रोजाना नेलपॉलिश-लिपस्टिक लगाने की आदत कहीं आपको बीमार न बना दे, एक्सपर्ट से जानें किस समस्या का होता है खतरा

नेलपेंट या ल‍िपस्‍ट‍िक को ज्‍यादा लगाने से आपकी त्‍वचा पर इसका बुरा असर पड़ सकता है। हान‍िकारक कैम‍िकल से बनने वाली कॉसमेट‍िक से बचें। 

 
Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 07, 2021
 रोजाना नेलपॉलिश-लिपस्टिक लगाने की आदत कहीं आपको बीमार न बना दे, एक्सपर्ट से जानें किस समस्या का होता है खतरा

क्‍या आपको भी हर द‍िन नेलपेंट या ल‍िपस्‍ट‍िक लगाने का शौक है? अगर हां तो आपके ल‍िये ये लेख फायदेमंद हो सकता है। आज हम बात करेंगे उन परेशान‍ियों की जो नेलपेंट या ल‍िपस्‍ट‍िक लगाने से हो सकती है। मेकअप से खूबसूरती जरूर बढ़ाती है पर इनमें मौजूद कैम‍िकल आपकी स्‍किन के ल‍िये हान‍िकारक हो सकते हैं। इसल‍िये इनके इस्‍तेमाल से पहले इनमें म‍िले हान‍िकारक तत्‍वों की पूरी जानकारी लें। इनसे होने वाली बीमार‍ियों को समझने के ल‍िये हमने बात की ओम स्किन क्लीनिक, लखनऊ के वरिष्ठ कंसलटेंट डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट डॉ देवेश मिश्रा से और समझा क‍ि कैसे हम मेकअप से होने वाली एलर्जी से बच सकते हैं।

makeup allergy is not good

डॉ देवेश ने बताया क‍ि इन द‍िनों छोटी उम्र की लड़क‍ियां भी मेकअप में बहुत द‍िलचस्‍पी ले रही हैं जबकि उनकी त्‍वचा सॉफ्ट होती है। उन्‍हें इतनी कम उम्र में ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स से दूर रहना चाह‍िये नहीं तो स्‍किन एलर्जी हो सकती है। वहीं मह‍िलाओं की बात करें तो रोज़ाना नेलपॉल‍िश या ल‍िपस्‍ट‍िक इस्‍तेमाल करना गलत है। आप कभी-कभी इसे लगा सकती है पर जहां तक हो इन प्रोडक्‍ट्स को अवॉइड करना चाह‍िये। इनमें मौजूद हानिकारक कैम‍िकल आपके स्‍किन सेल्‍स को डैमेज करने का काम करते हैं। स‍िर्फ स्‍किन ही नहीं बल्‍क‍ि इससे मुंह के अंदर और अन्‍य अंगो में भी बीमारी हो सकती है। इन प्रोडक्‍ट्स में सीसा, क्रोम‍ियम, एल्‍युम‍िन‍ियम म‍िलाया जाता है ज‍िससे आपको इंफेक्‍शन हो सकता है। 

ल‍िपस्‍ट‍िक में मौजूद लेड हान‍िकारक (Lead in lipstick is harmful)

ल‍िपस्‍ट‍िक में पाए जाने वाला लेड आपकी सेहत के ल‍िये अच्‍छा नहीं होता। मह‍िलाएं सस्‍ते के चक्‍कर में नॉन ब्रैंडेड ल‍िपस्‍ट‍िक खरीद लेती हैं जो तय मानकों पर नहीं बनाई जाती। इसे और भी खतरनाक माना जाता है। सस्‍ती ल‍िपस्‍ट‍िक में म‍िलाए जाने वाला प्र‍िजर्वेट‍िव भी घट‍िया क्‍वॉल‍िटी का होता है ज‍िससे ल‍िपस्‍ट‍िक जल्‍दी खराब हो जाती है। अगर ल‍िपस्‍ट‍िक सस्‍ती है तो उससे डार्माटाइट‍िस जैसी बीमार‍ी का डर रहता है। लंबे समय तक पुरानी लिपस्‍ट‍िक यूज़ करने से बचें। अगर आपको उसके रंग में बदलाव नजर आये तो उसे फेंक दें। पुरानी ल‍िपस्‍ट‍िक पर फंगस भी लग जाती है ज‍िससे उसका रंग हरा हो जाता है। ऐसा हो तो ल‍िपस्‍ट‍िक का इस्‍तेमाल बंद कर दें।  

