World Parkinson's Day 2021 : पार्किंसन के रोगी क्या खाएं और किन चीजों से करें परहेज?

वैसे तो पार्किंसन रोगियों के लिए कोई खास डाइट प्लान नहीं है। लेकिन इन डाइट टिप्स को फॉलो करके इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है।  

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 09, 2021Updated at: Apr 09, 2021
World Parkinson's Day 2021 : पार्किंसन के रोगी क्या खाएं और किन चीजों से करें परहेज?

क्या आपने कभी पार्किंसन बीमारी (Parkinson disease) के बारे में सुना है? इस रोग में पूरे शरीर की गतिविधियां प्रभावित (Activities affected) होती है। इसके लक्षणों में कंपकंपी (Shiver), धीमी गतिविधि (Slow movement), शरीर का पोस्चर बनाने में गड़बड़ी (Disturbances in body posture), शरीर का संतुलन बनाने में समस्या (Problem in balancing the body), बोलने में समस्या, हाथ में सूजन (Inflammation in hand), याद्दाश्त कमजोर (Memory weak) होना और खाना निगलने की दिक्कत शामिल हैं। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि पार्किंसन के रोगियों में ये सभी लक्षण नजर आएं। सभी रोगियों में इसके लक्षण अलग-अलग नजर आते हैं। पार्किंसन रोगियों के लिए कोई विशेष डाइट प्लान नहीं बताया गया है, लेकिन कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनके सेवन से इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है।  विश्व पार्किंसन दिवस के मौके पर आकाश हेल्थकेयर के न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर मधुकर भारद्वाज बता रहे हैं कि पार्किंसन रोगियों को क्या खाना चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए। (Parkinson patients should Eat and avoid)

parkisons

क्या होता है पार्किंसन? (What is parkinson)

पार्किंसन नर्वस सिस्टम (Nervous system) से जुड़ी एक बीमारी है, जिसमें शरीर के अंगों (Body parts) में कंपन (Vibration) महसूस होता है। यह रोग समय के साथ धीरे-धीरे बढ़ता जाता है। वैसे तो पार्किंसन रोग किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती हैं, लेकिन इसके ज्यादातर मरीज 60 साल के पार होते हैं। दुनियाभर में करोड़ लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, भारत में भी हर साल इसके कई मामले सामने आते हैं।  

फाइबर इनटेक बढ़ाएं (Increase fiber intake)

पार्किंसन के रोगियों का पाचन तंत्र (Digestive system) ठीक से काम नहीं कर पाता है, जिससे उन्हें पेट से जुड़ी कई समस्याएं होने लगती हैं। इसमें सबसे आम है कब्ज (Constipation) यानी शरीर से मल को बाहर निकालने में कठिनाई होना। लेकिन अगर ऐसे में फाइबर रिच फूड (Fiber rich food) का इनटेक बढ़ा दिया जाए, तो कब्ज की समस्या को ठीक किया जा सकता है। इसके लिए पार्किंसन के रोगियों को अपनी डाइट में ताजे फल और सब्जियों को शामिल करना चाहिए। इसमें भी इन फलों और सब्जियों का सेवन करें, जिनमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता हो। अमरूद, सेब और नाशपाती फाइबर का अच्छा सोर्स हैं। रेशेदार सब्जियों और दाल में भी फाइबर की मात्रा अच्छी पाई जाती हैं। 

इसे भी पढ़ें - लिखावट में बदलाव पार्किंसन रोग के लक्षणों में से एक है, जानते हैं इसके अन्य लक्षण, कारण और बचाव

एंटीऑक्सीडेंट है जरूरी (Antioxidant is important)

anti

पार्किंसन के मरीजों को एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर डाइट लेनी चाहिए। एंटीऑक्सीडेंट शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके सेवन से पार्किंसन मरीजों में इसके लक्षणों में कमी देखने को मिलती है। विटामिन-सी (Vitamin c), विटामिन-ई (Vitamin e) और बीटा कैरोटीन (Beta carotene) से युक्त खाद्य पदार्थ एंटीऑक्सीडेंट के अच्छे सोर्स होते हैं। पार्किंसन के रोगियों को इसे अपनी डाइट में शामिल करना जरूरी होता है। ऐसे में आप अपनी डाइट में लहसुन, टमाटर, अखरोट, चुकंदर, अदरक, अनार, कीवी, डार्क चॉकलेट और धनिया को शामिल कर सकते हैं।

सेमी-सॉलिड और लिक्विड डाइट (Semi solid and liquid diet)

पार्किंसन के पेशेंट में मूमेंट्स बहुत स्लॉ (Slow movement) हो जाती हैं। उन्हें खाना निगलने में भी काफी परेशानी होती हैं। खाना गले में फंस जाता है, जिससे खांसी होने लगती है। इसलिए पार्किंसन के रोगियों को ऐसा आहार लेना चाहिए, जिसे आसानी से निगला जा सके। इसमें वे सेमी-सॉलिड और लिक्विड को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। सेमी-सॉलिड में आप खिचड़ी, दलिया, खीर और पोहा ले सकते हैं। वहीं लिक्विड में आप पानी, फ्रूट जूस, सूप, वेजिटेल जूस और नारियल पानी ले सकते हैं। 

प्रोटीन रिच फूड (Protein rich food)

प्रोटीन रिच डाइट पार्किंसन के रोगियों के लिए काफी फायदेमंद होती हैं। इसलिए उन्हें प्रोटीन को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। इसके लिए वे सोया मिल्क (Soy milk), पनीर, डेयरी प्रोडक्ट्स (Dairy products), व्हाइट बींस (White beans),  अंडा, टोफू (Tofu), ब्रोकली और दलिया को नियमित रूप से ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - पार्किंसन रोग के कारण आने वाले झटकों का पता लगाने और रोकने में कारगर है नई MRI तकनीक: वैज्ञानिक

इन चीजों से करें परहेज (Avoid these things)

  • - धूम्रपान और एल्कोहल (Alcohol) को पूरी अवॉयड करें। इनका जरा भी सेवन आपके लिए घातक हो सकता है।
  • - तला-भुना, मसालेदार और जंक फूड को भी अपनी डाइट से बिल्कुल साइड कर दें।
  • - ज्यादा चीनी युक्त खाद्य पदार्थों (Suar rich food) से भी दूरी बनाकर रखें।
  • - घर का बना खाना ही खाएं। प्रोसेस्ड (Processed) और पैकेट बंद फूड का सेवन करने से बचें।

आप भी इन डाइट टिप्स को फॉलो करके पार्किंसन के लक्षणों को कम कर सकते हैं। अगर आपको इन डाइट टिप्स से भी आराम नहीं मिलता तो एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।  

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer