क्यों होते हैं बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे? जानें इसे हटाने के तरीके

बच्चों के आंखों के नीचे काले घेरे हो जाना कोई आम समस्या नहीं है इसके पीछे कुछ गंभीर कारण भी हो सकते हैं। जानते हैं कैसे करें बचाव

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jul 19, 2021Updated at: Jul 19, 2021
क्यों होते हैं बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे? जानें इसे हटाने के तरीके

जब छोटे बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे हो जाते हैं तो उसके पीछे कई कारण छिपे हो सकते हैं। यह कारण कुछ आम होते हैं तो कुछ गंभीर। ऐसे में सबसे पहले इनके कारणों के बारे में जानना जरूरी है। कुछ रिसर्च ये भी बताती हैं कि बच्चों में डार्क सर्कल्स की समस्या एलर्जिक राइनाइटिस के कारण भी हो सकती है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि छोटे बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे क्यों होते हैं। साथ ही इससे बचाव और बच्चों की आंखों के नीचे के घरेलू उपाय के बारे में बताएंगे। पढ़ते हैं आगे....

बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे क्यों होते हैं? 

बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे कई कारणों से होते हैं-

1 - जब बच्चों में एनीमिया हो जाता है यानी शरीर में खून की कमी हो जाती है तब भी बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे हो सकते हैं।

2 - जब कभी बच्चे भरपूर नींद नहीं ले पाते यानी नींद की कमी हो जाती है या अनिद्रा के कारण भी बच्चों की आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स दिखने लगते हैं।

3 - कभी-कभी बच्चों में यह समस्या निर्जलीकरण (हाइड्रेशन की समस्या) के कारण हो जाती है। जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो चेहरे का रंग पीला पड़ने लगता है। और स्किन हमारी स्किन भी रूखी होने लगती है, जिसके कारण आंखों के नीचे डार्क सर्कल हो जाते हैं।

4 - यदि किसी परिवार के लोगों में डाक सर्कल की समस्या हो जाए तो बच्चे ने भी समस्या देखी जा सकती है।

5 - जब आंखों के आसपास चोट लग जाती है तब भी काले घेरे हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- बच्चों की इन 8 बुरी आदतों को दूर करने के लिए पैरेंट्स अपनाएं ये आसान टिप्स

बच्चों का काले घेरे से कैसे करें बचाव-

1 - माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों का समय-समय पर मेडिकल ट्रीटमेंट करवाएं। साथ ही आंखों की जांच करवाने की भी जरूरी है।

2 - बच्चों के आहार में उन चीजों को जोड़ें, जिससे बच्चों के शरीर में एनीमिया की कमी को पूरा किया जा सके। जैसे- आयरन से भरपूर पोषक तत्व बच्चों की इस कमी को पूर्ण कर सकते हैं।

3 - ध्यान रखें कि बच्चे कम से कम 8 से 9 घंटे की नींद जरूरी लें।

4 - अगर बच्चों के डाक सर्कल ठीक नहीं हो रहे हैं तो इसके लिए आए किसी रोग विशेषज्ञ से भी सलाह ले सकते हैं।

5 - बच्चों को सूरज की तेज किरणों से बचाएं, जिससे वे हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्या से दूर रहें और उनके नीचे काले घेरे ना आएं।

इसे भी पढ़ें- बच्चों के लिए टेबल मैनर्स: बच्चों को शुरू से सिखाएं खाने-पीने से जुड़ी ये 10 अच्छी आदतें, लोग करेंगे तारीफ

बच्चों के काले घेरों को ठीक करने के घरेलू उपाय

1 - खीरे के माध्यम से

किले के अंदर भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं जो न केवल शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या को दूर करते हैं बल्कि त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी उपयोगी हैं इससे अलग अगर आप जिले के छोटे-छोटे टुकड़ों को बच्चों की आंखों पर रखें ऐसा करने से समस्या दूर हो जाती है।

2 - आलू के माध्यम से

आलू का रस भी डाक सर्कल को दूर करने में बेहद उपयोगी है बता दें कि कभी-कभी यह समस्या हाइपरपिगमेंटेशन के कारण होती है ऐसे में इसके अंदर पाए जाने वाले विटामिन सी काले घेरे को कम करने के साथ-साथ त्वचा की समस्या को दूर करें।

इसे भी पढ़ें- अपने बच्चे में इन 8 तरीकों से बढ़ाएं आत्मविश्वास

3 - गुलाब जल के माध्यम से

गुलाब जल के माध्यम से बच्चों के डॉक्टर पेट को कम किया जा सकता है इसके लिए एक अध्ययन में सामने आया है जो मैं बताता है कि रोहित के माध्यम से आंखों के नीचे गुलाब जल लगाया जाए मददगार है।

4 - बदाम तेल के माध्यम से

बदाम का तेल भी सूर्य की हानिकारक किरणों से बचने का अधिकार है इससे संबंधित भी सामने आई है जो बताती है कि बदाम के तेल की कुछ बूंदों को प्रभावित जगह पर लगाएं और राक्षस की समस्या को दूर करें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि बच्चों के नीचे होने काले घेरों से बचाव के लिए माता-पिता को थोड़ी सी सतर्कता बरतने की जरूरत है। कभी-कभी इसके पीछे कुछ गंभीर कारण भी हो सकते हैं ऐसे में नियमित रूप से डॉक्टर से जांच करवाएं। इससे अलग ऊपर बताए गए कुछ घरेलू उपाय बच्चों की समस्या को दूर करने में बेहद उपयोगी हैं। लेकिन अगर आपके बच्चे को त्वचा संबंधित समस्या है तो ऊपर बताई गई चीजों को अपनी डाइट में जोड़ने के लिए एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें।  

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on parenting in hindi

Disclaimer