Diarrhea in Hindi: डायरिया (दस्त) के लक्षण, कारण और बचाव के लिए सावधानियां

Diarrhea in Hindi: डायरिया एक तरह से लूमोशन की ही शिकायत है। यह किसी भी उम्र और वर्ग के लोगों को हो सकता है। आइए एक्सपर्ट से जानते हैं इस बारे में

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Dec 28, 2020Updated at: Feb 14, 2022
Diarrhea in Hindi: डायरिया (दस्त) के लक्षण, कारण और बचाव के लिए सावधानियां

Diarrhea Meaning in Hindi: डायरिया क्या है? डायरिया को हिंदी में दस्त कहते हैं। ये एक ऐसी परेशानी जिसमें व्यक्ति को बार-बार मलत्याग के लिए बाथरुम जाना पड़ता है। डायरिया एक तरह से लूजमोशन की शिकायत है। अगर लंबे समय तक डायरिया की शिकायत रहती है, तो व्यक्ति का शरीर काफी कमजोर हो जाता है। मनीपाल हॉस्पिटल के गैस्ट्रोलॉजिस्ट डॉक्टर कुणाल दास बताते हैं कि डायरिया मुख्य रूप से हमें तीन रूपों में परेशान करती है। इन्हीं रूपों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि आपको कितने दिनों तक डायरिया की शिकायत हो सकती है। 

 

दस्त या डायरिया का सबसे आम कारण (Causes of Diarrhea) एक वायरस है जो आपके आंत को संक्रमित करता है। इसके अलावा लैक्टोज को पचाने में परेशानी होने के कारण भी डायरिया की शिकायत हो सकती है। डॉक्टर कुणाल बताते हैं कि एक्यूट डायरिया (Acute Diarrhea) सबसे कम दिनों तक होता है। यह आपको कुछ दिनों से लेकर एक सप्ताह तक रहता है। वहीं, पर्सिस्टेंट डायरिया लगभग 3 सप्ताह तक रह सकता है। इसके साथ ही क्रॉनिक डायरिया मरीजो को 4 सप्ताह से अधिक समय तक रहता है। व्यस्यकों, बच्चों और शिशुओं में डायरिया के लक्षण अलग-अलग होते हैं, जिसकी वजह से डायरिया का इलाज भी अलग-अलग तरह से होता है। 

डॉक्टर बताते हैं कि डायरिया एक बहुत ही आम (What is Diarrhea) बीमारी है। यह किसी भी व्यक्ति को साल में 3 से 4 बार किसी भी उम्र और जेंडर को हो सकता है। अगर समय रहते डायरिया का इलाज नहीं किया गया, तो इससे व्यक्ति की जान भी जा सकता है। क्योंकि इस दौरान शरीर से काफी पानी निकल जाता है। लंबे समय तक डायरिया होने पर आंतों में सूजन (Diarrhea Symptoms) आ सकती है। इसलिए डायरिया की शिकायत होने पर तुरंत डॉक्टर्स से संपर्क करें। आइए जानते हैं इसके लक्षण, कारण और इलाज (diarrhea Detail in Hindi) क्या हैं?

डायरिया के लक्षण (Diarrhea Symptoms in Hindi)

बच्चों और वयस्कों में डायरिया के लक्षण काफी अलग-अलग होते हैं। यह हर उम्र के लोगों को अलग-अलग रूप से प्रभावित करती है। आइए लूज मोशन होना सबसे आम लक्षण है, जो हर एक उम्र के लोगों में दिखाई देते हैं। आइए जानते हैं कुछ अन्य सामान्य लक्षण-

  • पेट दर्द
  • जी मचलाना और उल्टी
  • पेट में ऐंठन
  • भूख कम लगना
  • सिरदर्द होना
  • बुखार 
  • लगातार प्यास लगना
  • मल में खून आना
  • डिहाइड्रेशन
  • दिन में कई बार मल पास होना 
ये सभी लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपके लिए डायरिया गंभीर रूप धारण कर सकता है।

कब जाना चाहिए डॉक्टर्स के पास (Serious Symptoms of Diarrhea in Hindi)

छोटे बच्चों में डायरिया होने पर (Diarrhea Symptoms in Children)

बच्चों के लिए डायरिया एक बहुत ही गंभीर समस्या है। कम समय में ही बच्चे डायरिया की वजह से डिहाइड्रेशन के शिकार हो जाते हैं। जो शिशुओं के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। अगर आपको अपने बच्चों में नीचे लिखे कुछ लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत डॉक्टर्स से संपर्क करें। 
  • थकान महसून होना।
  • सिरदर्द होना
  • कम यूरिन पास होना
  • मुंह सूखना
  • रूखी स्किन 
  • डिहाइड्रेशन 
  • चिड़चिड़ापन
  • तेज बुखार
  • काले रंग का स्टूल पास होना
  • स्टूल में ब्लड आना 

