घुटनों में दर्द, जकड़न और सूजन का कारण हो सकता है 'बेकर्स सिस्ट', डॉक्टर से जानें इस बीमारी का कारण और इलाज

घुटनों के पिछले हिस्से में गांठ और सूजन के साथ लगातार होने वाला दर्द बेकर्स सिस्ट का संकेत हो सकता है। डॉक्टर बता रहे हैं इस समस्या का इलाज।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Dec 29, 2020Updated at: Dec 29, 2020
घुटनों में दर्द, जकड़न और सूजन का कारण हो सकता है 'बेकर्स सिस्ट', डॉक्टर से जानें इस बीमारी का कारण और इलाज

घुटनों का दर्द 40 पार महिलाओं और 50 पार पुरुषों में एक आम समस्या बनती जा रही है। इस तरह के दर्द के कई कारण हो सकते हैं। ज्यादातर मामलों में मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी आदि के कारण घुटने कमजोर होते हैं। इसके अलावा बहुत सारे लोग गठिया, अर्थराइटिस जैसी समस्याओं के कारण भी घुटनों के दर्द से परेशान रहते हैं। कई बार देखा जाता है कि व्यक्ति के घुटने के पिछले हिस्से में एक गांठ जैसी उभर आती है, जिसके कारण उसे घुटनों में तकलीफ होती है। इस समस्या को मेडिकल भाषा में 'बेकर्स सिस्ट' कहा जाता है। इस बीमारी के बारे में हमने बात की वैशाली के सेंटर फॉर नी एंड हिप केयर के वरिष्ठ प्रत्यारोपण सर्जन, जॉइंट रिप्लेसमेंट डॉक्टर अखिलेश यादव से। आइए उन्हीं से जानते हैं क्या है बेकर्स सिस्ट की समस्या।

knee pain causes in hindi

क्या है बेकर्स सिस्ट? (What is Baker's cyst)

डॉ. अखिलेश बताते हैं, "बेकर्स सिस्ट द्रव से भरी एक नरम गांठ होती है जो घुटनों के पीछे की ओर विकसित हो जा जाती है। इसे पोप्लिटीयल सिस्ट (popliteal cyst) के नाम से भी जाना जाता है। लोग आम भाषा में इसे घुटनों में गांठ के रूप में ही पहचानते हैं। ये गांठ आने से व्यक्ति को बहुत दर्द होता है। इस दर्दनाक गांठ के आसपास सूजन आ जाती है, जिसके कारण घुटने को मोड़ना मुश्किल हो जाता है। गांठ के कारण घुटनों में जकड़न और दर्द की शिकायत होती है। यदि यह गांठ घुटने के अंदर ही फट जाए तो घुटना लाल पड़ जाता है और दर्द पिंडली तक पहुंच जाता है। यह गांठ ज्यादातर उन महिलाओं को होती है, जो 40 की उम्र पार कर चुकी हैं।

इसे भी पढ़ें: यूरिक एसिड बढ़ने से घुटनों और जोड़ों में दर्द की होती है समस्या, ये 5 आदतें बदलने से कम हो सकती है परेशानी

बेकर्स सिस्ट का कारण? (Causes of Baker's cyst)

जब घुटने में चोट के कारण आसपास की संरचना क्षतिग्रस्त जाती है तो वहां बहुत अधिक मात्रा में तरल या द्रव बनने लगता है। यह द्रव गांठ का रूप ले लेता है जिसमें व्यक्ति को दर्द का अनुभव होता है। इसके अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे कि गठिया, कार्टिलेज में चोट आदि। हालांकि, यह कोई बड़ा रोग नहीं है लेकिन कुछ समय के लिए यह व्यक्ति को बहुत ज्यादा परेशान कर देता है।

baker's cyst causes and symptoms

बेकर्स सिस्ट के लक्षण (Symptoms of Baker's cyst)

  • गांठ के आसपास सूजन
  • घुटनों में जकड़न
  • घुटनों में दर्द
  • घुटने को मोड़ने में मुश्किल
  • कभी-कभी पूरे पैर में सूजन हो सकती है

बेकर्स सिस्ट की जांच कैसे होती है? (Diagnosis of Baker's cyst)

आपका डॉक्टर आपके घुटने को छूकर सूजन को महसूस करेगा। यदि गांठ छोटी है तो वह प्रभावित घुटने की स्वस्थ घुटने से तुलना करेगा, जहां वह दोनों घुटनों के मूवमेंट में फर्क को महसूस करेगा। यदि गांठ लगातार बड़ी हो रही है और गंभीर दर्द के साथ बुखार का कारण बन रही है तो डॉक्टर आपको नॉन-इनवेसिव इमेजिंग टेस्ट की सलाह देगा। इसमें एमआरआई या अल्ट्रासाउंड शामिल हैं। एमआरआई की मदद से डॉक्टर सिस्ट को अच्छे से देख पाता है, जिससे वह उचित इलाज बताने में समर्थ रहता है। हालांकि, एक्स-रे पर गांठ का पता लगना संभव नहीं है लेकिन डॉक्टर अन्य समस्याओं जैसे कि गठिया आदि की पहचान के लिए इसकी सलाह दे सकते हैं।

baker's cyst diagnosis and treatment

बेकर्स सिस्ट का इलाज (Treatment of Baker's cyst)

आमतौर पर इस गांठ का इलाज करने की जरूरत नहीं पड़ती है क्योंकि कुछ समय में यह खुद ही ठीक हो जाती है। लेकिन कई बार यह लगातार बढ़ती जाती है और मरीज को बहुत ज्यादा परेशान करने लगती है। ऐसे में इलाज करना जरूरी हो जाता है। हालांकि, इलाज के साथ इसमें राहत भी जल्दी मिल जाती है। आपकी गांठ और लक्षणों की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टर इलाज के निम्नलिखित विकल्पों की सलाह दे सकते हैं।

द्रव निकालना: डॉक्टर आपकी गांठ में इजेक्शन डालकर द्रव को बाहर निकालेगा। इस प्रक्रिया में कोई गड़बड़ी न हो और इंजेक्शन सही जगह पर लगाया गया है, यह सुनिश्चित करने के लिए वह अल्ट्रासाउंड की मदद ले सकता है। द्रव को बाहर निकालने पर गांठ सूखकर ठीक हो जाती है।

मेडिकेशन: डॉक्टर आपकी गांठ में दवा इंजेक्ट करेगा, जिसकी मदद से आपको दर्द में राहत मिल जाएगा। हालांकि, इसमें फिर से गांठ बनने की संभावना रहती है।
फिजिकल थेरेपी: आपका डॉक्टर आपको कुछ व्यायामों और थेरेपी की सलाह देगा। व्यायाम की मदद से गांठ में राहत के साथ-साथ जकड़न और दर्द में भी राहत मिलती है। व्यायाम घुटने को लचीला बनाते हैं जिससे आपको मूवमेंट में आसानी होगी।

बर्फ की सिकाई: आपका डॉक्टर गांठ को सुखाने के लिए बर्फ की सिकाई की सलाह भी दे सकता है।

इसे भी पढ़ें: घुटनों और जोड़ो के दर्द से राहत पाने के लिए घर में तैयार करें ये खास लेप, मिलेगी राहत

घुटनों में किसी भी प्रकार के दर्द, सूजन, अकड़न या गांठ को आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और समस्या होने पर डॉक्टर से मिलकर इसका इलाज कराना चाहिए। यदि सिस्ट का कारण कोई बीमारी है तो ऐसे में डॉक्टर आपको उस बीमारी के अनुसार इलाज बताएगा।

यह आर्टिकल डॉक्टर अखिलेश यादव, वरिष्ठ प्रत्यारोपण सर्जन, जॉइंट रिप्लेसमेंट, सेंटर फॉर नी एंड हिप केयर, वैशाली से बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer