Breast Cancer Awareness Month: इन 5 संकेतों को नजरअंदाज न करें शिशु को पहली बार स्‍तनपान कराने वाली महिलाएं

महिलाओं में स्तन कैंसर सबसे आम प्रकार का कैंसर है। भारत में हर चार मिनट में एक महिला को स्तन कैंसर का पता चलता है।

सम्‍पादकीय विभाग
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Oct 09, 2020Updated at: Oct 09, 2020
Breast Cancer Awareness Month: इन 5 संकेतों को नजरअंदाज न करें शिशु को पहली बार स्‍तनपान कराने वाली महिलाएं

मां बनना जिंदगी का एक ऐसा पड़ाव है जो अपने साथ जीवन को बदलने और बहुत सी भावनाओं की एक श्रृंखला लाता है। दूसरे मानव जीवन को जन्म देने का सौभाग्य मिलने के साथ थोड़ा कठिन भी होता है। ऐसे समय में एक महिला का शरीर बड़े परिवर्तन से गुजरता है और इनमें से बहुत सारे बदलावों को पहली बार में समझना मुश्किल है। एक नई मां होने के नाते आप रातों की नींद हराम और एक शिशु की देखभाल के बीच खुद को खो सकते हैं। जन्म देने के बाद एक नई जीवन शैली को अपनाने की हर दूसरी चुनौती के अलावा, स्तनपान अपने आप में एक संघर्ष बन सकता है। जबकि एक नवजात शिशु के साथ एक भावनात्मक बंधन को खिलाने और स्थापित करने की खुशी प्राणपोषक है, एक नई माँ को स्तनपान कराने के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है।

insideother

एक मां को अपने स्तन से जुड़े इन संकेतों और लक्षणों को अनदेखा नहीं करना चाहिए

भारतीय महिलाओं में स्तन कैंसर सबसे आम प्रकार का कैंसर है, जिसका 14 प्रतिशत महिला कैंसर रोगियों में होता है। स्तन कैंसर के आंकड़ों के हालिया अध्ययन के अनुसार भारत में हर चार मिनट में एक महिला को स्तन कैंसर का पता चलता है। स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तन कैंसर के निदान में देरी हो सकती है क्योंकि लक्षण नर्सिंग के कारणों के समान हैं।

मास्टाइटिस:

स्तनपान  कराने के दौरान होने वाली सबसे आम समस्या है स्तन की सूजन आना, जो कि स्तन ऊतक की सूजन है। यह समस्या मां के लिए आम हो सकती है जब वह स्तनपान के पहले तीन महीनों से गुजरती है। वहीं मास्टिटिस के प्रमुख लक्षण हैं- स्तन कोमलता, सूजन, दर्द और बुखार।

इनवेसिव डक्टल कार्सिनोमा (आईडीसी):

आईडीसी एक प्रकार का कैंसर है जो एक दूध वाहिनी में बढ़ने लगता है और वाहिनी के बाहर स्तन के रेशेदार ऊतक के माध्यम से आक्रमण करता है। आईडीसी स्तन कैंसर का सबसे आम रूप है, सभी स्तन कैंसर का 80% निदान करता है। आईडीसी के कुछ लक्षणों में शामिल हैं- आपके स्तन पर दाने या लालिमा, आपके स्तन में सूजन, आपके स्तन में दर्द। 

इसे भी पढ़ें: रेगुलर चेकअप के साथ आदतों में करें ये 5 बदलाव, कभी नहीं होगा कैंसर!

सतर्क रहें:

कोई भी आपके शरीर को आपसे बेहतर नहीं समझता है, इसलिए यह जरूरी है कि आप अपने शरीर में होने वाले हर छोटे से छोटे बदलाव पर ध्यान दें। किसी भी गांठ और धक्कों को स्थानांतरित नहीं किया जाना आपके शरीर द्वारा आपको दिए जा रहे संकेतों को समझना महत्वपूर्ण होता है।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ शराब और मोटापा ही नहीं, इन 8 वजहों से भी हो सकता है ब्रेस्‍ट कैंसर, जानें क्‍या हैं ये

insidenewlymother

असामान्य डिस्चार्ज को नज़रअंदाज़ न करें: 

वैसे तो स्तनपान कराने के दौरान दूधिया स्त्राव सामान्य है, लेकिन अधिक समय तक डिस्चार्ज होना एक अलार्म का संकेत हो सकता है। ऐसे मामलों में बिना किसी देरी के अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

स्तन की सूजन:

माँ बनने के पहले कुछ महीनों में दूध की अधिकता के कारण ऊँचे स्तन का भरा होना आम बात है। लेकिन एक बार जब शिशु ने भोजन की दिनचर्या विकसित कर ली, तो आपका शरीर केवल आवश्यकतानुसार दूध की आपूर्ति करता है। इसलिए सभी या स्तनों के किसी भी हिस्से की असामान्य सूजन पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में क्‍यों बढ़ रहा है ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा, डॉ. मीनू वालिया से जानें कारण और उपचार

अक्सर कई बार, महिलाएं नवजात शिशु की देखभाल करने में इतनी तल्लीन हो जाती हैं कि वह अपने शरीर को नजरअंदाज करना शुरू कर देतीं हैं, लेकिन उनमें से कुछ पर ध्यान दिया जाना चाहिए। स्तन गांठ एक ऐसा तत्व है, जिस पर तुरंत ध्यान देने की आवश्यकता है क्योंकि वे एक बड़ी समस्या का संकेत हो सकता है। 

Read More Article On Breast Cancer In Hindi

Disclaimer