वयस्कों को डायरिया होना (Diarrhea Symptoms in Adults)

  • ब्लीडिंग के साथ गहरे रंग का मल होना
  • जी मचलाना और उल्टी आना
  • डिहाइड्रेशन
  • नींद की कमी
  • घटता वजन

डायरिया होने का कारण (Diarrhea Causes in Hindi)

कई ऐसी स्थिति है, जिसकी वजह से डायरिया की शिकायत हो सकती है। जैसे-
  • फूड एलर्जी होना।
  • लैक्टोज को पचाने में परेशानी।
  • दवाइयों के साइड इफेक्ट्स होना
  • वायरस, बैक्टीरिया या फिर पैरसाईट इंफेक्शन होने की वजह से भी डायरिया हो सकता है।
  • आंत की बीमारी होने पर भी व्यक्ति डायरिया से ग्रसित हो सकता।
  • मल त्यागने के बाद हाथों को अच्छी तरह ना धोने से भी व्यक्ति को डायरिया हो सकता है। 
  • अनहायजेनिक फूड्स के सेवन से भी डायरिया का खतरा बढ़ता है। 
  • शौचालय और रसोईघर की नियमित सफाई ना करने से भी आपको डायरिया की शिकायत होती है। 
  • साफ-सुथरा पानी ना पीने से डायरिया की परेशानी हो सकती है। 
  • बासी खाना खाने वालों को भी डायरिया की शिकायत होती है। 
  • साबुन से हाथ न धोने से भी आपको डायरिया हो सकता है।  

डायरिया का निदान (Diarrhea Diagnosis in Hindi)

शारीरिक परीक्षण ना से डायरिया के कारणों की पहचान की जा सकती है। डॉक्टर डायरिया का निदान करने के लिए सबसे पहले मेडिकल हिस्ट्री चेक करते हैं। इसके लिए डॉक्टर्स आपसे कुछ सवाल कर सकते हैं। जैसे-
  • आपको कैसा महसूस हो रहा है? 
  • दिन में आप कितनी बार शौचालय जा रहे हैं? 
  • परेशानी होने से पहले आपके क्या खाया था? 
  • घर में कौन से घरेलू उपाय अपनाएं? 
  • क्या कोई दवाई खाई? 
  • आप अपने शरीर में किस तरह से बदलाव महसूस कर रहे हैं? 
इन सभी सवालों के जबाव के आधार पर, डॉक्टर्स मरीज का परीक्षण करते हैं। इसके साथ ही कुछ निम्न टेस्ट भी करवाने की सलाह देते हैं।  
  • यूरिन टेस्ट
  • ब्लड टेस्ट
  • मल टेस्ट
  • रेक्टल टेस्ट 

डायरिया का इलाज (Diarrhea Treatment in Hindi)

डायरिया की शिकायत होने पर शरीर में पानी की कमी बहुत ही ज्यादा होने लगती है। ऐसे में पानी की कमी को पूरा करने के लिए डॉक्टर्स अधिक से अधिक तरह पदार्थ खाने की सलाह देते हैं। शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए डॉक्टर्स इलेक्ट्रोलाइट या स्पोर्ट्स ड्रिंक पीने को कहते हैं। गंभीर स्थिति में डॉक्टर्स इंट्रावीनस (intravenous) के माध्यम से आपके शरीर में तरल पदार्थ पहुंचाता है, ताकि आपको किसी तरह की कमजोरी महसूस ना हो। अगर डायरिया की शिकायत बैक्टीरिया की वजह से हुई होती है, तो कुछ डॉक्टर्स एंटीबायोटिक्स दवाई लेने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही रेडोटिल भी डॉक्टर दे सकते हैं। 
 
 
डॉक्टर्स के मुताबिक, अगर आप डायरिया में होने वाली परेशानियों से बचना चाहते हैं, तो अधिक से अधिक तरह पदार्थों का सेवन करें। शरीर को हमेशा हाइड्रेट रखें। डायरिया की शिकायत होने पर शरीर में नमक, ग्लूकोज और अन्य महत्वपूर्ण मिनरल की कमी हो जाती है। ऐसे में तरह पदार्थों के सेवन से आप इन चीजों की कमी को पूरा कर सकते हैं। 
Disclaimer