पेट नहीं दिमाग से होता है भूख का अहसास

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 14, 2013
Quick Bites

भूख लगने का अहसास पेट से नहीं बल्कि दिमाग से होता है, यह बात यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के मशहूर मनोविज्ञान प्रोफेसर जेफरे ब्रून्सटॉर्म ने अपने एक अध्‍ययन में कही है।

  • पाचन क्रिया पर हमारी अल्पकालिक याद्दाश्त का गहरा असर पड़ता है।
  • कोई व्‍यक्ति भूख के समय पर जो खाना खाता है, उसके मुकाबले उसने जो देखा है वह उसे ज्‍यादा याद रहता है।
  • हाल ही में खाये गये भोजन की स्मृति का हमारी आदतों पर जबरदस्त प्रभाव होता है।  
  • समय की अनिश्चितता का असर हमारे पिछले खाने की याद्दाश्त पर पड़ने के कारण पाचन शक्ति भी प्रभावित होती है।

विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजन

तेज भूख लगने पर हमें खाने की चीजें ही दिखाई देती हैं। हाल ही में किए गए एक अध्‍ययन के बाद यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के मशहूर मनोविज्ञान प्रोफेसर जेफरे ब्रून्सटॉर्म ने यह निष्‍कर्ष निकाला है कि भूख का अहसास दिमाग को होता है।

 

एक साप्‍ताहिक पत्रिका में छपे अध्ययन के मुताबिक पाचन पर हमारी अल्पकालिक याद्दाश्त का गहरा असर पड़ता है। विशेषज्ञों का कहना है कि खाने के कुछ घंटों बाद लोग अपनी भूख का स्तर भोजन के अनुपात में याद नहीं रख पाते। इसके उलट उन्हें सामने रखे गए खाने की याद ज्यादा रहती है। यानी कोई व्‍यक्ति भूख के समय पर जो खाना खाता है, उसके मुकाबले उसने जो देखा है वह उसे ज्‍यादा याद रहता है।

 

जानकारों के मुताबिक भोजन करने का समय निश्‍चित होना चाहिए क्योंकि खाने के समय की अनिश्चितता का असर हमारे पिछले खाने की याद्दाश्त पर पड़ता है। इससे हमारी पाचन शक्ति भी प्रभावित होती है। ब्रून्सटॉर्म ने कहा कि भूख को खाद्य पदार्थ द्वारा शारीरिक विशेषताओं के आधार पर काबू में नहीं किया जा सकता। हमें भोजन की याददाश्त की निजी भूमिका को पहचानना होगा।

 

ब्रून्सटॉर्म का यह भी कहना है कि जैसा हम सोचते हैं, भूख और खाने का तालमेल उससे कहीं ज्यादा उलझा हुआ होता है। पूर्व में किए गए अध्ययनों से इस तरह के परिणाम भी सामने आए हैं कि कई बार खाने के प्रति हमारी धारणा शरीर में मौजूद खाने द्वारा होती हैं। अलग-अलग समय में समान कैलोरी वाले खाने के भूख संबंधी हार्मोन्स की प्रक्रिया अलग होती है। कई बार यह एकदम अलग होती है।

 

ऐसा देखा गया कि जब लोगों को यह कहकर कोई विशेष पेय दिया गया कि उसमें जबरदस्त कैलोरी है, तो उन्होंने पेट बहुत भरा हुआ महसूस किया, जबकि असल में वह लो-कैलोरी पेय था। अध्ययन के अनुसार हाल ही में खाये गये भोजन की स्मृति का हमारी आदतों पर जबरदस्त प्रभाव होता है। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि आप जो कुछ भी खाएं उसे कम से कम तीन सेकेंड तक नजदीक से देखें।



 

Read More Health News In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES3 Votes 1944 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK