दिल्ली फिर बनी दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी, जानें वायु प्रदूषण कैसे कम कर रहा है लोगों का जीवन काल

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है, जानें वायु प्रदूषण की वजह से सेहत पर पड़ने वाला असर।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Mar 23, 2022Updated at: Mar 23, 2022
दिल्ली फिर बनी दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी, जानें वायु प्रदूषण कैसे कम कर रहा है लोगों का जीवन काल

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक देश की राजधानी दिल्ली दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की यूएन एनवायरमेंट प्रोटेक्शन एजेंसी ने दुनिया भर के शहरों की एयर क्वालिटी की रैंकिंग जारी की है जिसमें दिल्ली को दुनिया भर की राजधानी में से सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर माना गया है। डब्ल्यूएचओ की इस रिपोर्ट में दुनियाभर के 50 सबसे ज्यादा खराब एयर क्वालिटी वाले शहरों में 35 शहर भारत के ही हैं। यह रिपोर्ट बेहद चौंकाने वाली है। राजधानी दिल्ली में रहने वाले लोग प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं और इसकी वजह से लोगों में तमाम गंभीर बीमारियों का खतरा भी तेजी से बढ़ रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 2021 की वैश्विक एयर क्वालिटी रिपोर्ट में 117 देशों के 6475 शहरों का डेटा शामिल किया था जिसके आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गयी है। दुनियाभर के सबसे ज्यादा प्रदूषित देशों में भारत 6वें स्थान पर है। वायु प्रदूषण के कारण हमारी सेहत पर गंभीर असर (Air Pollution Effects On Human Health) पड़ता है। इसकी वजह से कई गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। आइये विस्तार से जानते हैं इसके बारे में। 

वायु प्रदूषण की वजह से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव (Air Pollution Effects On Human Health in Hindi)

लगातार वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने से और प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से कई गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। वायु प्रदूषण की वजह से ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। यूनिवर्सिटी ऑफ वेरोना द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने वाले लोगों में कैंसर की बीमारी का खतरा भी बढ़ जाता है। हवा में मौजूद प्रदूषित कण जिन्हें पीएम के नाम से जाना जाता है कई गंभीर बीमारियों का कारण बनते हैं। प्रदूषित हवा की वजह से कैंसर, महिलाओं में गर्भपात की समस्या और कई गंभीर मानसिक समस्याएँ हो सकती हैं। वायु प्रदूषण की वजह से सेहत पर पड़ने वाले असर इस प्रकार से हैं।

इसे भी पढ़ें : वायु प्रदूषण के असर को कम करने के लिए रोज की चाय में मिलाएं ये 5 चीजें

Air-Pollution-Effects

1. ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा

वायु प्रदूषण की वजह से लोगों में ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। हमारे शरीर की मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर में प्रवेश करने वाली बीमारियों से लड़ने का काम करती है। लेकिन लंबे समय तक प्रदूषण के संपर्क में रहने की वजह से लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है। प्रदूषण की वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भी गंभीर असर पड़ता है। वायु प्रदूषण की वजह से आपका इम्यून सिस्टम ही आपके शरीर की कोशिकाओं पर हमला कर देता है। इस समस्या को ही ऑटोइम्यून डिजीज कहा जाता है। 

2. प्रदूषण की वजह से कैंसर का खतरा

वायु प्रदूषण के संपर्क में लंबे समय तक रहने से और प्रदूषित हवा में सांस लेने से आपको फेफड़ों के कैंसर का खतरा कई गुना अधिक हो जाता है। इसकी वजह से फेफड़ों को बहुत नुकसान होता है। प्रदूषित हवा में मौजूद पीएम कण फेफड़ों को गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं। अगर आप लंबे समय तक प्रदूषित हवा में रहते हैं तो आपको बहार निकलने पर मास्क का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : बढ़ता प्रदूषण दे रहा है कई समस्याओं को दावत, आप भी हो सकते हैं इन 5 बीमारियों के शिकार

Air-Pollution-Effects

3. वायु प्रदूषण की वजह से हार्ट पर असर

वायु प्रदूषण की वजह से आपके दिल की सेहत पर भी गंभीर असर पड़ता है। लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से हृदय पर गंभीर प्रभाव पड़ता है जिसकी वजह से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है। अगर आप दिल से जुड़ी बीमारियों से ग्रसित हैं तो प्रदूषित हवा में सांस लेना आपके लिए ज्यादा नुकसानदायक हो सकता है।

4. श्वसन तंत्र को गंभीर नुकसान

वायु प्रदूषण की वजह से आपके शरीर में मौजूद सांस लेने से जुड़े अंगों को गंभीर नुकसान होता है। इसकी वजह से आपके नाक और सांस की नली में गंभीर संक्रमण हो सकता है। लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से आपके नाक में जलन और सूजन की समस्या हो सकती है। हवा में मौजूद पीएम कण आपके शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक माने जाते हैं।

5. मानसिक समस्याओं का कारण वायु प्रदूषण

कई शोध और अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं की लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने और रहने की वजह से आपको गंभीर मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। बढ़ते प्रदूषण के साथ यह जोखिम और बढ़ सकता है। पीएम 10 के स्तर में वृद्धि की वजह से आपको मानसिक समस्याएं गंभीर रूप से हो सकती हैं।

इसे भी पढ़ें : वायु प्रदूषण लिवर, किडनियों और तंत्रिकाओं को लंबे समय के लिए किस प्रकार प्रभावित करता है? एक्सपर्ट से जानें

लंबे समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने से आपको गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। इसकी वजह से मौत का खतरा भी बढ़ जाता है। बढ़ते वायु प्रदूषण की वजह से बच्चों की सेहत पर भी गंभीर असर पड़ता है। वायु प्रदूषण की वजह से होने वाली समस्याओं के लक्षण दिखने पर आपको डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer