Expert

बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद है दही-चावल का सेवन, जानें किस उम्र से करें खिलाना शुरू

Curd Rice Benefits For Babies : दही-चावल सिर्फ बड़ों के लिए ही नहीं बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं, जानें किस उम्र से करें उन्हें खिलाना शुरू।

 
Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: May 16, 2022Updated at: May 16, 2022
बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद है दही-चावल का सेवन, जानें किस उम्र से करें खिलाना शुरू

गर्मियों में दही-चावल का सेवन तो हम सभी करते हैं। यह एक बेहरीन फूड कॉम्बिनेशन है जो सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। बाजार में मिलने वाले दही-चावल की तुलना में घर पर बना हुआ दही और चावल सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद होता है। यह बेहतरीन मिश्रण शरीर को अच्छी मात्रा में कैल्शियम, विटामिन और कार्बोहाइड्रेट प्रदान करता है। दही में स्वास्थ्य के लिए अच्छे माने जाने वाले बैक्टीरिया भी मौजूद होते हैं जो शरीर को अनेक स्वास्थ्य लाभ देते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं दही-चावल का सेवन सिर्फ बड़ों के लिए ही नहीं, बल्कि बच्चों के लिए भी फायदेमंद होते है खासकर शिशुओं के लिए। जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा! बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सांची रस्तोगी की मानें तो दही चावल हमारे देश के दक्षिणी भाग द्वारा पसंद की जाने वाली एक स्वादिष्ट रेसिपी है। यह न केवल वयस्कों के लिए, बल्कि बच्चों के लिए भी इस व्यंजन के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इस लेख में हम जानेंगे बच्चों को दही-चावल खिलाने के फायदे (Curd Rice Benefits For Babies In Hindi)।

बच्चों के लिए कैसे फायदेमंद है दही-चावल का सेवन (Curd Rice Benefits For Babies In Hindi)

  • दही चावल में दही और चावल दोनों ही पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं जो बच्चे को जरूरी पोषण प्रदान करने में मदद करते हैं।
  • दही एक अच्छा प्रोबायोटिक है, यह पाचन में सहायता करता है और आंतों को स्वस्थ रखने के लिए अच्छा है। यह मल त्याग को नियमित करता है, और बच्चों में दस्त और कब्ज दोनों के लिए अच्छा है।
  • दही स्वस्थ बैक्टीरिया के रूप में इम्यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करती है, जिससे सर्दी-जुकाम, बुखार और वायरल संक्रमण की चपेट में आने का जोखिम कम हो जाता है।
  • दही हड्डियों की मजबूती में सुधार करती है। यह बच्चों की स्वस्थ हड्डियों और दांतों के निर्माण में मदद करती है क्योंकि इसमें कैल्शियम और फास्फोरस की पर्याप्त मात्रा होती है।<
  • दही और चावल दोनों में अच्छी मात्रा में प्रोटीन होता है जो शिशु की शारीरिक वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक है।
  • चावल कार्बोहाइड्रेट का एक अच्छा स्रोत है जो ऊर्जा प्रदान करता है और इसमें महत्वपूर्ण विटामिन और मिनरल्स मौजूद होते हैं जैसे थायमिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, बी 12, सोडियम, पोटेशियम आदि ।
  • दही चावल फाइबर, प्रोबायोटिक और गुड फैट का अच्छा स्रोत है, जो मूड को बेहतर बनाने में मदद करता है।
  • दही चावल में कई माइक्रोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो शिशु की त्वचा और बालों के लिए अच्छे होते हैं।
  • दही-चावल में राई और करी पत्ता का तड़का इसके स्वाद को बढ़ाने के साध एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रदान करता है। जो आपके शिशु को कई गंभीर रोगों के जोखिम से बचाते हैं।
 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Dr. Sanchi Rastogi (@the_kidsdoctor)

आप शिशु को किस उम्र से दही चावल खिलाना शुरू कर सकते हैं?

डॉ. सांची की मानें तो आप अपने शिशु को एक सप्लीमेंट के रूप में दही-चावल खिला सकते हैं। आप अपने 6 महीने से ज्यादा उम्र के शिशु को दही-चावल खिला सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे 6 महीने से कम के बच्चे को दही-चावल न खिलाएं।

इसे भी पढें: श‍िशु में दांत न‍िकलने की प्रक्र‍िया को आसान कैसे बनाएं? डॉक्‍टर से जानें ट‍िप्‍स

क्या शिशु को दही -चावल खिलाने से उन्हें सर्दी हो सकती है?

डॉ. सांची की मानें तो ऐसा नहीं है, बच्चों को दही चावल खिलाने से सर्दी या जुकाम की समस्या नहीं होती है। आप बिना किसी हिचकिचाहट के उन्हें दही-चावल खिला सकते हैं। लेकिन अगर बच्चे को पहले से सर्दी-जुकाम है या वह बीमार है तो ऐसे में दही चावल खिलाने से बचें।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer