Doctor Verified

हस्तमैथुन (मास्टरबेशन) से क्‍या वाकई खराब होती है पुरुषों की सेहत? मेड‍िकल एक्‍सपर्ट्स से जानें पूरा सच

क्‍या हस्तमैथुन (मास्टरबेशन) की लत से पुरुषों की सेहत खराब हो जाती है? जानते हैं इस लेख से

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 31, 2022Updated at: May 31, 2022
हस्तमैथुन (मास्टरबेशन) से क्‍या वाकई खराब होती है पुरुषों की सेहत? मेड‍िकल एक्‍सपर्ट्स से जानें पूरा सच

क्‍या हस्तमैथुन (मास्टरबेशन) से वाकई पुरुषों की सेहत खराब हो जाती है? अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो आप अकेले नहीं है, बहुत से ऐसे लोग हैं ज‍िन्‍हें लगता है क‍ि मास्‍टरबेशन करने से शारीर‍िक कमजोरी आ जाती है, वजन नहीं बढ़ता या कद छोटा रह जाता है। आपको बता दें क‍ि ये सच नहीं है। इस लेख में हम मास्‍टरबेशन और शारीर‍िक कमजोरी को लेकर बने भ्रम पर एक्‍सपर्ट्स से बात करेंगे। इस लेख को The Renowa Care Center, Noida की मेड‍िकल टीम की ओर से सत्‍याप‍ित क‍िया गया है।

masturbation

image source: twimg

मास्‍टरबेशन को लेकर लोग क्‍या सोचते हैं?

कई लोगों को ऐसा लगता है क‍ि हस्तमैथुन या मास्‍टरबेशन के कारण पुरुषों के शरीर में कमजोरी आ जाती है पर क्‍या ये वाकई सच है? यहां तक क‍ि ऐसा भी कहा जाता है है क‍ि ज्‍यादा मास्‍टरबेशन करने के कारण शारीर‍िक व‍िकास, वजन न बढ़ना, हाइट कम होना आद‍ि समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है पर इसमें क‍ितनी सच्‍चाई है इसके बारे में हम आगे जानेंगे। 

इसे भी पढ़ें- Pumpkin Seeds: कद्दू के बीज खाने से दूर होती हैं पुरुषों की समस्याएं, जानें इसके 5 फायदे

मास्‍टरबेशन से जुड़ा म‍िथ (Masturbation myth)

The Renowa Care Center, Noida की मेड‍िकल टीम के एक्‍सपर्ट्स का मानना है क‍ि ये एक बहुत बड़ा म‍िथ है जो मास्‍टरबेशन के साथ जुड़ा हुआ है। लोग ये सोचते हैं क‍ि मास्‍टरबेशन के ल‍िए सीमन प्रोडक्‍शन में शरीर की काफी एनर्जी चली जाती है जबक‍ि ऐसा नहीं है। ये भी एक तरह का म‍िथ है क‍ि शरीर में ल‍िमेटेड एनर्जी होती है और वो सीमेन प्रोडक्‍शन के दौरान खर्च हो जाती है। आपको बता दें क‍ि सीमेन प्रोडक्‍शन और शारीर‍िक कमजोरी का आपस में कोई संबंध नहीं है।    

क्‍या सीमेन प्रोडक्‍शन के ल‍िए एनर्जी की जरूरत होती है? (Does semen production requires energy)

masturbation tips

image source: thestar.com

सीमेन प्रोडक्‍शन एक प्रोसेस है जो पुरुषों में 14 से 15 वर्ष की उम्र में शुरू हो जाता है और ज‍िंदगी भर चलता है। सीमेन का प्रोडक्‍शन द‍िन में 24 घंटे होता रहता है पर इसके ल‍िए क‍िसी तरह की शारीर‍िक एनर्जी का इस्‍तेमाल नहीं होता है इसल‍िए ये कहना सही नहीं होगा क‍ि सीमेन प्रोडक्‍शन में फ‍िज‍िकल एनर्जी का इस्‍तेमाल होता है या उससे कद छोटा हो जाता है। ये ठीक वैसा प्रोसेस है जैसे सलाइवा का प्रोडक्‍शन होता रहता है पर उससे हमारे शरीर की एनर्जी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।  

मास्‍टरबेशन के कारण वजन पर प्रभाव पड़ता है? (Can masturbation make you thin) 

वहीं जहां तक वजन न बढ़ने का सवाल है, वजन व्‍यक्‍त‍ि की उम्र और अन्‍य कारकों पर न‍िर्भर करता है। अगर टीनएजर्स ज्‍यादा मास्‍टरबेशन में इंगेज हो जाएंगे तो उनकी अच्‍छी हेल्‍थ नहीं बनेगी। हालांक‍ि मास्‍टरबेशन और वजन बढ़ने या घटने का सीधे कोई संबंध नहीं है।

मास्‍टरबेट करने से स्‍ट्रेस कम होता है? (Does masturbation reduces stress)

मास्‍टरबेट करने से कई हार्मोन र‍िलीज होते हैं। ये हार्मोन हमारे द‍िमाग पर अलग-अलग तरह से असर डालते हैं। मास्‍टरबेट करने से खुश‍ियों के ल‍िए ज‍िम्‍मेदार हार्मोन डोपामाइन र‍िलीज होता है। इसके अलावा मास्‍टरबेशन के कारण दर्द से राहत द‍िलाने वाला हार्मोन एंडोर्फिन भी रि‍लीज होता है। इस हार्मोन से स्‍ट्रेस कम होता है और मूड अच्‍छा करने में मदद म‍िलती है। यही कारण है क‍ि लोग मास्‍टरबेशन के बाद र‍िलैक्‍स महसूस करते हैं। ये आपके अच्‍छी नींद द‍िलाने में मदद करता है और बीपी कम करता है।  

इसे भी पढ़ें- पुरुषों में प्रोस्टेट इंफेक्शन होने पर नजर आ सकते हैं ये 5 लक्षण, डॉक्टर से जानें सही इलाज

ज्‍यादा मास्‍टरबेट करने से बचें (Avoid over masturabation)

हस्‍तमैथुन का हमेशा सकारात्‍मक प्रभाव हो ऐसा जरूरी नहीं है, हस्‍तमैथुन के बुरे प्रभाव भी देखने को म‍िल सकते हैं। वैसे तो ये नॉर्मल प्रक्र‍िया है पर अगर आप इसे लेकर हर समय सोचेंगे तो आपके द‍िमाग पर बुरा असर पड़ेगा और आप काम में फोकस नहीं कर सकेंगे। साइकोलॉज‍िस्‍ट का मानना है क‍ि मास्‍टरबेट को लेकर हर समय न सोचें, इससे आपका द‍िमाग प्रोडक्‍ट‍िव नहीं होगा, ये ठीक वैसा है जैसे कि‍सी भी चीज को ज्‍यादा कर लेने के कारण होता है।     

मास्‍टरबेशन का बुरा असर शरीर पर नहीं होता है, ये क‍िसी भी तरह से शारीर‍िक कमजोरी के साथ जुड़ा नहीं है पर आपको ज्‍यादा मास्‍टरबेट करने से भी बचना है क्‍योंक‍ि इससे मानस‍िक सेहत प्रभाव‍ित हो सकती है। 

main image source: istockphoto

Disclaimer