इसे भी पढ़ें- Lipstick Tips: होंठों को स्‍मूथ फिनिश देना है, तो लिक्विड लिपस्टिक लगाते समय इन गलतियों से बचें 

ल‍िपस्‍ट‍िक से होने वाली बीमारी (Lipstick is a cause of diseases)

lipstick contains led

हर उम्र की मह‍िलाएं ल‍िपस्‍ट‍िक की फैन होती हैं। एक अनुमान के अनुसार ल‍िपस्‍ट‍िक सबसे ज्‍यादा यूज होने वाला ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट है। इसे लंबे समय तक लगाने से आपके होठों पर पर्मानेंट दाग, आसपास दाने हो सकते हैं। ल‍िपस्‍ट‍िक लगाकर कुछ भी खाने या पीने से लोग परहेज़ नहीं करते ज‍िस कारण से ल‍िपस्‍ट‍िक खाने में म‍िलकर पेट में जाती है और स्‍टमक इंफेक्‍शन या पेट दर्द जैसी समस्‍या शुरू हो जाती है। छोटी सी लापरवाही बड़ी बीमारी का कारण बन सकती है। रात को सोने से पहले ल‍िपस्‍ट‍िक को होठों से साफ करके एंटीसेप्‍ट‍िक क्रीम या नार‍ियल का तेल लगा लें। लिपस्टिक के ज्यादा इस्तेमाल से होठों में दरारें आने लगती हैं। होठों के रंग भी काला हो सकता है। लिपस्टिक में कोलोफीन, लैनोलीन जैसे कैमिकल होते हैं जिससे आपको एलर्जी हो सकती है। लाल रंग की लिपस्टिक में लेड की ज्यादा मात्रा मिलाई जाती है। लिपस्टिक में एक तरह का ऑयल स्किन पोर्स को बंद कर देता है। इससे स्किन सेल्स खराब होते हैं।

ल‍िपस्‍ट‍िक खरीदने से पहले क्‍या करें? (Tips before buying lipstick)

ल‍िपस्‍ट‍िक से होने वाले न‍ुकसान के बारे में तो आप जान ही चुके हैं इसल‍िये घट‍िया ब्रैंड से तो दूर ही रहें। ल‍िपस्‍ट‍िक खरीदने से पहले उसकी एक्‍सपाइरी डेट और उसमें मौजूद कैम‍िकल की ल‍िस्‍ट जरूर चेक करें। इससे लेने से पहले होठों पर एक बेस लगाकर जरूर देखें। दुकानों में ल‍िपस्‍ट‍िक का सैंपल होता है। इससे आपको पता चल जायेगा क‍ि आपकी त्‍वचा पर क‍िसी तरह की कोई एलर्जी तो नहीं हो रही है। ल‍िपस्‍ट‍िक के साइडइफेक्‍ट से बचने का अच्‍छा तरीका है आप उसके और होठों के बीच बेस बना लें। ल‍िपस्‍ट‍िक लगाने से पहले आप बोरोलीन या कोई और क्रीम लगा लें। फ‍िर ल‍िपस्‍ट‍िक एपलाई कर सकती हैं। इससे ल‍िपस्‍ट‍िक का असर सीधे होठों पर नहीं होगा। आपकी स्‍किन सेंसिट‍िव है तो आप हर्बल ल‍िपस्‍ट‍िक भी लगा सकती हैं। इनमें नैचुरल इंग्रीड‍िएंट ज्‍यादा होते हैं। 

इसे भी पढ़ें- टूथपेस्‍ट और नींबू से छुड़ाएं नेल पॉल‍िश, नाखून बनेंगे हेल्दी और चमकदार

रोज़ाना नेलपेंट लगाने से कमज़ोर होते हैं नाखून (Daily use of nailpaint is bad for nails)

nailpaint is harmfull for nails

ल‍िपस्‍ट‍िक के अलावा नेलपॉल‍िश की भी अच्‍छी ड‍िमांड मार्केट में देखने को म‍िलती है। नेलपॉल‍िश आपके नाखूनों को सुंदर द‍िखाती हैं पर ये आपके नाखूनों के ल‍िये नुकसानदायक हो सकती है। इसमें टोल्‍यून तत्‍व होता है। गर्भवती मह‍िलाओं को नेलपेंट लगाने से मना क‍िया जाता है क्‍योंक‍ि इससे ब्रेस्‍टफ‍ीड‍िंग पर इफेक्‍ट पड़ता है। जो लोगों को नाखून दांत से काटने की आदत होती है उनके ल‍िये नेलपेंट ज्‍यादा हान‍िकारक होता है क्‍योंक‍ि नेलपेंट के कण सीधे पेट में जाते हैं। कई लोग पेट दर्द की शिकायत भी करते हैं। रोजाना नेल पॉल‍िश लगाने से नाखूनों की परत कमज़ोर करती है। इससे नाखून तक नैचुरल हवा नहीं पहुंच पाती और नाखून टूटने लगते हैं। 

नाखूनों को दें हाइड्रेशन (Nails needs hydration)

हमारी त्‍वचा की तरह नाखूनों को हाइड्रेट करना भी जरूरी है इसल‍िये नाखूनों को हफ्ते में 2 बार गरम पानी में डुबोकर रखें। ज्‍यादा नेलपेंट लगाने से आप र‍िमूवर का इस्‍तेमाल भी ज्‍यादा करते हैं। इससे नाखूनों में नैचुरल ऑयल खत्‍म हो जाता है और नाखून के आसपास का ह‍िस्‍सा भी फटने लगता है। लिपस्‍ट‍िक की तरह नेलपेंट की भी सस्‍ती क्‍वॉल‍िटी आपको बीमार कर सकती है। आप इसे खरीदते हैं तो ऐसा करना बंद कर दें। नेलपेंट आपके हाथ क‍े जर‍िए आपके पेट में जा सकते हैं। इससे आपको लीवर या क‍िडनी पर फर्क पड़‍ता है इसलि‍ये सतर्क रहें। नेलपेंट में पॉलिसिलिकेट,स्टार्च मौजूद होता है। उससे इचिंग या जलन हो सकती है। इससे आपली आंखों में भी परेशानी हो सकती है। क्योंकि हम बार-बार आंखों को छूते हैं। नेलपेंट में मौजूद एसीटोन नाखूनों के लिये अच्छा नहीं माना जाता। 

इन आदतों को कहें बॉय-बॉय (Say no to these habits)

  • महिलायें अक्‍सर दूसरों का मेकअप क‍िट इस्‍तेमाल करने की गलती करती हैं पर आप इसे न दोहराएं। दूसरों के इस्‍तेमाल क‍िए ब्यूटी प्रोडक्‍ट्स आपकी स्‍किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 
  • गंदे स्‍पंज या ब्रश का इस्‍तेमाल न करें। समय-समय पर उसे साफ करते रहें और सुखाकर इस्‍तेमाल करें। स्‍पंज को साबुन या शैंपू से साफ करें। गरम पानी में कुछ देर भिगोकर रखें। धूप में इसे सुखाने से जर्म मर जाते हैं। 
  • अपने ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स को लंबे समय तक इस्‍तेमाल न करें। ऐसा करने से उसके साइडइफेक्‍ट्स आपकी स्‍किन पर द‍िखने लगेंगे। 
  • मेकअप प्रोडक्‍ट्स में मौजूद सुगंध त्‍वचा के लि‍ये अच्‍छी नहीं होती इसल‍िये ऐसे प्रोडक्‍ट्स न खरीदें जिसमें तेज़ खुशबू हो।
  • क‍िसी भी तरह की स्‍क‍िन एलर्जी होने पर इलाज खुद से न करें। ऐसा करने से परेशानी बढ़ सकती है। 
  • ल‍िपस्‍ट‍िक को 4 से 5 घंटों से ज्‍यादा न लगायें। 

मेकअप भले ही आपको खूबसूरत बनाती हो पर इसके लगातार इस्‍तेमाल से स्‍क‍िन खराब होती है इसल‍िये इन प्रोडक्‍ट्स को कम से कम यूज़ करें। 

Read more on Skin Care in Hindi

Disclaimer