मोटापा कम करने में आपके लिए फायदेमंद है तेज पत्ता, एक्सपर्ट से जानें इसके गुण और प्रयोग का तरीका

तेजपत्तियों का इस्तेमाल मसालों के रूप में किया जाता है। लेकिन यह सेहत के लिए भी बहुत ही गुणकारी साबित हो सकता है।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Dec 21, 2020Updated at: Dec 21, 2020
मोटापा कम करने में आपके लिए फायदेमंद है तेज पत्ता, एक्सपर्ट से जानें इसके गुण और प्रयोग का तरीका

भारतीय किचन में तेज पत्ता का इस्तेमाल मसालों के रूप में किया जाता है। वहीं, आयुर्वेद में भी इसका इस्तेमाल औषधीय रूप में किया जाता है। गैस से लेकर कैंसर जैसी बीमारियों से बचाव करने में आयुर्वेदिक दवाइयों में इसकी पत्तियों और तेल का इस्तेमाल किया जाता है। इसके साथ ही सिर में मौजूद डेंड्रफ को दूर करने के लिए भी तेजपत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि आयुर्वेद में तेज पत्तियों के तेल का इस्तेमाल औषधि को तैयार करने के लिए किया जाता है। जोड़ों और मांसपेशियों में होने वाले दर्द को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक तेल बनाने के लिए तेजपत्तों का भी इस्तेमाल होता है। 

डॉ. राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि तेज पत्तों में कई ऐसे गुण छिपे हैं, जो आपके सेहत के लिए लाभकारी साबित हो सकते हैं। तेज पत्तों में भरपूर रूप से फाइबर, प्रोटीन, मोनोससैचुरेटेड वसा (Monosaturated fat), विटामिन ए, विटामिन सी, ओमेगा-3 फैटी एसिड, रिबोफ्लाविन, थायमिन, नियासिन, विटामिन बी 6 और फोलेट जैसे तत्व भरपूर रूप से होते हैं, जो आपके लिए लाभकारी सिद्ध हो सकते हैं। इसमें मैग्‍नीशियम, आयरन, फास्फोरस, कैल्शियम, लौह, पोटेशियम और कई एंटी-ऑक्‍सीडेंट जैसे तत्व छिपे हैं, जो बीमारियों से लड़ने में आपकी मदद करते हैं। 

पाचन को ठीक करे तेजपत्ता (Tej Patta Benefits for digestion)

तेज पत्ते के इस्तेमाल से पाचन स्‍वास्‍थ्‍य को दुरुस्त किया जाता है। इसमें गैस्‍ट्रोइंटेस्‍टाइनल प्रणाली (gastrointestinal) को दुरुस्त करने का प्रभावी गुण है। स्वस्थ पाचन और गैस्‍ट्रोइंस्‍टाइनल सिस्टम हमारे शरीर में मूत्र वर्धक (diuretic) का कार्य करती है। इसके इस्तेमाल से शरीर में विषाक्‍ता पदार्थ को कम करने में मदद मिलती है। तेज पत्‍तों में कार्बनिक यौगिक पाया जाता है, जो पेट में होने वाली परेशानी, आंत्र सिंड्रोम (bowel syndrome), चिड़चिड़ या सेलियाक रोग के लक्षणों को कम करने में आपकी मदद करता है। 

तेज पत्ता में छिपा है डायबिटीज का इलाज (Bay leaf for Diabetes)

आयुर्वेद के अनुसार तेज पत्‍तों का उपयोग कर डायबिटीज का उपचार किया जा सकता है। क्‍योंकि यह रक्‍त ग्‍लूकोज, कोलेस्‍ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड (triglyceride) के स्‍तर को कम करने में मदद करते हैं। और अधिक लाभ प्राप्‍त करने के लिए आप इन पत्‍तों का पाउडर भी बना सकते हैं और 30 दिनों तक सेवन कर अपने शरीर में चीनी के स्‍तर को कम कर स‍कते हैं। इसका सेवन करने से आपके दिल की कार्य प्रणाली को नियंत्रित किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि तेज पत्‍ते में एंटीऑक्सिडेंट होते है जो शरीर के इंसुलिन को स्‍वस्‍थ्‍य बनाते हैं। इस प्रकार मधुमेह और इंसुलिन प्रतिरोध (insulin resistance) वाले लोगों के लिए तेज पत्‍ता एक अच्‍छा विकल्‍प होता है।

इसे भी पढ़ें - चीनी से कई गुणा मीठी होती है स्टीविया या मीठी तुलसी, एक्सपर्ट से जानिए इसके गुणकारी फायदे

तेज पत्ता में पाया जाता है एंटी कैंसर का गुण (Tej Patta Benefits for Anti-cancer properties) 

तेज पत्ते के इस्तेमाल से कैंसर के प्रभावों को दूर किया जाता है। इसमें एंटी-कैंसररोधी (Anti-cancer) गुण छिपे होते हैं। तेज पत्‍तों में कार्सेटिन, कैफीक एसिड, यूगानोल और कैचिन जैसे केमो- सुरक्षात्‍मक (chemo-protective) गुण राए जाते हैं, जो कई तरह के कैंसर से बचाव करने में आपकी मदद करते हैं। इसमें पार्टनोलॉइड नामक तत्व होता है, जो सर्वाइकल कैंसर की कोशिकाओं (cervical cancer cells) को बढ़ने से रोकने में आपकी मदद करते हैं। 

अल्सर के उपचार में सहायक है तेजपत्ता (Bay leaf for Healing Ulcer)

अल्‍सर रोगियों के लिए तेज पत्ता बहुत अच्छी दवा होती हैं। इसके लिए 15-20 तेज पत्‍तों को धों लें, और 15 मिनिट के लिए आधा लीटर पानी में उबालें। आप इसमें स्‍वादानुसार शक्‍कर को मिला सकते हैं। ठंडा होने के बाद इस मिश्रण को हर्बल चाय के रूप में सेवन करें। यह दर्द और अल्‍सर के उपचार में आपकी मदद करेगा।

इसे भी पढ़ें - ये 10 लक्षण बताते हैं कि 'कफ दोष' है आपकी खराब सेहत का कारण, आयुर्वेदाचार्य से जानें कफ दोष दूर करने वाले आहार 

दांतों के लिए है फायदेमंद (Bay leaf for Dental Care)

दांतों से जुड़ी कई परेशानियों को दूर करने में तेज पत्ता आपकी मदद कर सकता है। इसमें दांतों को साफ करने और मजबूत करने के गुण छिपे होते हैं। डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि तेज पत्ता का दांतों के लिए इस्तेमाल करने के लिए आप संतरे के छिलके का पाउडर लें। इसमें एक चुटकी करीब तेज पत्ते से तैयार पाउडर मिक्स करें। इस मिश्रण से टूथपेस्ट की तरह अपने दांतों को साफ करें। इससे आपके दांत स्वस्थ और चमकदार होंगे। 

वजन कम करे तेजपत्ता (Bay leaf for loss Weight)

तेज पत्तों का इस्तेमाल आप वजन को कम करने के लिए कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल आप दालचीनी के साथ भी कर सकते हैं। तेज पत्ता और दालचीनी का पानी मोटापे को कंट्रोल करने में सहायक होता है। इसके सेवन से शरीर में मौजूद  अतिरिक्त वसा दूर होता है। इसे आप साधारण चाय बनाने के समय भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें - नाभि में नारियल तेल लगाने से सर्दियों की समस्या से मिलेगी राहत, जानिए इसके और भी फायदे

मासिक धर्म में फायदेमंद है तेजपत्ता (Bay leaf for Menstrual problems)

गर्म मसालों के रूप में भारतीय घरों में तेज पत्ते का इस्तेमाल होता है। नियमित रूप से अगर आप तेज पत्ते का सेवन करते हैं, तो मासिक धर्म में होने वाली परेशानियां दूर रहेंगे। तेज पत्‍ते में वजाइनल डिस्चार्ज (vaginal discharge) का इलाज करने का गुण छिपा होता है। 

स्ट्रेस को दूर करे तेजपत्ता (Bay leaf reduces Stress)

तेज पत्तों का इस्तेमाल आप मन को शांत करने के लिए कर सकते हैं। इसमें लिनलूल (linalool) नामक तत्व होता है, जो अधिकतर तुलसी में पाया जाता है। यह तत्व स्ट्रेस लेवल को कम करने में गुणकारी माना जाता है। 

किडनी के लिए है तेजपत्ता (Tej Patta Benefits for Kidney problems)

तेजपत्ते के इस्तेमाल से आप किडनी की समस्या को दूर कर सकते हैं। तेज पत्ते से तैयार चाय किडनी की समस्या और किडनी की पथरी को दूर करने में सहायक होता है। चाय तैयार करने के लिए 200 मिली पानी लेंम। इसमें 5 ग्राम तेज पत्‍ता डालकर अच्छी तरह उबालें। पानी 50 ग्राम रह जाने तक उबालें। इसके बाद इस काढ़े को छान लें और पिएं। दिन में दो बार इस काढ़े के सेवन से किडनी में पथरी (Kidney Stone) की समस्या दूर हो जाएगी। 

बालों के लिए गुणकारी है तेजपत्ता (Bay leaf benefits for Hair)

झड़ते बालों की समस्या को दूर करने में तेजपत्ता मददगार साबित हो सकता है। बालों को शैंपू से धोने के बाद तेजपत्तों के पानी से बालों को साफ करें। पानी तैयार करने के लिए 1 लीटर पानी लें। इसमें रात के समय कुछ पत्तियां डालकर रातभर के लिए छोड़ दें। अब इस पानी से अपने बालों को धोएं। 

 

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

 

Disclaimer