महिलाओं के लिए भी होता है कंडोम, एक्सपर्ट से जानें इसकी विशेषता, उपयोग और अन्य जरूरी बातें

सिर्फ पुरुष ही नहीं महिलाओं के लिए भी होता है कंडोम, एक्सपर्ट से जानें इसे पहनने का सही तरीका और इसके फायदों के बारे में तमाम जानकारी।

Satish Singh
Written by: Satish SinghUpdated at: Aug 31, 2021 16:03 IST
महिलाओं के लिए भी होता है कंडोम, एक्सपर्ट से जानें इसकी विशेषता, उपयोग और अन्य जरूरी बातें

मौजूदा समय में कंडोम सिर्फ बीमारियों से ही नहीं बचाता बल्कि अनचाहे गर्भ से भी आपको अलग रखता है। गर्भनिरोधक के लिए कंडोम बहुत ही ज्यादा जरूरी है। लेकिन हम सब मेल कंडोम के बारे ज्यादा जानते हैं। फीमेल कंडोम के बारे में बहुत से लोगों को जानकारी भी नहीं होती है। खासतौर पर छोटे शहर में रहने वाले बेहद कम ही लोगों को इसके बारे में पता होता है, लेकिन पुरुषों के कंडोम की अपेक्षा इसकी बिक्री कम होने के साथ कीमत भी ज्यादा होती है। हकीकत यह है कि महिलाओं के लिए भी कंडोम होता है। जो महिलाएं अपनी वजाइना में पहनती है। फीमेल मेल कंडोम की तुलना में ज्यादा फेमस नहीं है। यह काफी महंगी भी है। बिक्री नहीं होने के कारण ज्यादातर मेडिकल स्टोर में यह नहीं मिलती है। आइए हम फीमेल कंडोम के बारे में जमशेदपुर के डिमना रोड में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. विमल कुमार से जानते है इसकी विशेषता- उपयोग व अन्य जरूरी बातें।  

पुरुष कंडोम से ज्यादा प्रभावी

आज कल महिलाएं गर्भनिरोधक के लिए पूरी तरह से पुरुषों पर डिपेंड करती हैं। महिला कंडोम रहने से उन्हें सेक्स करने से पहले किसी पर डिपेंड नहीं रहना होगा। डॉक्टर बताते हैं कि फीमेल कंडोम को अगर अच्छे से पहना जाए, तो यह पुरुष कंडोम से ज्यादा प्रभावी और अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने में ज्यादा कारगर होता है। फीमेल कंडोम सीमेन को गर्भाशय के अंदर जाने से रोकता है। फीमेल कंडोम को योनी में पहना जाता है। अगर आपका पार्टनर कंडोम नहीं पहनता है या सेक्स करने से पहले कंडोम भूल जाता है, तो महिला अपनी सेफ्टी के लिए फीमेल कंडोम का इस्तेमाल कर सकतीं हैं। 

Female Condoms

फीमेल कंडोम से एलर्जी नहीं होती है, जानें ऐसे पहना जाता है

>फीमेल कंडोम के दो छोर होते हैं, एक बंद होता है और एक खुला होता है। बंद वाले छोर को योनी के अंदर डाला जाता है। फीमेल कंडोम पॉलीयुरेथेन या नाइट्राइल से बना होता है। जो अनचाही प्रेग्नेंसी महिलाओं को बचाता है। इसे इंटरकोर्स से कुछ घंटे पहले पहना जाता है। जबकी मेल कंडोम को सेक्स के वक्त ही हमें पहनना होता है। मेल कंडोम पॉलीयुरेथेन, लेटेक्स और पॉली आईसोप्रेन से बनता है। पेनिस में जब इरेक्शन होता है, तभी इसे पहना जाता है। मेल कंडोम लेटेक्स से बना होता है, इसलिए इसमें एलर्जी का खतरा होता है। लेकिन फीमेल कंडोम में ऐसा नहीं होता है। इसे सेक्स के आठ घंटे पहले भी पहन सकते हैं। 

फीमेल कंडोम एक ही साइज के होते हैं

अगर सेफ्टी के तहत देखें तो दोनों ही कंडोम के सुरक्षित होने का पैमाना बराबर ही होता है। लेकिन मेल कंडोम इसलिए ज्यादा चलन में है क्योंकि यह आसानी से मेडिकल स्टोर पर मिल जाता है।  महिलाओं द्वारा इसके इस्तेमाल नहीं करने के कारण इसकी लोकप्रियता कम है। फीमेल कंडोम के इस्तेमाल की प्रक्रिया थोड़ा जटिल है, जबकि मेल कंडोम आसानी से पुरुष यूज कर सकते हैं। फीमेल कंडोम मेल कंडोम की अपेक्षा ज्यादा महंगी होती है। फीमेल कंडोम एक ही साइज की होती है, जबकि मेल कंडोम पेनिस के साइज के हिसाब से अलग-अलग साइज के पाए जाते हैं। अलग अलग देशों में पुरुषों के लिंग के साइज के अनुसार ही कंडोम का साइज भी बड़ा व छोटा बनाया जाता है। 

फीमेल कंडोम योनी ढंकता है

>फीमेल कंडोम योनी को ढक कर रखता है। संभोग के समय यह पुरुष व महिला दोनों के ही लिए सुरक्षित होता है। वहीं मेल कंडोम पेनिस को ढंक कर रखता है। कोई भी कंडोम को सिर्फ एक बार इस्तेमाल करना चाहिए। इसके बार-बार इस्तेमाल करने हमें कई बीमारी हो सकती है।

Use Of Female Condoms

फीमेल कंडोम साइज में बड़ा होता है

मेल कंडोम से फीमेल कंडोम का साइज बड़ा होता है। फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करने से पहले इसकी एक्सपायरी डेट देख लें। एक्सपायरी डेट पार हो गई है तो यह फट सकता है। फीमेल कंडोम पहले से लुब्रिकेटेड होती है, जो सेक्स को आराम दायक बनाती है। अगर मेल कंडोम का इस्तेमाल कर रहे हैं तो कोई भी पुजिशन में सेक्स कर सकते हैं। लेकिन फीमेल कंडोम इस्तेमाल करने के लिए हमें आरामदायक पुजिशन में सेक्स करना होता है। 

इसे भी पढ़ें : ज्यादा संभोग से आसान होता है गर्भाधान, मिथ और सच

फीमेल कंडोम का कैसे इस्तेमाल करें

  • >फीमेल कंडोम में दो रिंग रहती है, एक छोटी और एक बड़ी
  • छोटी रिंग को योनी के अंदर डालें।
  • बड़ी रिंग से वजाइना के ऊपरी हिस्से को कवर कर लें।  
  • संभोग करते समय ध्यान रखें कि पेनिस कंडोम के अंदर जाए ना कि इसके आस पास
  • सेक्स करने के बाद कंडोम की बड़ी रिंग को खिंच कर निकाल लें

फीमेल कंडोम के फायदे

  • >फीमेल कंडोम के कारण महिला अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने के लिए पुरुषों पर निर्भर नहीं रहना पड़ता
  • इसे सेक्स से कुछ घंटे पहले लगा सकते हैं
  • कंडोम अपनी जगह पर रहता है
  • इससे सेक्स में आनंद आता है, कई प्रकार की बीमारियों से भी बचाव होता है
  • इसके इस्तेमाल से सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज नहीं होते हैं
  • इसका इस्तेमाल करने से कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है
  • कई महिलाओं को पुरुष कंडोम से एलर्जी हो जाती है, ऐसे में आप फीमेल कंडोम का इस्तेमाल कर सकतीं हैं

सुरक्षित संभोग के लिए है काफी जरूरी

डॉक्टर बताते हैं कि सुरक्षित सेक्स के लिए कंडोम बहुत ही जरूरी है। ऐसे में चाहे वो मेल कंडोम हो या फिर फिमेल कंडोम। सुरक्षित यौन संबंध बनाने के लिए सभी लोगों को कंडोम का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। यह अनचाहे प्रेग्नेंसी और यौन संबंधी रोगों से बचाता है। अगर आप फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करती हैं, तो एक बार इसके इस्तेमाल करने के तरीके को जान लें और डॉक्टर की सलाह ले लें। इसके बाद ही फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करें। महिला हो या फिर पुरुष अपने स्वास्थ्य को लेकर उन्हें डॉक्टर से खुलकर बात करनी चाहिए।

Read More Articles On Marriage

Disclaimer