क्या होती है ऑटोइम्यून बीमारी? जानें, कहीं आप भी नहीं हो रहे इसके शिकार

ऑटोइम्यून बीमारी तब होती है जब हमारा शरीर खुद ही कोशिकाओं और फॉरेन कोशिकाओं के बीच अंतर करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं।

 
सम्‍पादकीय विभाग
अन्य़ बीमारियांWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 18, 2020
क्या होती है ऑटोइम्यून बीमारी? जानें, कहीं आप भी नहीं हो रहे इसके शिकार

वर्तमान समय में ऑटोइम्यून बीमारी एक ऐसा रूप ले चुकी है जिसकी चपेट में ज्यादा से ज्यादा लोग आ रहे हैं लेकिन उन्हें इस बारे में पता ही नहीं होता है। जानकारी के अभाव में लोगों को पता ही नहीं चल पाता है कि वह कब ऑटोइम्यून बीमारी का शिकार हो चुके हैं। इस रोग में शरीर के अंदर ही कोशिकाओं में बदलाव होने लगता है। कई बार ऑटो इम्यून बीमारी की वजह से शरीर की कोशिकाओं में एक दूसरे के प्रति विरोध भी देखने को मिलता है। इस रोग के चलते जोड़ों में दर्द, मसल्स व स्किन में सूजन के साथ ही अन्य लक्षण भी देखने को मिलते हैं।

क्यों होती है ऑटोइम्यून बीमारी

शोधकर्ताओं को लगता है कि ऑटोइम्यून डिसऑर्डर बॉडी में तभी होता है जब दो चीजें होती हैं। सबसे पहले, आप अपने माता-पिता से जीन प्राप्त करते हैं जो आपको एक होने की अधिक संभावना रखते हैं। फिर यह वायरस की तरह तेजी से बढ़ता है। एक्सपर्ट कहते हैं कि ऑटोइम्यून बीमारी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक होती है। डॉक्टर्स कहते हैं कि ऑटोइम्यून बीमारी के लिए कुछ निश्चित हॉर्मोन जिम्मेदार होते हैं

autoimmune

रूमेटाइड अर्थराइटिस

यह ऑटोइम्यून विकार आपके जोड़ों को प्रभावित करता है और सूजन और दर्द का भी कारण बनता है। समय के साथ, सूजन आपके उपास्थि और हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकती है जिसके चलते आपको अपने हाथ पैरों को हिलाने में दिक्कत समस्याएं हो सकती हैं। आरए आपके दिल और फेफड़ों की समस्या भी पैदा कर सकता है। डॉक्टर्स कहते हैं कि दवाओं के सेवन से इस रोग को धीमा किया जा सकता है।

इसे बी पढ़ें: घुटनों में एक सप्‍ताह से ज्‍यादा है दर्द तो तुरंत लें डॉक्‍टर की सलाह, गठिया के हैं संकेत

रीढ़ के जोड़ों में गतिविधि

इस प्रकार का गठिया ज्यादातर आपकी रीढ़ को प्रभावित करता है, लेकिन यह आपकी छाती, गर्दन, कूल्हों और घुटनों में भी अपना असर दिखा सकता है। इस समस्या के चलते आप निरंतर दर्द और कठोरता का कारण बन सकते हैं। आपकी हड्डियां अंततः एक साथ जुड़ सकती हैं और उन क्षेत्रों को हिलाना डुलाना आपके लिए कठिन बना सकती हैं। यह आपके अंगों को भी प्रभावित कर सकता है। आपके उपचार में दर्द, DMARDs और स्टेरॉयड शॉट्स की मदद के लिए दवाओं के साथ विशिष्ट स्ट्रेच और व्यायाम शामिल हो सकते हैं। क्षतिग्रस्त जोड़ों को बदलने के लिए आपको सर्जरी की भी आवश्यकता हो सकती है।

इसे बी पढ़ें: जोड़ों में दर्द और गठिया की समस्या को बढ़ा सकते हैं ये 5 कारक, युवाओं को भी हो सकती है समस्या

लूपस

यह बीमारी एक ही समय में आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करती है। लक्षणों में जोड़ों का दर्द, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, गुर्दे की समस्याएं और बहुत थका होना शामिल हो सकते हैं। इसमें आपके गाल और नाक पर भी दाने हो सकते हैं। नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs) और स्टेरॉयड आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकते हैं और रोग-रोधी दवाओं (DMARDs) को खराब होने से बचा सकते हैं। यदि आपके लक्षण और भी बुरे होते हैं तो आपका डॉक्टर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली या कीमोथेरेपी (कई शक्तिशाली दवाओं का एक संयोजन) को धीमा करने वाली दवा का सुझाव दे सकते हैं या फिर कुद अन्य तरह के सुझाव भी बता सकते हैं।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer