आपका खानपान और लाइफस्टाइल बन सकता है मुंह की इन 5 बीमारियों का कारण, जानें बचाव के टिप्स

खानपान और बदलते लाइफस्टाइल की वजह से आपको मुंह से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं। इसलिए हेल्दी लाइफस्टाइल चुनें।

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Oct 04, 2021
आपका खानपान और लाइफस्टाइल बन सकता है मुंह की इन 5 बीमारियों का कारण, जानें बचाव के टिप्स

बदलते खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से लोगों को कई तरह की बीमारियां हो रही हैं। ऐसे में शरीर को स्वच्छ रखना बेहद जरूरी हो गया है। खासतौर पर मुंह की साफ-सफाई पर हमें विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत होती है। जिस तरह शरीर के अन्य अंगों की साफ-सफाई जरूरी होती है, उसी तरह मुंह की साफ-सफाई शरीर को हेल्दी रखने के लिए जरूरी है। क्योंकि हमारे शरीर में मुंह के जरिए ही हर एक खाद्य पदार्थ अंदर जाता है। ऐसे में अगर मुंह में किसी तरह की गंदगी हो, तो यह पूरे शरीर में फैल सकता है। इसलिए मुंह की साफ सफाई बेहद जरूरी होती है। गाजियाबाद की डेंटिस्ट स्मिता सिन्हा बताती हैं कि मुंह की साफ-सफाई के अलावा खानपान पर भी ध्यान देने की जरूरत है। इन दिनों लोगों के खानपान और लाइफस्टाइल में कई तरह के बदलाव देखने को मिल रहे हैं, जिसकी वजह से लोगों को मुंह से जुड़ी कई तरह की परेशानियां हो रही हैं। 

हम ऐसे-ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन कर रहे हैं, जिससे दांतों से लेकर मुंह के अन्य पार्ट्स में परेशानी उत्पन्न हो रही है। इतना ही नहीं, कई लोग बिजी शेड्यूल के कारण मुंह की सही से सफाई भी नहीं करते हैं, जिसके कारण ओरल हेल्थ से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं। आज हम आपको इस लेख में मुंह से जुड़ी कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं डेंटिस्ट स्मिता से मुंह की बीमारियों के बारे में-

1. कैंकर सोर्स

मुंह में होने वाली इस बीमारी को एफथ्रोस अल्सर (Aphthros Ulcer) भी कहा जाता है। यह मुंह और मसूड़ों के नरम उतकों में विकसित होता है। यह कोर्ड सोर्स से अलग होते हैं। कोल्ड सोर्स लिप्स पर विकसित होते हैं और काफी संक्रामक होते हैं। लेकिन कैंकर सोर्स लिप्स पर नहीं होता है और न ही संक्रामक होता है। हालांकि, इसके कारण आपको दर्द हो सकता है। साथ ही बात करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। 

इसे भी पढ़ें - दांतों में फोड़ा होने के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

कैंकर सोर्स के लक्षण

  • जीभ, गाल और मसूड़ों पर छोटे-छोटे घाव दिखना
  • घाव गोलाकर या फिर अंडाकार में होता है। 
  • घोव होने के 1 से 2 दिन के अंदर आपको जलन या फिर झुनझुनी महसूस हो सकती है। 

कैसे दिलाएं आराम

यह समस्या बिना इलाज के भी ठीक हो सकती है। हालांकि, अगर आपके मुंह पर ज्यादा घाव हो रहा है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करेँ। इसके अलावा बैक्टीरिया से बचने के लिए नियमित रूप से ब्रश और फ्लॉस करें।

वहीं, कैंकर के दर्द से राहत पाने के लिए आप दूध, दही और आइक्रीम का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा नमक के पानी से गरारा करें। वहीं, आप कुछ दवाइयां भी ले सकते हैं। 

2. ल्यूकोप्लाकिया  

यह एक ऐसी स्थिति है, जिसकी वजह से मुंह के अंदर सफेद और भूरे रंग के धब्बे हो जाते हैं। डॉक्टर बताती हैं कि यह परेशानी आमतौर पर धूम्रपान करने वाले लोगों को ज्यादा होती है। अगर इस समस्या का समय पर इलाज न कराया जाए, तो कैंसर होने की संभावना हो सकती है। इसलिए धूम्रपान जैसी गलत आदतों को छोड़ना आपके लिए बेहतर है।

ल्यूकोप्लाकिया के लक्षण

  • मुंह के अंदर सफेद और भूरे रंग का निशान
  • मुंह के अंदर मोटी और ऊभरी सतह
  • कुछ मामलों में लाल धब्बे भी नजर आ सकते हैं। 

कैसे होता है इलाज

यह परेशानी अधिकांश लोगों में खुद-ब-खुद ठीक हो सकते हैं। इसमें विशेष उपचार की जरूरत नहीं होती है। लेकिन अगर आप धूम्रपान का सेवन कर रहे हैं, तो इसे तुरंत छोड़ दें। क्योंकि इससे आपको कैंसर होने का खतरा रहता है। इसके अलावा अगर मुंह में ज्यादा पैचेज हो जाएं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

3. ज्योग्राफिक टंग

इस स्थिति में जीभ के अंदर नक्शे की धब्बा नजर आता है। साथ ही यह गुलाबी रंग का घाव बन जाता है। हालांकि, इसमें आपको ज्यादा परेशानी नहीं झेलनी पड़ती है। लेकिन अगर आप ज्यादा नमक, मसाले और मिठाइयों का सेवन करते हैं, तो आपको दिक्कत हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - बिलनी (गुहेरी) के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

इसका लक्षण

  • जीभ के ऊपरी हिस्से पर नक्शा बनना
  • घाव के आकार में बदलाव नजर आना।
  • घाव पर जलन, बैचेनी होना।

इलाज के तरीके

अगर आपको ज्यादा बैचेनी महसूस होती है, तो डॉक्टर से संपर्क करेँ। डॉक्टर आपको कुछ दवाइयां हे सकते हैं। इसके अलावा कुछ विटामिन बी सप्लीमेंट्स लेने की सलाह दी जाती है। डॉक्टर का कहना है कि यह कोई गंभीर स्थिति नहीं है। हालांकि, देखने में गंभीर लग सकती है। इसकी वजह से संक्रमण फैलने का खतरा नहीं होता है। 

4. मुंह से बदबू आना

मुंह से बदबू या सांसों से बदबू आना लोगों के लिए शर्मिंदगी का कारण होता है। इस समस्या का कारण मुंह की सही से साफ-सफाई न करना और तंबाकू का सेवन करने की वजह से हो सकता है। वहीं, तरह-तरह की दवाइयों का सेवन करने वाले लोगों के मुंह से बदबू आ सकती है। 

कैसे करें मुंह के बदबू की पहचान

  • गले में छाले होना।
  • नाक बहना
  • गले में छाला 
  • नाक बहना
  • बलगम और खांसी होना।

बचाव के तरीके

  • मुंह के बदबू से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से ब्रश करें। 
  • खूब सारा पानी पिएं। 
  • जीभ साफ करें। 
  • इलायची का सेवन करें।  

5. कोल्ड सोर्स

कोल्ड सोर्स की स्थिति में मुंह के अंदर द्रव से भरे फफोले नजर आते हैं। यह समस्या संक्रामक होती है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को हो सकता है। 

कैसे करें पहचान

  • होंठों या चेहरे पर जलन और झुनझुनी होना।
  • छूने पर दर्द महसूस होना।
  • द्रव से भरा फफोला
  • बुखार होना।
  • मांसपेशियों में दर्द होना

इलाज के तरीके

इसके इलाज के लिए डॉक्टर कुछ एंटीवायरल दवाइयां दे सकते हैं। इसके अलावा डॉक्टर आपको निजी चीजें शेयर न करने की सलाह दे सकते हैं। साथ ही ओरल सेक्स से बचकर रहें। साथ ही अपने साथ किसी को खाने पीने न दें। इम्यूनिटी बढ़ाने वाली चीजों को सेवन करें।

ध्यान रखें कि आपके लाइफस्टाइल और खानपान का असर आपके शरीर पर पड़ सकता है। साथ ही यह मुंह के विकारों को भी बढ़ा सकता है। इसलिए हेल्दी लाइफस्टाइल का चुनाव करें। हेल्दी खाना खाएं और नियमित रूप से एक्सरसाइ करें। किसी भी तरह की परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से अपना चेकअप कराएं। ताकि आगे होने वाली परेशानियों से बचा जा सके। 

 

 

Disclaimer