रोज काले चने खाना फायदेमंद है या इसके कुछ नुकसान भी हैं? डायटीशियन से जानें जरूरी बातें और 3 टेस्टी रेसिपीज

चने खाना आपके दिल के स्वास्थ्य लिए बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा इसके कई अन्य फायदे भी हैं, पर इसे ज्यादा खाना आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Dec 07, 2020Updated at: Dec 07, 2020
रोज काले चने खाना फायदेमंद है या इसके कुछ नुकसान भी हैं? डायटीशियन से जानें जरूरी बातें और 3 टेस्टी रेसिपीज

भारत के कई हिस्सों में लोग नाश्ते के रूप में भीगे चने (Kala Chana), अंकुरित चने और मूंग और चना-गुड़ आदि खाते हैं। माना जाता है कि रोज चना शरीर को एक बड़ी मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता है, जो कि आपको दिन भर एक्टिव रखने और स्वस्थ रहने में मदद करता है। पर क्या रोज चने खाना शरीर के लिए सच में इतना ही फायदेमंद है? इस सवाल का जवाब जानने और चने खाने के फायदे और नुकसानों को लेकर हमने न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद (Gagan Anand)से बात की, जो कि पिछले 14 सालों से वेट लॉस और थेराप्यूटिक डाइट (therapeutic diet) को लेकर काम कर रही हैं। न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद कहती हैं कि चने खाने का वैसे तो कुछ खास नुकसान नहीं है, पर इसका मतलब ये नहीं है कि आप इसे रोज खाएं।

insidebreakfastBlackChickpeas

न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद की मानें, तो चना हाई प्रोटीन से भरा हुआ खाद्य पदार्थ है, जिसमें अमीनो एसिड की एक बड़ी मात्रा पाई जाती है। अमीनो एसिड हमारे अंगों, ग्रंथियों और धमनियों के कार्य पर एक गहरा प्रभाव डालता है। ये घावों के उपचार में तेजी लाता है और ऊतकों की मरम्मत करता है। विशेष रूप से मांसपेशियों, हड्डियों, त्वचा और बालों के साथ-साथ चयापचय के सिलसिले में उत्पन्न सभी प्रकार के अपशिष्ट जमाओं को हटाने में भी फायदेमंद है। पर फिर भी आपको अपनी डाइट में रोज एक तरीके का अमीनो एसिड नहीं लेना चाहिए और इसलिए आपको प्रोटीन के अलग-अलग सोर्स को डाइट में शामिल करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : चीनी में भी शुगर होता है और फलों में भी, फिर फल फायदेमंद क्यों होते हैं और चीनी क्यों है नुकसानदायक?

काले चने खाने के फायदे (Black Chickpea Benefits)

न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद की मानें, तो किसी को रोज एक कटोरे से अधिक चने का सेवन नहीं करना चाहिए। दरअसल, 1 कटोरी चने में लगभग 330 कैलोरी होती है, जो कि शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद है। साथ ही अगर चने के पोषक तत्वों को देखें, तो 

  • -चने में फैट की मात्रा बहुत कम होती है।
  • -चना हाई प्रोटीन और फाइबर से समृद्ध है, जिसे आप वर्कआउट के बाद खा सकते हैं।
  • -चने में कार्ब्स की मात्रा भी अधिक होती है, जो कि वजन बढ़ाने में भी मदद कर सकती है।

1.डायबिटीज में फायदेमंद

काले चने में घुलनशील फाइबर ब्लड शुगर के अवशोषण को तेज करता है और  इसे हेल्दी तरीके से नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा चना लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला भी है, जिसका अर्थ है कि उनमें कार्बोहाइड्रेट टूट गया है और धीरे-धीरे पच जाता है। यह भूख को नियंत्रित करके वजन घटाने में सहायक होता है। लो जीआई के कारण ब्लड शुगर में भी मामूली वृद्धि होती है और धीरे-धीरे निम्न रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। इस तरह से काले चने कार्बोहाइड्रेट धीरे-धीरे पचता है, जो कि ब्लड शुगर के स्तर को कम करता है। यह इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान देता है, जिससे टाइप -2 मधुमेह होने का खतरा कम हो जाता है।

2.हाई कोलेस्टॉल को कम करता है

काले चने में घुलनशील फाइबर होता है, जो कि बाइल एसिड्स को बांधते हैं और उन्हें शरीर द्वारा अवशोषित होने से रोकते हैं, जिससे कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है। लगभग रोज एक कटोरी चने को खाने से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और कुल कोलेस्ट्रॉल ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने में मदद करती है।

3.प्रोटीन और आयरन से भरपूर

आयरन का एक समृद्ध स्रोत होने के नाते, काले चने एनीमिया को रोक सकते हैं और आपकी ऊर्जा के स्तर को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा ये प्रोटीन से भी भरपूर हैं, जिसे लोग पोस्ट वर्कआउट डाइट में शामिल किया जा सकता है। ये आपके मांसपेशियों को मजबूत बनाता है और आपके पेट को लंबे समय तक भरा रखने में मदद करता है, जिससे वेट लॉस के प्रोसेस को तेज करने में मदद मिलती है।

insidestomachhealth

4.पाचन को सही रखता है

फाइबर पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है और नियमितता को बढ़ावा देता है। साथ ही चने में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। फाइबर पेट के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। ये पेट को कब्ज की परेशानी से बचाता है और इसके पाचन संबंधी समस्याओं को कम करता है।

इसे भी पढ़ें : ग्रीन कॉफी बींस हैं वजन कम करने में सहायक, एक्सपर्ट से जानें कॉफी डाइट के बारे में सब कुछ

कब और कैसे खाएं काले चने (Uses Of Black Chickpeas)

1.नाश्ते में अंकुरित चना

अंकुरित चना कब्ज के लिए है रामबाण इलाज है। साथ ही डायबिटीज के मरीजों के लिए भी इसे खाना फायदेमंद है।  इसलिए रोज रात में 1 कटोरी काले चने भीगो कर सोएं। फिर सुबह उठकर उसे धो लें और नमक और नींबू मिला कर खाएं। 

insidesproutedchana

2.लंच में चने का सलाद

लंच में चना खाना सच में एक बहुत ही हेल्दी विकल्प हो सकता है। दरअसल, चने को विभिन्न प्रकार की सब्जियों के साथ मिला कर कच्चे सलाद के रूप में खाना शरीर को ताकत के साथ अच्छी मात्रा में पोषण प्रदान करता है। इसके लिए  रात भर चने को भीगो कर रखें फिर सुबह उसे धो कर एक सीटी लगा लें। फिर लंच के दौरान इस उबले चने में ब्रोकली, चमाटर और प्याज आदि को काटकर मिला लें और फिर मसाला डाल कर इसे एक टेस्टी नाश्ते के रूप में तैयार कर लें। 

3.स्नैक्स के रूप में भूने चने

भूने चने को खा कर आप अपनी भूख और क्रेविंग को कंट्रोल कर सकते हैं। इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना बस अपने साथ कुछ भूने हुए चने रखने हैं। अब जब भी आपको कुछ खाने का मन हो तो थोड़ा सा भूना चना खाएं और पानी पी लें।

न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद कहती हैं कि आप चने को रात में भी खा सकते हैं पर ध्यान रहे कि आपको इसे सोने से  2 घंटे पहले ही खाना चाहिए। साथ ही चने के सवन के सबसे हेल्दी तरीके के बारे में बात करें, तो वो चने का सत्तू पीना है। दरअसल, चने के सत्तू में एक अच्छी मात्रा में रफेज भी होता है, जो कि पाचन ठीक रखता है और गैस और कब्ज की परेशानी से भी बचाता है।

काले चने खाने के नुकसान  (Kala chana side effects) 

न्यूट्रिशनिस्ट गगन आनंद कहती हैं कि कोशिश करें, रोज चना बिलकुल भी न खाएं। अपने डाइट में हर दिन नई चीजों को जोड़े और उनके पोषण को प्राप्त करें। साथ ही चने को रोज अधिक मात्रा में खाने से आपको पेट संबंधी परेशानी हो सकती है।  दरअसल, पके हुए चने में भी कई बार जटिल शुगर होती है जो आंतों की गैस और अपच की परेशानी पैदा कर सकती है। इसके अलावा इसका फाइबर आंत्र सिंड्रोम या IBS के लक्षण बदतर बना सकते हैं।

तो, अपनी डाइट में चने को शामिल करें पर रोज नहीं। भले ही इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक है पर इस प्रोटीन को पाने के लिए आप दूसरे प्रोटीन से भरपूर अन्य खाद्य पदार्थों को खाएं। अपनी डाइट में रोज एक नया बदलाव करें और हेल्दी रहें।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer