टीन-एज बच्चों को मेनिनजाइटिस (दिमागी बुखार) से बचाने के लिए क्या करें? एक्सपर्ट से जानें कुछ जरूरी उपाय

अगर आप भी किशोरावस्था में हैं और खुद को मेनिनजाइटिस जैसी समस्या से दूर रखना चाहते हैं तो इन आसान तरीकों का करें पालन।

 
Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: Mar 11, 2021 11:00 IST
टीन-एज बच्चों को मेनिनजाइटिस (दिमागी बुखार) से बचाने के लिए क्या करें? एक्सपर्ट से जानें कुछ जरूरी उपाय

मेनिन्जाइटिस मेनिन्जेस पर होने वाली एक सूजन है जो आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के लिए होता है। ये स्थिति तब पैदा होती है जब मेनिनजाइटिस के आसपास का तरल पदार्थ संक्रमित होता है। बैक्टीरिया और वायरस के कारण मेनिनजाइटिस का खतरा बढ़ता है ये आपकी मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी पर सूजन पैदा करती है। इस स्थिति को आम भाषा में दिमागी बुखार के नाम से भी जाना जाता है। कई लोग मेनिन्जाइटिस का शिकार होते हैं और इसके इलाज के लिए विकल्प तलाशते रहते हैं। मेनिनजाइटिस कई प्रकार का होता है और ये आसानी से किसी को भी अपना शिकार बना सकता है। ऐसे ही किशोरावस्था के दौरान इसका खतरा ज्यादा होता है, इसलिए लोगों में सवाल है कि किशोरावस्था के दौरान किन तरह मेनिनजाइटिस से बचाव किया जा सकता है। तो अब आपको इसके लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है, जी हां, हम आपको इस लेख के दौरान बताएंगे कि आप किन तरीकों की मदद से मेनिनजाइटिस से अपना बचाव कर सकते हैं।

inside2_dimagibukhar

कैसे करें मेनिनजाइटिस से बचाव

अच्छी तरह से हाथ धोएं

बार-बार हाथ धोना एक अच्छा आदत है लेकिन क्या आप जानते हैं आज भी कई लोग ऐसे हैं जो खाना खाने से पहले और बाद में हाथ को धोने से बचते हैं। जी हां, कई लोगों में ये आदत होती है कि वो बार-बार हाथ को धोने से बचते हैं और उन्हीं हाथों से खुद को संक्रमित कर लेते हैं। ऐसे ही मेनिनजाइटिस से बचाव के लिए जरूरी है कि आप रोजाना बार-बार हाथों को साबुन के साथ धोते रहें। इस आदत की मदद से आप आसानी से अपने आपको संक्रमण या अन्य प्रकार के वायरस से बचाकर रख सकते हैं। इसके अलावा आप खाना खाने से पहले कोशिश करें कि हल्के गुनगुने पानी के साथ हाथ धोएं इससे आप संक्रमण को खुद से दूर रख सकते हैं।

संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें

मेनिनजाइटिस से पीड़ित व्यक्ति से दूर रहना आपके लिए एक सकारात्मक कदम हो सकता है और आप खुद को मेनिनजाइटिस के संक्रमण से भी दूर रख सकते हैं। आपको बता दें कि मेनिनजाइटिस को फैलाने वाले संक्रमण मरीज के मुंह या गले में रहते हैं जो आसानी से आप तक पहुंच सकते हैं। इसलिए आप कोशिश करें कि ऐसे लोगों के साथ नजदीकियां न बढ़ाएं जो इस संक्रमण से पीड़ित हैं।

इसे भी पढ़ें : दिमागी बुखार की पहचान

एंटीबायोटिक्स की जानकारी लें

किसी भी बीमारी से बचाव या लड़ाई के लिए जरूरी होता है कि आप उसके लिए बनी एंटीबायोटिक्स के बारे में जानकारी लें। ऐसे ही मेनेनजाइटिस के लिए एक्सपर्ट से आप सलाह लें कि एंटीबायोटिक्स कितनी प्रभावशाली है और इसकी खुराक लेने का सही तरीका क्या है। एंटीबायोटिक्स की सही जानकारी आपको मेनिनजाइटिस के गंभीर स्थिति से दूर रख सकता है।

inside1_dimagibukhar

 स्वस्थ आहार खाएं

हेल्दी डाइट आपको कई प्रकार की बीमारी और कई प्रकार के संक्रमण से बचाने का काम करता है। आपकी डाइट में मौजूद पोषण आपको लंबे समय तक स्वस्थ रख सकता है। ऐसे ही जब आप मेनेनजाइटिस जैसी समस्या से खुद को बचाकर रखना चाहते हैं तो जरूरी है कि आप अपनी डाइट को एक अलग तरीके से तैयार करें। आप अपनी डाइट में बहुत सारी हरी सब्जियां, फल, नट्स और डेयरी उत्पाद को शामिल करें जो आपके लिए एक फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा आप सभी उन चीजों का सेवन करें जो प्रोटीन से भरपूर होते हैं।

इसे भी पढ़ेंमेनिनजाइटिस (दिमागी बुखार) क्या है? जानें कारण, लक्षण और उपाय

तंबाकू और शराब से रहें दूर

तंबाकू और शराब का सेवन आपके स्वास्थ्य को किस प्रकार प्रभावित करता है ये तो आप सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं ये आपको मेनिनजाइटिस जैसी समस्या से भी जोड़ सकता है। जी हां, आपको शायद ये जानकर हैरानी होगी कि कैसे आप शराब और धूम्रपान के कारण मेनिनजाइटिस का शिकार हो सकते हैं। लकिन ये सच है कि जब आप बहुत ज्यादा मात्रा में तंबाकू और शराब का सेवन कर रहे होते हैं तो इस दौरान किशोरावस्था को ये स्थिति अपना शिकार बना सकती है। इसके कारण न सिर्फ मेनिनजाइटिस बल्कि कई प्रकार के अन्य संक्रमण का खतरा भी बढ़ने लगता है।

(इस लेख में हमने आपको मेनिनजाइटिस जैसी गंभीर समस्या से बचाव के लिए कुछ तरीके बताए हैं, लेकिन अगर आपको इसके लक्षण नजर आते हैं तो आप जरूर किसी एक्सपर्ट से बात करें)। 

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

 
Disclaimer