World Cancer Day In Hindi: कैंसर होने का इंतजार करने से बेहतर है कि इसके रोकथाम के उपाय किए जाएं। इससे कैंसर आसानी से रोका जा सकता है। 

"/>

World Cancer Day 2020: रेगुलर चेकअप के साथ आदतों में करें ये 5 बदलाव, कभी नहीं होगा कैंसर!

World Cancer Day In Hindi: कैंसर होने का इंतजार करने से बेहतर है कि इसके रोकथाम के उपाय किए जाएं। इससे कैंसर आसानी से रोका जा सकता है। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jan 31, 2020Updated at: Feb 04, 2020
World Cancer Day 2020: रेगुलर चेकअप के साथ आदतों में करें ये 5 बदलाव, कभी नहीं होगा कैंसर!

World Cancer Day 2020: कैंसर, शरीर में असामान्‍य कोशिकाओं की वृद्धि है। डब्‍ल्‍यूएचओ के मुताबिक, फेफड़ों का कैंसर (Lung Cancer), स्‍तन कैंसर (Breast Cancer), पेट का कैंसर (Colon Cancer), प्रोस्‍टेट कैंसर (Prostate Cancer), मुंह का कैंसर (Oral Cancer), गर्भाशय ग्रीवा कैंसर (Cervical cancer) समेत कैंसर के 200 से अधिक प्रकार हैं, इनमें सबसे ज्‍यादा मौतों का कारण फेफड़ों का कैंसर रहा है। आंकड़ों के अनुसार, 2018 में दुनिया भर में अनुमानित 1.8 करोड़ कैंसर के मामले थे, इनमें से 95 लाख मामले पुरुषों में और 85 लाख महिलाओं में थे। 

दुनियाभर में कैंसर (Cancer In Hindi) से बढ़ते मौतों के कारणों को रोकने और लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए ही हर साल 4 फरवरी के दिन विश्‍व कैंसर दिवस (World Cancer Day) का आयोजन किया जाता है। यह कार्यक्रम अंतर्राष्‍ट्रीय कैंसर नियंत्रण संघ (Union for International Cancer Control) द्वारा आयोजित किया जाता है। य‍ह दिन, अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय के लिए एक मौका है, जिसके तहत लोगों को कैंसर के प्रति जागरूक किया जा सकता है। इस साल की थीम “I can, we can” है। 

cancer-in-hindi

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल गुरुग्राम के सीनियर ऑन्कोलॉजिस्ट, डॉक्‍टर एसपी भनोट कहते हैं, "कैंसर तब होता है जब कोशिकाओं का एक समूह अनियंत्रित रूप से एक ट्यूमर बनाने लगता है। ट्यूमर जो घातक होते हैं वे कैंसर का रूप ले लेते हैं, जो शरीर के अन्य भागों में मेटास्टेसिस कर सकते हैं। फेफड़े, होंठ, मुंह, गले और गर्दन के कैंसर पुरुषों में सबसे आम हैं जबकि स्तन, गर्भाशय और ओवेरियन कैंसर महिलाओं में आम हैं। 

उम्र के साथ होने वाले कैंसर या परिवार में अगर पहले किसी को कैंसर हो तो उसको नियंत्रित नहीं किया जा सकता है, लेकिन  जीवन शैली में बदलाव जैसे धूम्रपान, मोटापा, व्यायाम की कमी और खराब आहार इन सब में बदलाव से कैंसर को काबू किया जा सकता है। कैंसर का खतरा काफी अधिक है। कैंसर की अज्ञानता और इनकार इसके विलम्ब निदान का कारण बन सकता है, यही वजह है कि नियमित स्क्रीनिंग और बायोप्सी उन लोगों के लिए जरूरी है जिनके परिवार में पहले ये किसी को हो चूका हो। 

बाकी सभी के लिए, डॉक्टर के साथ परामर्श जरूरी है। यदि कैंसर का पता चला है तो प्रारंभिक चरण में, इसका इलाज किया जा सकता है और एक व्यक्ति स्वस्थ जीवन जी सकता है। यदि कैंसर का पता शुरुआती दौर में ही चल जाता है, तो इसका इलाज किया जा सकता है। उपचार में प्रगति और लक्षणों के बारे में जागरूकता से 85 प्रतिशत लोग 5 साल से अधिक जी सकते हैं।

कैंसर दिवस के मौके पर हम आपको इस लेख के माध्‍यम से कैंसर की रोकथाम के उपायों के बारे में बता रहे हैं।

कैंसर से रोकथाम के उपाय: How To Prevent Cancer In Hindi 

अक्‍सर कैंसर को लेकर आपने अलग-अलग तरह की रिपोर्टें पढ़ी और सुनी होंगी, जो कैंसर से बचाव के संबंध में एक दूसरे के विपरीत होंगी। मगर, सच्‍चाई यह है कि जीवनशैली में कुछ बदलाव कर आप खुद को कैंसर से दूर रख सकते हैं। यह आपके जीवन को सुरक्षित रखेगा। अमेरिकन कैंसर सोसायटी ने कुछ दिशा निर्देश दिए हैं, जो आपको कैंसर की रोकथाम में मदद कर सकते हैं।

1. तम्‍बाकू से दूर रहें

तम्‍बाकू और इससे बने उत्‍पादों जैसे- सिगरेट, बीड़ी, गुटका, हुक्‍का आदि को नजरअंदाज कभी न करें। तम्‍बाकू में मौजूद हानिकारक तत्‍व कैंसर कोशिकाओं को जन्‍म दे सकते हैं। लगातार तम्‍बाकू का सेवन मुंह के कैंसर के अलावा फेफड़ों के कैंसर का सबसे बड़ा कारण है। दुनियाभर में फेफड़ों के कैंसर से सबसे ज्‍यादा मौते होती हैं।

2. संयमित रूप से करें शराब का सेवन

शराब (Alcohol) का अत्‍यधिक सेवन आपकी किडनी और लिवर को डैमेज कर सकता है। यह कैंसर का कारण बन सकते हैं। एक्‍सपर्ट भी शराब का सेवन करने से मना करते हैं। अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार, यदि आपको शराब पीना ही है तो पुरुषों को 2 पैग और महिलाओं को 1 पैग से ज्‍यादा नहीं लेना चाहिए। 

3. वजन को नियंत्रित रखें और एक्टिव रहें

गतिहीन जीवनशैली कई गैर-संचारित रोगों का कारण बनते हैं। यह वजन बढ़ाने या मोटापे का प्रमुख कारण हो सकते हैं और मोटापा हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारियों का सबसे बड़ा कारण माना जाता है। सप्‍ताह में कम से कम 75 मिनट हैवी वर्कआउट या 150 मिनट सामान्‍य वर्कआउट जरूर करना चाहिए। यह आपको कैंसर से बचाते हैं।

cancer-in-hindi

4. स्‍वस्‍थ खानपान है जरूरी

स्‍वस्‍थ आहार से ही स्‍वस्‍थ शरीर का निर्माण होता है। अगर आप खुद को कैंसर जैसी बीमारियों से दूर रखना चाहते हैं तो अस्‍वस्‍थकर आहार (फास्‍ट फूड, तले भुने खाद्य पदार्थ, शराब, सॉफ्ट ड्रिंक्‍स, रेड और प्रोसेस्‍ड मीट आदि) से दूर रहें। अपने आहार में सीजनल फल और सब्जियों के साथ साबुत आनाज का सेवन कर बीमारियों से मुक्‍त रख सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ शराब और मोटापा ही नहीं, इन 8 वजहों से भी हो सकता है ब्रेस्‍ट कैंसर, जानें क्‍या हैं ये

5. सूर्य की रोशनी से त्‍वचा को सुरक्षित रखें

अक्‍सर हमें ये बताया जाता है कि 'सूर्य की किरणों से हमें विटामिन डी मिलता है।' मगर इसके दुष्‍प्रभाव भी हैं। अगर आप सूर्योदय के समय सनबाथ लेते हैं तो यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहतर होता है, मगर जब आप पूरे दिन यानी 10 बजे से शाम 4 बजे तक धूप रहते हैं (अधिकांशत:) तो यह त्‍वचा के कैंसर को जन्‍म दे सकता है। इसलिए धूप में निकलते समय खुद को सही तरीके से ढककर निकलें, सिर पर गोलाकार कैप का इस्‍तेमाल करें, सनस्‍क्रीन का प्रयोग करें के साथ आंखों को यूवी किरणों से बचाने के लिए सनग्‍लास का जरूर प्रयोग करें।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में कैंसर होने के संकेत हैं शरीर में दिखने वाले ये 15 लक्षण, आप भी जानें

6. रेगुलर चेकअप 

सही खानपान, नियमित एक्‍सरसाइज, सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाव, शराब और तम्‍बाकू से दूरी बनाने के अलावा सबसे जरूरी है 'रेगुलर हेल्‍थ चेकअप'। इसके अंतर्गत आप शरीर के लक्षणों को पहचान कर संबंधित डॉक्‍टर से सलाह ले सकते हैं। कैंसर से बचने के लिए एक्‍सपर्ट के सुझावों के अनुसार आप 'कैंसर स्‍क्रीनिंग टेस्‍ट' भी करा सकते हैं। विशेषज्ञ मानते हैं कि समय-समय पर स्‍क्रीनिंग टेस्‍ट जरूरी है।

Read More Articles On Cancer In Hindi

Disclaimer