Doctor Verified

सिर चकराना और चीजें घूमती नजर आना हो सकता है बैलेंस डिसऑर्डर, जानें इसके कारण और बचाव

Balance Disorder in Hindi: अचानक चक्कर आना या आसपास की चीजें धुंधली दिखने लगना बैलेंस डिसऑर्डर का लक्षण होता है, जानें इसके कारण और बचाव।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Aug 04, 2022Updated at: Aug 04, 2022
सिर चकराना और चीजें घूमती नजर आना हो सकता है बैलेंस डिसऑर्डर, जानें इसके कारण और बचाव

Balance Disorder in Hindi: शरीर का संतुलन बिगड़ने पर आपको कई बार ऐसा लग सकता है कि आपके आसपास सारी चीजें घूम रही हैं। कई बार झूला झूलते हुए या झूले से उतरने के बाद आपको लगा होगा कि आपके आसपास सारी चीजें घूम रही हैं। कुछ लोगों को यह समस्या सीढियां चढ़ते हुए या दौड़ते समय महसूस होती है। आम बोलचाल की भाषा में लोग इसे चक्कर आना या शरीर का संतुलन बिगड़ना कहते हैं। कभी-कभार चक्कर आना या आसपास की चीजें घूमते दिखना शरीर में कमजोरी या बीमारी की वजह से हो सकता है, लेकिन लगातार इस स्थिति का अनुभव करना सामान्य नहीं होता है। अगर आपको भी आसपास की चीजें घूमती नजर आती हैं या चक्कर आने के साथ चीजें धुंधली दिखनी शुरू हो जाती हैं, तो यह बैलेंस डिसऑर्डर का लक्षण हो सकता है। आइए विस्तार से जानते हैं बैलेंस डिसऑर्डर क्या है? इस समस्या से छुटकारा कैसे पाएं?

बैलेंस डिसऑर्डर क्या है?- What is Balance Disorder in Hindi

बैलेंस डिसऑर्डर ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति को अचानक चक्कर आना या आसपास की चीजें घूमती नजर आने लगती हैं। ऐसे में इंसान को खड़े होने पर लगता है कि उसका संतुलन बिगड़ रहा है। यह स्थिति कई लोगों में बैठे-बैठे भी हो सकती है। दरअसल शरीर का संतुलन वेस्टिब्यूलर सिस्टम मेन्टेन करता है। इस तंत्र में किसी भी तरह की परेशानी या समस्या होने पर शरीर का बैलेंस बिगड़ने लगता है। फरीदाबाद के ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ अनिल अरोड़ा के मुताबिक बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या ज्यादातर बुजुर्ग लोगों में देखने को मिलती है। लेकिन कुछ कारणों से यह समस्या कम उम्र के लोगों में भी देखने को मिल सकती है। बैलेंस डिसऑर्डर की वजह से मरीज का मानसिक संतुलन भी बिगड़ सकता है।

Balance Disorder in Hindi

इसे भी पढ़ें: किसी व्यक्ति को चक्कर आने के पीछे छिपे होते हैं ये कारण, जानें इसके बचाव

बैलेंस डिसऑर्डर के कारण- Causes Of Balance Disorder in Hindi

बड़े और बुजुर्ग लोगों में बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या बढ़ती उम्र के साथ शरीर में होने वाले बदलाव या बीमारी की वजह से हो सकती है। इसके अलावा सिर में चोट लगने से, दिमाग से जुड़ी किसी समस्या के कारण या शरीर का ब्लड सर्कुलेशन बिगड़ने के कारण भी बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या हो सकती है। बैलेंस डिसऑर्डर के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं-

1. स्ट्रोक, चक्कर आने की समस्या या तंत्रिका तंत्र में खराबी के कारण बैलेंस डिसऑर्डर हो सकता है।

2. कान में संक्रमण होने की वजह से वेस्टिबुलर सिस्टम प्रभावित होता है और इसकी वजह से बैलेंस डिसऑर्डर की स्थिति बन सकती है।

3. कुछ दवाओं के सेवन की वजह से भी आपको बैलेंस डिसऑर्डर हो सकता है।

4. मस्तिष्क में चोट या किसी बीमारी की वजह से बैलेंस डिसऑर्डर की स्थिति बन सकती है।

5. लंबे समय तक माइग्रेन की समस्या से ग्रसित व्यक्ति में बैलेंस डिसऑर्डर का खतरा रहता है।

6. मोशन सिकनेस की वजह से भी आपको बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या हो सकती है।

बैलेंस डिसऑर्डर के लक्षण- Symptoms of Balance Disorder in Hindi

बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या में व्यक्ति को खड़े होने या बैठे रहने पर अचानक चक्कर आना या आसपास की चीजें घूमती नजर आने लगती हैं। इसकी वजह से व्यक्ति का संतुलन बिगड़ जाता है और कई परेशानियां हो सकती हैं। बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या में दिखने वाले कुछ प्रमुख लक्षण इस तरह से हैं-

  • बेहोशी या चक्कर आना
  • आसपास की चीजें घूमती नजर आना
  • अचानक खड़े-खड़े गिर जाना
  • कान में सनसनी सी होना
  • चीजें धुंधली दिखना
  • डिप्रेशन और चिंता
  • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी
  • हार्टबीट और ब्लड प्रेशर का असंतुलित होना

बैलेंस डिसऑर्डर से कैसे करें बचाव?- How To Prevent Balance Disorder?

बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या का शिकार होने से बचने के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा शारीरिक एक्टिविटी जैसे व्यायाम या रनिंग करने से आपका शरीर फिट रहता है और मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होता है, इससे आप बैलेंस डिसऑर्डर का शिकार होने से बच सकते हैं। कान में संक्रमण होने पर सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करें और कान में किसी भी तरह की समस्या को नजरअंदाज न करें। सिर में चोट लगने पर भी सबसे पहले डॉक्टर की सलाह लें और सही इलाज कराएं।

इसे भी पढ़ें: Vertigo: वर्टिगो (चक्कर आने) का कारण क्या है? जानें इसके लक्षण, इलाज और बचाव के उपाय

बैलेंस डिसऑर्डर के लक्षण दिखने पर आपको सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसके कारणों को दूर कर आप बैलेंस डिसऑर्डर का शिकार होने से बच सकते हैं। हेल्दी और बैलेंस डाइट का सेवन और नियमित व्यायाम इस समस्या को दूर करने में उपयोगी है।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer