COVID-19: कोरोनावायरस को लेकर WHO की सलाह, इन 14 अफवाहों से रहें दूर

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस (COVID-19) से जुड़े अफवाहों पर लगाम लगाते हुए लोगों को 14 जरूरी सलाह साझा किए हैं।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 17, 2020Updated at: Feb 17, 2020
COVID-19: कोरोनावायरस को लेकर WHO की सलाह, इन 14 अफवाहों से रहें दूर

चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर से फैला जानलेवा कोरोनावायरस (COVID-19) अब तक हजारों लोगों की जान ले चुका है। इस नोवेल कोरोनावायरस (Novel Coronavirus) 24 देश प्रभावित हैं। न सिर्फ चीन प्रभावित है बल्कि दक्षिण कोरिया, जापान, फिलीपिंस, हांगकांग, थाईलैंड आदि देश ज्‍यादा प्रभावित है। भारत में भी 3 व्‍यक्तियों में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई थी मगर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय का कहना है कि, कोरोना के तीनों मरीजों की जान बचा ली गई है। इसके अलावा चीन और अन्‍य प्रभावित देशों से यात्रा करने वाले यात्रियों की हवाई अड्डों पर थर्मल स्‍कैनिंग की जा रही है। संदिग्‍धों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर निगरानी की जा रही है। 

वहीं विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) भी कोरोनावायरस के रोकथाम और उपचार की संभावनाओं पर नए शोध में अपनी सहभागिता दे रहा है। साथ ही लोगों को जागरूक करने के प्रयास भी कर रहा है, इसी क्रम में डब्‍ल्‍यूएचओ ने कोरोनावायरस को लेकर फैले अफवाहों को ध्‍यान में रखते हुए 14 मिथ और फैक्‍ट्स बताए हैं।

Corona-Virus-in-india

1: क्या नोवेल कोरोनोवायरस को मारने में हैंड ड्रायर्स प्रभावी हैं?

नहीं, नोवेल कोरोनावायरस (2019-nCoV) को मारने में हैंड ड्रायर्स कारगर नहीं हैं। नए कोरोनावायरस से खुद को बचाने के लिए, आपको अपने हाथों को अल्कोहल बेस्‍ड हैंड वॉश या साबुन और पानी की मदद से धोना चाहिए। एक बार जब आपके हाथ साफ हो जाते हैं, तो आपको पेपर टॉवेल या वॉर्म एयर ड्रायर का उपयोग करके उन्हें अच्छी तरह से सुखाना चाहिए।

2: क्या एक पराबैंगनी कीटाणुशोधन लैंप (Ultraviolet disinfection lamp) नए कोरोनोवायरस को मार सकता है?

यूवी लैंप का उपयोग हाथों या त्वचा के अन्य क्षेत्रों को निष्फल करने के लिए नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि यूवी किरणें त्वचा में जलन पैदा कर सकता है।

3: नए कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों का पता लगाने में थर्मल स्कैनर कितने प्रभावी हैं?

थर्मल स्कैनर्स ( Thermal scanners) उन लोगों का पता लगाने में प्रभावी हैं, जिन्होंने नोवेल कोरोनोवायरस के संक्रमण के कारण बुखार (यानी शरीर का तापमान सामान्य से अधिक है) का विकास किया है। हालांकि, थर्मल स्‍कैनर्स उन लोगों का पता नहीं लगा सकते जो संक्रमित हैं लेकिन बुखार नहीं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि संक्रमित लोगों के बीमार होने और बुखार के विकसित होने से पहले 2 से 10 दिन लगते हैं।

4: क्या आपके शरीर में अल्कोहल या क्लोरीन का छिड़काव नोवेल कोरोनावायरस को मार सकता है?

नहीं। आपके शरीर पर अल्कोहल या क्लोरीन का छिड़काव करने से आपके शरीर में पहले से मौजूद वायरस नहीं फैलेंगे। मगर, ऐसे पदार्थों का छिड़काव कपड़े या श्लेष्मा झिल्ली (यानी आंख, मुंह) के लिए हानिकारक हो सकता है। आपको बता दें कि अल्कोहल और क्लोरीन दोनों ही कीटाणुरहित सतहों के लिए उपयोगी हो सकते हैं, लेकिन उन्हें सही रिकमंडेशन के तहत उपयोग करने की आवश्यकता होती है।

5: क्या चीन से आने वाले लेटर या पैकेज प्राप्त करना सुरक्षित है?

हां, यह सुरक्षित है। चीन से पैकेज प्राप्त करने वाले लोगों को नोवेल कोरोनावायरस होने का खतरा नहीं है। अध्‍ययनों के मुताबिक, कोरोनावायरस वस्तुओं पर लंबे समय तक जीवित नहीं रहते हैं, जैसे कि पत्र या पैकेज।

6: क्या घर पर पालतू जानवर नोवेल कोरोनावायरस (2019-nCoV) का प्रसार कर सकते हैं?

वर्तमान में, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि पालतू जानवर जैसे कि कुत्ते या बिल्ली नए कोरोनावायरस से संक्रमित हो सकते हैं। हालांकि, पालतू जानवरों के संपर्क के बाद अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना एक अच्‍छी आद‍त है। यह आपको ई.कोली और साल्मोनेला जैसे अलग-अलग कॉमन बैक्‍टीरिया से बचाता है जो पालतू जानवरों और मनुष्यों के बीच से गुजर सकते हैं।

7: क्या एंटी-निमोनिया वैक्‍सीन नोवेल कोरोनावायरस के खिलाफ आपकी रक्षा करते हैं?

नहीं, निमोनिया के टीके, जैसे न्यूमोकोकल वैक्सीन और हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (एचआईबी) वैक्सीन, नए कोरोनावायरस से सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। यह वायरस इतना नया और अलग है कि इसे एक अलग टीके की जरूरत है। शोधकर्ता 2019-nCoV के खिलाफ एक वैक्‍सीन विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं, और WHO उनके प्रयासों का समर्थन कर रहा है। हालांकि ये टीके 2019-nCoV के खिलाफ प्रभावी नहीं हैं, लेकिन श्वसन संबंधी बीमारियों के खिलाफ टीकाकरण आपके स्वास्थ्य की रक्षा के लिए जरूरी है।

8: क्या नए कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए रेगुलर नाक से पानी निकलना सही है?

नहीं। इसका कोई सबूत नहीं है कि नियमित रूप से नाक से पानी निकलने से लोगों को नए कोरोनावायरस से संक्रमण से बचाया जाता है। कुछ सीमित सबूत हैं कि नियमित नाक से सेलाइन निकलने से लोगों को सामान्य सर्दी से अधिक जल्दी ठीक होने में मदद मिल सकती है। हालांकि, नियमित रूप से नाक को साफ करने से श्वसन संक्रमण को रोकने के लिए नहीं दिखाया गया है।

9: क्या गार्गिल माउथवॉश (गरारा करने वाल माउथवॉश) आपको नए कोरोनावायरस से संक्रमण से बचा सकता है?

नहीं, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि माउथवॉश का इस्तेमाल आपको नए कोरोनावायरस से होने वाले संक्रमण से बचाएगा। कुछ ब्रांड या माउथवॉश आपके मुंह में लार में कुछ मिनटों के लिए कुछ बैक्‍टीरिया को खत्म कर सकते हैं। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि वे आपको 2019-nCoV संक्रमण से बचाते हैं।

10: क्या लहसुन खाने से नए कोरोनावायरस से संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है?

लहसुन एक स्वस्थ भोजन है जिसमें कुछ एंटी-बैक्‍टीरियल गुण हो सकते हैं। हालांकि, कोरोनावायरस के प्रकोप से जुड़े कोई सबूत नहीं है कि लहसुन खाने से लोगों को इससे बचाया गया है।

इसे भी पढ़ें: कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए जरूरी है इम्यूनिटी का मजबूत होना, ल्यूक कौटिन्हो से जानें 10 तरीके

11: क्या तिल का तेल लगाने से शरीर में नए कोरोनोवायरस का प्रवेश नहीं होता है?

नहीं, तिल का तेल नए कोरोनोवायरस को नहीं मारता है। कुछ रासायनिक कीटाणुनाशक हैं जो सतहों पर 2019-nCoV को मार सकते हैं। इनमें ब्लीच/क्लोरीन-आधारित कीटाणुनाशक, या सॉल्वैंट्स, 75% इथेनॉल, पेरासिटिक एसिड और क्लोरोफॉर्म शामिल हैं। हालांकि, यदि आप उन्हें त्वचा पर या अपनी नाक के नीचे रखते हैं, तो वायरस पर उनका बहुत कम या कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इन रसायनों को अपनी त्वचा पर लगाना खतरनाक भी हो सकता है।

12: क्या नए कोरोनोवायरस बुजुर्गों को ही प्रभावित करते हैं, या कम आयु के लोग भी इसके प्रति अतिसंवेदनशील होते हैं?

नए कोरोनोवायरस (2019-nCoV) से सभी उम्र के लोग संक्रमित हो सकते हैं। बुजुर्गों, और पहले से मौजूद चिकित्सा स्थितियों (जैसे अस्थमा, मधुमेह, हृदय रोग) के लोग वायरस से गंभीर रूप से बीमार होने के लिए अधिक कमजोर दिखाई देते हैं। डब्ल्यूएचओ सभी उम्र के लोगों को सलाह देता है कि वे खुद को वायरस से बचाने के लिए कदम उठाएं, उदाहरण के लिए हाथों की स्वच्छता और रेस्‍पाइरेट्री स्वच्छता का विशेष ध्‍यान दें।

13: क्या नए कोरोनोवायरस को रोकने या उसका इलाज करने के लिए कोई दवाएं हैं?

अभी तक, नए कोरोनावायरस (2019-nCoV) को रोकने या इलाज के लिए किसी दवा की खोज नहीं हो पाई है। हालांकि, वायरस से संक्रमित लोगों को लक्षणों से राहत और उपचार के लिए उचित देखभाल जरूरी है। डब्ल्यूएचओ दूसरे संगठनों के साथ मिलकर उपचार के प्रयासों में तेजी लाने में मदद कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस और स्वाइन फ्लू में क्या है अंतर? कैसे एक जैसे होकर भी बिल्कुल अलग हैं ये इंफेक्शन

14: क्‍या नए कोरोना वायरस से बचाव और इलाज में एंटीबायोटिक्‍स कारगर है?

नहीं, एंटीबायोटिक्‍स कोरोनावायरस के प्रति कारगर नहीं हैं, ये केवल बैक्‍टीरिया के लिए काम करते हैं। नोवेल कोरोनावायरस, एक वायरस है। इसलिए एंटीबायोटिक्‍स का उपयोग इलाज या रोकथाम के लिए नहीं किया जाना चाहिए।

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer