आपके शरीर और सेहत पर कैसे असर डालता है मौसम? जानें अलग-अलग मौसम की परेशानियां

हर मौसम का असर शरीर पर अलग तरह से पड़ता है अगर आप कुछ आसान तरीकों को अपनाएं तो क‍िसी भी मौसम में बीमार नहीं पड़ेंगे, आइए जानते हैं इसके बारे में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Jul 27, 2021 17:31 IST
आपके शरीर और सेहत पर कैसे असर डालता है मौसम? जानें अलग-अलग मौसम की परेशानियां

 अलग-अलग मौसम हमारे शरीर पर अलग असर डालता है। लेक‍िन इस बात से इंकार नहीं क‍िया जा सकता क‍ि मौसम का अच्‍छा या बुरा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। मौसम का असर द‍िमाग के साथ-साथ शरीर पर भी पड़ता है। हर मौसम की अपनी अलग चुनौत‍ियां होती हैं। मौसम चाहे गर्मी का हो या बरसात या कड़कड़ाती ठंड हमारा शरीर बीमार पड़ ही जाता है। मौसम बदलने के साथ हवा, रौशनी, हवा का दबाव, तापमान में बदलाव आता है ज‍िसका असर शरीर पर पड़ता है। मौसम बदलने से ब्रेन में कैम‍िकल इम्‍बैलेंस हो सकता है ज‍िसके कारण स‍िर में दर्द, तनाव, बुखार जैसी आम समस्‍याएं हो सकती हैं। इस लेख में हम अलग-अलग मौसम में होने वाली शार‍ीर‍िक समस्‍याओं पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

skin allergy

बार‍िश के मौसम में एलर्जी होने की आशंका बढ़ जाती है (Chances of skin allergy increases during rainy season)

बार‍िश के मौसम मे आपको ठंड लगने के अलावा इंफेक्‍शन का डर बढ़ जाता है। शरीर में रैशेज हो सकते हैं या नीम के कारण अन्‍य तरह का स्‍क‍िन इंफेक्‍शन का खतरा बढ़ जाता है। बार‍िश के मौसम में आंख में खुजली, नाक बहना, हाथ-पैर में खुजली या लालपन की समस्‍या हो सकती है। आप बार‍िश के मौसम में जब भी बाहर न‍िकलें अपने हाथ और पैरों को अच्‍छी तरह से कवर कर लें, बारिश के द‍िनों में लॉन्‍ग बूट्स पहनें ताक‍ि आपके पैरों में इंफेक्‍शन न हो। स्‍क‍िन से जुड़ी समस्‍याओं से बचने के ल‍िए त्‍वचा को साफ रखें और मॉइश्‍चराइज करते रहें। ऐसा नहीं है क‍ि मौसम में नमी ज्‍यादा है तो आपको स्‍क‍िन को मॉइश्‍चर देने की जरूरत नहीं है। आपको हर मौसम में स्‍क‍िन को हाइड्रेट रखना चाह‍िए। स्‍क‍िन को साफ और हाइड्रेट रखकर आप स्‍क‍िन रैशेज, एलर्जी, खुजली की समस्‍या से बच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- पहली बारिश में नहाना चाहिए या नहीं? एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान

गरम मौसम में होने वाली शारीर‍िक समस्‍याएं (Physical problems during hot weather)

stomach ache

ज्‍यादा तापमान का असर हार्ट रेट पर भी पड़ता है। ज‍िन लोगों को पहले से ही हाई कोलेस्‍ट्रॉल की समस्‍या है उन्‍हें तापमान बढ़ने से हार्ट पल्‍प‍िटेशन ऊपर-नीचे होना या द‍िल संबंधी समस्‍या हो सकती है। आपको गरम द‍िन में सीधा धूप में जाने से भी बचना चाहि‍ए, दोपहर के समय बाहर न‍िकलने से पहले खास खयाल रखें। गर्मी के द‍िनों में आपको घर पर खुद को बंद करने के बजाय रोजाना हरियाली के बीच समय ब‍िताना चाह‍िए, आप पार्क में घूमने जा सकते हैं या गार्डन‍िंग कर सकते हैं। गरम मौसम में बॉडी ड‍िहाइड्रेट जल्‍दी होती है, इस समस्‍या से बचने के लि‍ए आपको ताजे फल और सब्‍ज‍ियों का सेवन जरूर करना चाहि‍ए जैसे तरबूज, खीरा, ककड़ी आद‍ि। ड‍िहाइड्रेशन के कारण स‍िर का दर्द भी हो सकता है। गरम मौसम में मूड पर भी असर पड़ता है। ज्‍यादा सनलाइट यानी गर्मी ज्‍यादा होने के कारण च‍िड़च‍िड़ापन होता है। आपको गरम मौसम में मूड ठीक रखने के ल‍िए एक्‍सरसाइज जरूर करनी चाह‍िए।

मौसम ठंडा हो तो शरीर पर क्‍या असर पड़ता है? (Health problems in cold weather)

fever issue

वहीं ठंडे मौसम की बात करें तो ठंड में हार्ट को ब्‍लड सर्कुलेट करने में थोड़ी परेशानी होती है ज‍िसके कारण आपको घबराहट की समस्‍या हो सकती है। ज‍िस द‍िन मौसम ज्‍यादा ठंडा या ज्‍यादा गरम हो उस द‍िन आपको ज्‍यादा काम करना या थकना अवॉइड करना चाह‍िए। ठंड के द‍िनों में ज्‍यादा ठंडी हवा होने से ब्रोन्‍कियल ट्यूब ड‍िहाइड्रेट हो जाती है ज‍िसके कारण सांस लेने में परेशानी हो स‍कती है। इसके अलावा ठंडे मौसम में सर्दी-जुखाम या बुखार की समस्‍या भी कॉमन होती है। कुछ लोगों को लगता है क‍ि ठंड के मौसम में पसीना कम आता है ज‍िसके चलते वो नहाने या रोजाना कपड़े बदलने से बचते हैं पर इंफेक्‍शन क‍िसी भी मौसम में हो सकता है इसल‍िए ठंड के द‍िनों में भी साफ-सफाई का ध्‍यान रखें। 

इसे भी पढ़ें- गर्मियों में पहनें कॉटन फैब्र‍िक तो दूर होंगी सनबर्न, दाने, बदबू जैसी स्किन की 5 समस्याएं

मौसम में ज्‍यादा नमी बढ़ने से अस्‍थमा रोग‍ियों को परेशानी हो सकती है (Health problems in humid climate)

ज्‍यादा नमी वाले मौसम में अस्‍थमा के रोग‍ियों को परेशानी होती है। ज्‍यादा नमी के साथ-साथ बार‍िश, ज्‍यादा गर्मी या ज्‍यादा ठंड में भी अस्‍थमा रोग‍ियों को परेशानी होती है। कुछ मरीजों को अस्‍थमा अटैक भी आ जाता है इसल‍िए मौसम बदलने पर अस्‍थमा के मरीजों का खास खयाल रखना चाह‍िए खासकर बार‍िश या नमी वाले मौसम में जब हवा में नमी होती है ज‍िसके कारण सांस लेने में परेशानी होती है। हवा चलने के साथ पौधों से पोलन भी उड़कर ख‍िड़की या दरवाजे के जर‍िए आपके घर में आकर आपको बीमार कर सकते हैं। पोलन से कई तरह की एलर्जी शरीर में हो जाती है इसल‍िए ख‍िड़की-दरवाजों को बेवजह न खोलें।

मौसम में होने वाली शारीर‍िक समस्‍याओं से कैसे बचें? (How to prevent health problems in different seasons)

season diseases  

  • क‍िसी भी मौसम में फ‍िट रहने के ल‍िए आपको कसरत जरूर करनी चाह‍िए। 
  • मौसम बदलने का असर शरीर पर पड़ता है इसल‍िए साफ-सफाई का ध्‍यान रखें ताक‍ि इंफेक्‍शन का खतरा न हो। 
  • हर मौसम में फ‍िट रहने के ल‍िए सीज़नल फल और सब्‍ज‍ियों का सेवन जरूर करें। 
  • क‍िसी भी मौसम में बीमार‍ियों से बचने का आसान तरीका है सही मात्रा में पानी का सेवन करें। 
  • आपको मौसमी बीमार‍ियों और शरीर पर मौसम के असर से बचने के ल‍िए मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर भी गौर करना चाह‍िए, मेड‍िटेशन की आदत डालें। 
  • मौसम बदलते समय थकान से बचें और नींद पूरी करें। रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद आपके ल‍िए हर मौसम में जरूरी है। 
  • अगर मौसम के कारण आपके शरीर में दर्द है तो योगा जरूर करें। 

शरीर को हर मौसम में फ‍िट रखना है तो इन गलत‍ियों से बचें (Avoid these mistakes)

क‍िसी भी मौसम में खुद को फ‍िट रखने के ल‍िए इन गलत‍ियों से बचें- 

  • तबीयत ठीक न लगने पर डॉक्‍टर से सलाह ल‍िए बगैर दवाओं का सेवन न करें। 
  • अगर आपको बीमारी के लक्षण नजर आ रहे हैं तो उन्‍हें नजरअंदाज न करें। 
  • बाहर का खाना ज्‍यादा खाने की आदत छोड़ दें, खासकर बार‍िश के मौसम में आपको स्‍ट्रीट फूड से बचना चाह‍िए। 

किसी भी मौसम में बीमार‍ी के लक्षण को नजरअंदाज करने से पहले उसके पर‍िणाम को जान लें और कन्‍फ्यूजन होने पर डॉक्‍टर से सलाह लेना न भूलें। 

Read more on Miscellaneous in Hindi 
Disclaimer