids Heart)

बच्चों में नीद से जुड़ी सबसे कॉमन समस्या ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की है। इस बीमारी की वजह से बच्चों को सांस लेने में तकलीफ और नींद से जुड़ी दिक्कतें होती हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया, टॉन्सिल, एडेनोइड्स या बच्चे के चेहरे की संरचना के बढ़ने के कारण हो सकती है। इसके अलावा कई मामलों में यह मोटापे की समस्या के कारण भी हो सकती है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण नींद में दिक्कत होने की वजह से बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बना रहता है। इस समस्या में इंसुलिन प्रतिरोध और लिपिड असामान्य हो सकता है जिसकी वजह से दिल की सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ते हैं। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की वजह से बच्चों में दिल की इन बीमारियों का खतरा रहता है।

इसे भी पढ़ें : तेजी से वजन घटाना आपके दिल के लिए हो सकता है बुरा, एक्सपर्ट से जानें कैसे पड़ता है हार्ट पर प्रभाव

1. हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure)

बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का सामान्य कारण मोटापा,सांस की नली से जुड़ी बीमारी, एलर्जिक राइनाइटिस जैसी समस्याएं होती हैं। इसके अलावा कुछ बच्चों में  मांसपेशियों की टोन, बढ़े हुए टॉन्सिल और एडेनोइड, क्रानियोफेशियल विकृतियां और न्यूरोमस्कुलर डिजीज के कारण भी ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या होती है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया में बच्चों को नींद के दौरान सांस लेने में गंभीर समस्या का सामना करना पड़ता है जिसके कारण उनमें दिल की बीमारी और हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ जाता है। 

इसे भी पढ़ें : डिप्रेशन की वजह से हो सकती है दिल की धड़कन अनियमित, जानें दोनों के संबंध और खतरे

Obstructive-sleep-apnea-on-kids-heart-health

(Image Source - Freepik.com)

2. हार्ट अटैक का खतरा (Heart Attack)

न्यूरोमस्कुलर डिजीज के कारण बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया हो सकता है जिसकी वजह से बच्चों को नींद के दौरान खर्राटे मारना, सोते समय हांफना और सांस लेने में तकलीफ होती है। मोटापा और डाउनसिंड्रोम के कारण बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया होने पर भी उन्हें इन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या बढ़ने पर बच्चों को हार्ट अटैक जैसी दिल की गंभीर समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें : जानें हाई ब्लड प्रेशर और लो-ब्लड प्रेशर के लक्षणों में अंतर और इनसे बचाव के लिए जरूरी उपाय

3. दिल की संरचना में बदलाव (Changes in Heart Structure)

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण बच्चों में इंसुलिन प्रतिरोध और लिपिड असामान्य हो सकता है जिसकी वजह से आगे चलकर बच्चों को हृदय की संरचना में बदलाव की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। कुछ बीमारियां जिनके कारण ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का खतरा बढ़ता है उनकी वजह से भी दिल की सेहत पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। 

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की वजह से दिल की बीमारी के प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं।

  • बच्चों में इस समस्या की वजह से नींद बाधित होती है इसकी वजह से मानसिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है और उनके शरीर की इम्यूनिटी, मेटाबोलिज्म, हार्ट हेल्थ को प्रभावित करता है।
  • मोटापे की समस्या के कारण ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया होने की स्थिति में खतरा और बढ़ जाता है।
  • न्यूरोमस्कुलर डिजीज के कारण बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की स्थिति में दिल से जुड़ी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण दिल की बीमारियों से बचने के उपाय (How to Prevent Heart Disease Due to Obstructive Sleep Apnea?)

बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या के कई कारण हो सकते हैं। सामान्य तौर पर इस समस्या के लिए मोटापे की बीमारी, सांस की नली में दिक्कत और  एलर्जिक राइनाइटिस, मांसपेशियों की टोन, बढ़े हुए टॉन्सिल और एडेनोइड, क्रानियोफेशियल और न्यूरोमस्कुलर डिजीज को जिम्मेदार ठहराया जाता है। बच्चों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लक्षण दिखने पर उन्हें तुरंत सही डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इस बीमारी में इलाज और लाइफस्टाइल में बदलाव करने से फायदा मिलता है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण बच्चों में दिल की बीमारियों का जोखिम कम करने के लिए ये टिप्स फायदेमंद हो सकती हैं।

  • वजन को नियंत्रित करने से इस समस्या में फायदा मिलता है।
  • नियमित रूप से व्यायाम और योग का अभ्यास करें।
  • बच्चों को एलर्जी की समस्या होने पर तुरंत चिकित्सक की सलाह लें।
  • पीठ के बल मत सोएं।
Obstructive-sleep-apnea-on-kids-heart-health
(Image Source - Freepik.com)

कुछ मामलों में ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया की समस्या का सर्जरी से इलाज किया जाता है। शुरुआत में इसके लक्षण दिखने पर डॉक्टर से संपर्क कर इलाज कराने से आप जल्दी इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। बच्चों को ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के कारण दिल की बीमारियों से बचाने के लिए चिकित्सक द्वारा बताई गयी बातों का पालन जरूर करें।

(Main Image Source - Freepik.com)

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer