दांतों में फोड़ा होने के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

दांतों में फोड़े की समसया होने पर आपको अचानक से दांत में तेज दर्द शुरू हो सकता है। इसलिए दांतों के दर्द को नजरअंदाज न करें। 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Aug 24, 2021 13:08 IST
दांतों में फोड़ा होने के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

क्या आपने कभी दांतों में फोड़ा होने के बारे में सुना है? क्या आपको इस तरह की समस्या हुई है? अगर नहीं, तो शायद आपके लिए यह एक आश्चर्य की बात हो कि दांतों में भी फोड़े की समस्या होती है। जी हां, जिस तरह हाथ-पैरों, स्किन पर फोड़ा होता है उसकी तरह दांतों में भी फोड़ा हो सकता है। दरअसल, जब हमारे दांतों या फिर मसूड़ों के अंदर किसी वजह से पस एकत्रित होने लगता है, तो इस समस्या को डेंटल की भाषा में डेंटल एब्सेस या दांतों का फोड़ा कहा जाता है। गाजियाबाद इंदिरापुरम की डेंटिस डॉक्टर स्मिता सिंह बताती हैं कि दांतों और मसूड़ों में यह पस बैक्टीरिया की वजह से हो सकता है। कुछ लोगों को इसकी वजह से काफी असहनीय दर्द हो सकता है। आज हम आपको इस लेख में दांतों में फोड़ा होने के कारण, लक्षण और उपचार के तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं। चलिए जानते हैं इस बारे में विस्तार से-

क्या कहती हैं एक्सपर्ट?

बैक्टीरिया इंफेक्शन की वजह से दांतों और मसूड़ों में फोड़ा हो सकता है। इसकी वजह से दांतों और मसूड़ों में मवाद जमा होने लगता है। डॉक्टर बताती हैं कि बैक्टीरिया आपके प्लाक में जमा होकर, भोजन और मुंह के लार के जरिए पूरे मुंह में पहुंचता है। अगर आप नियमित ब्रश के जरिए इसकी सफाई नहीं करते हैं, तो यही बैक्टीरिया पस बनाना शुरू कर देता है। इसके कारण आपको दांतों फोड़ा हो सकता है। इसकी वजह से कई बार आपके कान और गर्दनों में दर्द होने लगता है। अगर समय पर इस समस्या का इलाज न कराया जाए, तो आपकी समस्या बढ़ सकती है।

दांतों में फोड़ा (Dental Abscess) के प्रकार

मसूड़ों और दातों में अलग-अलग हिस्सों में डेंटल एब्सेस होता है। इन हिस्सों के आधार पर इसकी अलग-अलग कटैगरी बांटी गई है। चलिए जानते हैं दांतों में फोड़ा के कुछ सामान्य प्रकार-

  • जिंजिवल एब्सेस मसूड़ों पर होता है।
  • पेरियापिकल एब्सेस दांत की जड़ों के ऊपरी हिस्से पर होता है। 
  • पेरियोडोन्टल एब्सेस दांत की जड़ों के आगे मसूड़ों में होता है। साथ ही यह दांतों की हड्डियों तक धीरे-धीरे फैलने लगता है।

दांतों में फोड़े के कारण (Dental Abscess Causes)

हमारे दांत बाहर से काफी ज्यादा सख्त नजर आते हैं। लेकिन आपको बता दें कि यह पल्प है, जो नर्वस से तैयार हुए होते हैं। इसके साथ ही यह कई टिश्यू और ब्लड वेसल्स से कनेक्टिंग होते हैं। दांतों के अंदर कई बार संक्रमण फैलने लगता है। इसके कारण आपको दांतों में फोड़ा हो सकता है। चलिए जानते हैं इसके कुछ सामान्य कारण-

  • मसूड़ों की बीमारी पेरियोडॉन्टल डिसीज की वजह से आपके दांतों में फोड़ा हो सकता है। 
  • दांतों में सड़न या कैविटी के कारण आपको डेंटल एब्सेस हो सकता है।
  • दांतों में क्रैक होने के कारण भी कुछ लोगों को दांतों के अंदर फोड़ा हो सकता है।

अगर आप इन समस्याओं का सही समय पर इलाज नहीं करवाते हैं, तो यह दांतों के पल्प को खत्म करके फोड़े का रूप धारण कर सकते हैं। डॉक्टर बताती हैं कि आपको एक साथ कई फोड़े दांत में हो सकते है। साथ ही यह हड्डियों के जरिए कई जगहों पर फैल सकता है।

दांतों में फोड़ा का लक्षण (Dental Abscess Symptoms)

  • लगातार दांतों में दर्द
  • मसूड़ों में दर्द
  • चेहरे या गाल पर सूजन होना।
  • गर्दन और कान में दर्द
  • मुंह से बदबू आना
  • बीमार महसूस करना
  • ठंडी और गर्म चीजों से सेंसिटिविटी
  • चबाने और काटने से सेंसिटिविटी होना
  • कुछ लोगों को इसकी वजह से बुखार हो सकता है।
  • गर्दन या जबड़े के लिम्फ नोड्स में सूजन
  • सांस लेने में परेशानी
  • इन्सोमेनिया
  • निगलने में परेशानी
  • दांतों को छूने पर दर्द
  • मुंह खोलने में परेशानी होना।

दांतों में फोड़ा होने पर आपको अचानक से दर्द शुरू हो सकते हैं। यह समस्या कुछ ही दिनों में गंभीर हो सकते हैं। इसलिए अगर आपको इसके लक्षण दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

दांतों के फोड़े (Dental Abscess) का निदान

दांतों में फोड़े के लक्षण दिखने पर तुरंत डेंटिस्ट से संपर्क करें। डॉक्टर के पास जाने पर डॉक्टर आपके दांतों और उसके आसपास के कुछ हिस्सों की जांच करेंगे। डेंटिस जांच के दौरान दांतों पर टैप करता है, क्योंकि अधिकतर लोगों को दांतों का फोड़ा होने पर छूने या प्रेशर देने पर दांतों में तेज दर्द या फिर सेंसिटिव महसूस होती है। अगर डॉक्टर को किसी तरह का संदेह महसूस होगा, तो वह आपको एक्स-रे करवाने की सलाह दे सकते हैं। दांतों में संक्रमण कितना फैला है, इसकी जांच के लिए सीटी स्कैन करने की भी सलाह दे सकते हैं। 

दांतों में फोड़ा का उपचार (Dental Abscess Treatment)

दांतों में फोड़ा होने पर आपको निम्न उपचार दिया जा सकता है। 

फोड़े से पस निकालना - दांतो में फोड़ा पस की वजह से होता है। इसलिए शुरुआत में डॉक्टर दांतों से पस निकालकर आपका इलाज कर सकता है।

दांत निकालना- अगर आपके दांत ज्यादा खराब हो गए हैं, तो इस स्थिति में डॉक्टर आपके दांत निकाल सकता है। 

रुट कैनल- इसमें ड्रिलिंग की मदद से दांतों के फोड़े में जमा पस को निकाला जाता है। साथ ही अगर कोई पल्प संक्रमित  हुआ है, तो उसे बाहर निकाल दिया जाता है। ड्रिंलिंग के बाद डॉक्टर पल्प चैंबर को भरकर उसे सील करता है। 

अगर इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण आपको यह समस्या हुई है, तो  डॉक्टर आपको ओरल एंटीबायोटिक्स  दे सकता है। 

इसे भी पढ़ें - बिलनी (गुहेरी) के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

दांतों में फोड़ा का बचाव (Dental Abscess Prevention)

अगर आप दांतों में फोड़े की समस्या से बचना चाहते हैं, तो अपने दांतों को कैविटी से बचाएं। इसके लिए आपको दांतों की सही देखभाल की आवश्यकता है।-

  • फ्लोराइट टूथपेस्ट से दिन में दो बार दांतों की करें ब्रश
  • फ्लोराइड ड्रिंकिंग वॉटर का करें इस्तेमाल 
  • दांतों के बीच में मौजूद गैप को साफ करने के लिए रोजाना फ्लॉस करें।
  • हर महीने अपना टूथब्रश जरूर बदलें। 
  • ज्यादा ठंडी चीजें न खाएं।
  • हेल्दी फूड का चुनाव करें।
  • अधिक मीठा खाने से बचें। 
  • नियमित रूप से दांतों की चेकअप कराएं।

दांतों के फोड़े का लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for Dental Abscess )

  • अगर आपके दांतों में फोड़ा है, तो अधिक गर्म-ठंडा और मीठा खाने से बचें। 
  • दांतों के जिस साइड में फोड़ा है, उस साइड से कुछ भी न चबाएं। इससे दांतों पर दबाव कम पड़ेगा और दर्द कम होगा।
  • फोड़े से प्रभावित दांत की ओर फ्लॉस न करें।
  • ब्रश हमेशा सॉफ्ट ब्रिसल्स वाले टूथब्रश से ही करें। 

ध्यान रखें कि अगर आपको दांतों से जुड़ी कोई भी परेशानी हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। दांतों की समस्या को नजरअंदाज करने से आपकी समस्या काफी गंभीर हो सकती है।

Image Credit - Pixabay

Read More Articles on Other-diseases in Hindi

Disclaimer